Unlock 1.0 : नोएडा-दिल्ली बॉर्डर रहेगा सील, लेकिन गाजियाबाद में लिमिटेड एंट्री
Delhi-Ncr News in Hindi

Unlock 1.0 : नोएडा-दिल्ली बॉर्डर रहेगा सील, लेकिन गाजियाबाद में लिमिटेड एंट्री
देश में कब और कैसे खोला जाए लॉकडाउन

Unlock 1.0: नोएडा और गाजियाबाद में यदि किसी सोसाइटी में एक केस मिला तो वह टावर सील होगा. COVID-19 के एक से ज्यादा केस मिलने पर संबंधित टावर समेत पार्क, जिम, स्वीमिंग पूल, बैंक्वेट हॉल आदि भी तत्काल बंद कर दिए जाएंगे.

  • Share this:
गाजियाबाद. देशभर में लॉकडाउन का पांचवां चरण (Lockdown 5.0) लागू होने की खबरों के बीच दिल्ली से गाजियाबाद (Delhi-Ghaziabad) और नोएडा (Noida) आने-जाने वालों के लिए बड़ी खबर आई है. गाजियाबाद जिला प्रशासन ने आज रात जारी अपने एक आदेश में कहा है कि दिल्ली-गाजियाबाद के बीच आवागमन पहले की तरह नियंत्रित रहेगा. यानी Unlock 1.0 के बाद भी दिल्ली से गाजियाबाद आने-जाने की लिमिटेड इंट्री ही रहेगी. वहीं नोएडा के डीएम सुहास एलवाई ने लॉकडाउन 5.0 के मद्देनजर कहा है कि दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पहले की तरह ही सील रहेगा. डीएम सुहास एलवाई ने कहा कि लॉकडाउन- 5 के तहत 1 जून से गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जनहित में नोएडा और दिल्ली सीमा को सील रखने का निर्णय लिया है.

गाजियाबाद जिला प्रशासन ने आज देर रात जारी अपने आदेश में कहा है कि कोरोना वायरस (COVID-19) से संक्रमण के मामलों को लेकर अब यदि किसी सोसाइटी में एक केस पॉजिटिव पाया जाता है तो वह टावर ही सील किया जाएगा, न कि पूरी सोसाइटी. प्रशासन के आदेश में यह भी कहा गया है कि अगर एक से ज्यादा टावर में कोरोना वायरस के संक्रमित मरीज पाए जाते हैं, तो उन टावरों को तो सील किया ही जाएगा. इसके साथ ही पार्क, जिम, स्वीमिंग पूल, बैंक्वेट हॉल आदि को भी कंटेनमेंट जोन में शामिल करते हुए तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया जाएगा. प्रशासन के आदेश में कहा गया है कि कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए जिले में पहले जो आदेश जारी किए गए थे, वही लागू रहेंगे. इसके अलावा लॉकडाउन 5.0 को लेकर 31 मई को उत्तर प्रदेश सरकार ने जो आदेश दिए हैं, वह सभी भी लागू होंगे.

नोएडा के डीएम ने दिया ये आदेश



इधर, लॉकडाउन 5.0 के लिए गृह मंत्रालय की गाइडलाइन जारी होने के बाद नोएडा के डीएम सुहास एलवाई ने कहा कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जिला प्रशासन ने दिल्ली-नोएडा बॉर्डर को सील ही रखने का फैसला किया है. डीएम ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले 20 दिनों में COVID-19 के जितने मामले मिले हैं, उसमें से 42 फीसदी मामलों में स्रोत दिल्ली का ही पाया गया है. इसलिए विभाग और पुलिस के साथ बैठक के बाद नोएडा-दिल्ली बॉर्डर को पहले की तरह ही सील रखने का निर्णय हुआ है. दिल्ली से नोएडा में वैलिड पास के आधार पर ही प्रवेश की अनुमति मिलेगी.



दुकानें खोलने के लिए यह है गाइडलाइन

नोएडा के डीएम ने बताया कि दुकानें और बाजार खोलने के संबंध में राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार जिले में जारी पिछले निर्देश बने रहेंगे. पहले की ही तरह शहरी क्षेत्रों में 50 फीसदी दुकानों को एकांतर के आधार पर खोलने की व्यवस्था लागू रहेगी. दुकानदारों और व्यापार मंडल के अनुरोध के आधार पर श्रम विभाग को व्यापारियों से परामर्श करने के बाद, साप्ताहिक अवकाश में बदलाव करने को कहा गया है. डीएम ने बताया कि पुलिस और स्वास्थ्य विभाग से विचार-विमर्श के बाद कंटेनमेंट जोन के बारे में फैसला किया जाएगा.

गाजियाबाद की ही तरह नोएडा में भी किसी सोसाइटी में कोरोना केस मिलने के नियम लागू होंगे. डीएम ने बताया कि अगर किसी सोसाइटी के एक टावर में कोरोना संक्रमित मरीज पाया जाता है, तो सिर्फ वह टावर सील किया जाएगा. लेकिन अगर एक से ज्यादा टावरों में केस मिले तो पार्क, जिम, स्वीमिंग पूल और बैंक्वेट हॉल सील किए जाएंगे.

(इनपुट - भाषा से भी)

ये भी पढ़ें-

बड़ी खबर: खुलेगा दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर, बिना पास के आवाजाही हो सकेगी

दिल्ली के 2.2 लाख कर्मचारियों की सैलरी पर संकट, डिप्टी CM ने सुझाया ये उपाय
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading