लाइव टीवी

‘जामताड़ा’ वेब सीरीज से आइडिया लेकर लोगों को चूना लगाने वाले दो शातिर गिरफ्तार

भाषा
Updated: January 25, 2020, 3:40 PM IST
‘जामताड़ा’ वेब सीरीज से आइडिया लेकर लोगों को चूना लगाने वाले दो शातिर गिरफ्तार
पुलिस ने एक युवक और उसकी बैंक कर्मचारी दोस्त को क्रेडिट कार्ड फ्रॉड के आरोप में गिरफ्तार किया है ('जामताड़ा' वेब सीरीज का स्क्रीन शॉट)

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के मुताबिक हाल ही में रिलीज हुई 'जामताड़ा' वेब सीरीज (Jamtara Web Series) से आइडिया लेकर नए क्रेडिट कार्ड (Credit Card) पर मुफ्त उपहार देने के बहाने दो शातिरों को कथित रूप से धोखा देने के लिए गिरफ्तार किया गया है

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने क्रेडिट कार्ड (Credit Card) के नाम पर फ्रॉड (Fraud) करने वालों का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने राजौरी गार्डन (Rajori Garden) निवासी राजन सैनी (26) और उसकी रिश्तेदार करोल बाग (Karol Bagh) निवासी प्रीति (20) को इस मामले में गिरफ्तार किया है. आरोपी प्रीति एक बैंक में कार्यरत है, वो अपने सहयोगी राजन सैनी को नए क्रेडिट कार्ड लेने वाले ग्राहकों की जानकारी मुहैया कराती थी.

पुलिस के मुताबिक हाल ही में रिलीज हुई 'जामताड़ा' वेब सीरीज (Jamtara Web Series) से आइडिया लेकर नए क्रेडिट कार्ड पर मुफ्त उपहार देने के बहाने इन दोनों को कथित रूप से धोखा देने के लिए गिरफ्तार किया गया है. पूछताछ में पता चला कि आरोपी राजन सैनी पूर्व में एक कॉल सेंटर में काम कर चुका था, जहां उसने बैंक अधिकारियों के रूप में बात करने का तरीका सीखा था. वो प्रीति द्वारा उपलब्ध कराए गए मोबाइल नंबरों और अन्य जानकारियों के आधार पर ग्राहकों को बैंक कर्मचारी बनकर फोन करता था.

पुलिस ने बताया कि गुरुवार को एक महिला ने शिकायत दर्ज कराई कि बीते 19 जनवरी को उसे नया क्रेडिट कार्ड मिला है. सोमवार को दोपहर तीन बजकर 20 मिनट बजे उसे आशीष नाम से एक शख्स का फोन आया, जिसने दावा किया कि वो बैंक कर्मचारी है. उसने कहा कि नए क्रेडिट कार्ड के लिए केवाईसी को सत्यापित (वेरीफाई) और अपडेट करना था.

news18
दिल्ली पुलिस ने खुलासा किया कि गिरफ्तार दोनों आरोपी जामताड़ा वेब सीरिज से आइडिया लेकर लोगों से क्रेडिट कार्ड के नाम पर फ्रॉड करते थे (प्रतीकात्मक तस्वीर)


41,480 रुपए के अनधिकृत खर्च का मैसेज मिला
महिला ने अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर से आरोपी को क्रेडिट कार्ड नंबर, सीवीवी और ओटीपी दिया. अधिकारी ने कहा कि कुछ मिनटों बाद उसे बैंक से एक मैसेज मिला जिसमें लिखा था कि उसके कार्ड से 41,480 रुपए खर्च किए गए हैं. जांच के दौरान, पुलिस ने पाया कि राशि का उपयोग वन प्लस 7 टी प्रो मोबाइल फोन खरीदने के लिए किया गया था. पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से तीन मोबाइल फोन, आठ सिम कार्ड और एक सीपीयू बरामद किया है.

ये भी पढ़ें - 'बग्गा, बग्गा हर जगह' गाने पर फंसे BJP प्रत्याशी तजिंदर, EC से नोटिस जारी

CPM कार्यकर्ता ने चौराहे पर खुद को लगाई आग, थैली में मिले CAA विरोधी पर्चे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 25, 2020, 10:27 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर