Home /News /delhi-ncr /

UP Election 2022- उत्तर प्रदेश में भाजपा ने विवादित सीटों पर टिकट रोके, जानें क्या है पार्टी का प्लान?

UP Election 2022- उत्तर प्रदेश में भाजपा ने विवादित सीटों पर टिकट रोके, जानें क्या है पार्टी का प्लान?

पार्टी सियासी समीकरण बैठाकर घोषणा करेगी.(प्रतीकात्मक)

पार्टी सियासी समीकरण बैठाकर घोषणा करेगी.(प्रतीकात्मक)

Uttar Pradesh Assembly Elections Elections- भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) ने उत्‍तर प्रदेश में विवादित सीटों (disputed seats) पर टिकट की घोषणा नहीं की है. माना जा रहा है कि पार्टी ने बगावत (rebellion) होने के डर से फिलहाल ऐसा कदम उठाया है. इनमें से ज्‍यादातर सीटें ऐसी हैं जो भाजपा के कब्‍जे में हैं और पार्टी किसी भी तरह इन सीटों को गंवाना नहीं चाह रही है. संभावना है कि कुछ विवादित सीटें पार्टी अपनी सहयोगी पार्टियों को दे सकती है, जिससे बगावत न हो और सहयोगी पार्टी का उम्‍मीदवार आसानी से जीतकर दर्ज कर सके.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ. उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Elections) में भारतीय जनता पार्टी भाजपा (BJP) ने विवादित सीटों (disputed seats) पर टिकट का ऐलान नहीं किया है. माना जा रहा है कि पार्टी ने बगावत (reइbellion) होने के डर से ऐसा कदम उठाया है. इनमें से ज्‍यादातर सीटें ऐसी हैं, जो भाजपा के कब्‍जे में हैं और पार्टी किसी भी तरह इन सीटों को गंवाना नहीं चाह रही है, इसलिए पूरा सियासी गुणाभाग करके पार्टी उम्‍मीदारों की घोषणा करेगी. संभावना है कि कुछ विवादित सीटें पार्टी अपनी सहयोगी पार्टियों को दे सकती है, जिससे बगावत न हो और सहयोगी पार्टी के उम्‍मीदवार आसानी से जीतकर दर्ज कर सके.

उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Elections) के लिए पहले और दूसरे चरण के लिए अधिसूचना जारी हो चुकी है और तीसरी और चौथी की जारी होने की डेट करीब आ रही है. ऐसे में भाजपा उम्‍मीदवारों की घोषणा भी क्रमवार करती जा रही है. लेकिन कुछ सीटों पर टिकट रोके गए हैं. कई इलाके ऐसे भी हैं, जहां की आसपास की सभी सीटों पर उम्‍म्‍ीदवार की घोषणा हो चुकी है, लेकिन एक सीट रोकी गई है. इसका कारण टिकट को लेकर कई मजबूत दावेदार माने जा रहे हैं.

ऐसे में पार्टी किसी एक टिकट देकर दूसरे संभावति उम्‍मीदवारों को नाराज कर बगावत का मौका नहीं देना चाह रही है. सूत्रों का मानना है कि ऐसी कुछ सीटें भाजपा अपने सहयोगियों को देना चाह रही है, जिससे सांप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे, यानी पार्टी के संभावित उम्‍मीदवार नाराज भी न हों और सभी मिलकर सहयोगी दल के उम्‍मीदवार को जिता सकते हैं, जिससे सीट भाजपा के खाते में ही रहेगी.

इस क्रम में उत्‍तर प्रदेश के फतेहपुर क्षेत्र की बिंदकी विधानसभा सीट है. यह सीट भाजपा के कब्‍जे में है. इलाके की सभी सीटों पर उम्‍मीदवारों की घोषणा हो चुकी है, लेकिन बिंदकी सीट छोड़ दी गई है. माना जा रहा है कि पार्टी मौजूदा विधायक को बदलना चाह रही है लेकिन संभावित दावेदारों की संख्‍या अधिक है, इसलिए पार्टी किसी एक को टिकट देकर बगावत का मौदा नहीं देना चाह रही है. सूत्रों के अनुसार पार्टी यह सीट अपना दल (एस) को देना चाह रही है, जिससे बगावत की संभावना खत्‍म हो जाए. इसी तरह जहानाबाद सीट भी है. यह सीट पिछले चुनाव में अपना दल के पास थी और पार्टी ने जीत दर्ज की है. संभावना व्‍यक्‍त की जा रही है कि इस सीट को निषाद पार्टी को सौंपा जा सकता है, यहां पर निषाद मतदातओं की संख्‍या अधिक है.

इसी तरह उत्‍त्‍तर प्रदेश विधानसभा अध्‍यक्ष हृदय नारायण दीक्षित की उन्‍नाव से भगवंत नगर सीट है. इस सीट पर भी उम्‍मीदवार की घोषणा नहीं की गई है. वहीं, पार्टी ने बंुदेलखंड की सभी 19 में से 17 सीटों पर उम्‍मीदवारों की घोषणा कर दी है. मऊरानीपुर और चित्रकूट की सीटों पर उम्‍मीदवारों की घोषणा रोक दी गई है. उत्‍तर प्रदेश में करीब 10 से अधिक सीटें ऐसी हैं, जहां पर अधिक दावेदार होने की वजह से पार्टी बगावत का मौका नहीं देना चाह रही है. वैसे भी भाजपा सहयोगी दलों अपना दल (एस) को 20 और निषाद पार्टी को 15 सीटें देने संभावना है. अपना दल को 2017 में 11 सीटें दी गई थीं.

उत्‍तर प्रदेश में कब-कब है वोटिंग

बता दें कि उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए सात चरणों में मतदान 10 फरवरी से शुरू होगा. उत्तर प्रदेश में अन्य चरणों में मतदान 14, 20, 23, 27 फरवरी, 3 और 7 मार्च को होगा. वहीं यूपी चुनाव के नतीजे 10 मार्च को आएंगे. 2017 के चुनाव में बीजेपी ने यहां की 403 में से 325 सीटों पर जीत दर्ज की थी. सपा और कांग्रेस ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था. सपा ने 47 और कांग्रेस ने 7 सीटें ही जीती थीं. मायावती की बसपा 19 सीटें जीतने में कामयाब रही थी. वहीं 4 सीटों पर अन्य का कब्जा हुआ था

Tags: Uttar pradesh assembly election, Uttar Pradesh Elections

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर