• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • UP elections: यूपी मंत्रिमंडल विस्तार में दिखी सीएम योगी आदित्यनाथ की सोशल इंजीनियरिंग

UP elections: यूपी मंत्रिमंडल विस्तार में दिखी सीएम योगी आदित्यनाथ की सोशल इंजीनियरिंग

सरकार ने विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कैबिनेट विस्तार से साधा जातीय समीकरण.

सरकार ने विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कैबिनेट विस्तार से साधा जातीय समीकरण.

Yogi cabinet expansion : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रिमंडल में 7 नए चेहरों को जगह दी है, जिनमें 1 ब्राह्मण, 3 ओबीसी, 2 एससी और 1 एसटी चेहरे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

नई दिल्ली. केंद्र की मोदी सरकार की तर्ज पर यूपी की योगी सरकार ने जातीय समीकरण साधते हुए मंत्रिमंडल में विस्तार किया है. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रिमंडल में 7 नए चेहरों को जगह दी है, जिनमें 1 ब्राह्मण, 3 ओबीसी, 2 एससी और 1 एसटी चेहरे हैं.

7 नए चेहरों में हाल में कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए ब्राह्मण चेहरे जितिन प्रसाद को कैबिनेट मंत्री के रूप में शामिल किया गया है. ब्राह्मणों की नाराजगी झेल रही भाजपा जितिन प्रसाद के माध्यम से उनकी नाराजगी दूर करना चाहती है. जितिन शाहजहांपुर के क्षेत्र में खासा प्रभाव रखते हैं.

इन्हें भी पढ़ें : यूपी चुनाव से पहले योगी का बड़ा दांव, सामाजिक समीकरण साध जीतेंगे 2022 की जंग!

दिनेश खटीक, मेरठ की हस्तिनापुर से विधायक हैं. एससी समुदाय से आते हैं. खटीक समाज की अगर बात करें तो यूपी में पश्चिम से लेकर मध्य और पूरब तक कई विधानसभाएं ऐसी हैं जहां इनका वोट है. छत्रपाल गंगवार कुर्मी समाज से आते हैं. बरेली से विधायक हैं. कुछ दिन पहले केंद्र से संतोष गंगवार की छुट्टी हुई थी, तो अब छत्रपाल गंगवार को जगह देकर कुर्मी वोटों को साधने की कोशिश की गई है.

इन्हें भी पढ़ें : कांग्रेस से भाजपा में आये जितिन प्रसाद बने कैबिनेट मिनिस्टर

धर्मवीर प्रजापति आगरा से आते हैं. प्रजापति समुदाय का वैसे तो वोट के हिसाब से बहुत बड़ा राजनीतिक रसूख नहीं है, लेकिन बीजेपी ने इन्हीं छोटे-छोटे वर्गों को साधकर फिर से सत्ता में बने रहने की कोशिश की है. संजीव कुमार गोंड जनजाति समाज से आते हैं. सोनभद्र क्षेत्र से इनके जरिए जनजातीय समाज को अपने साथ जोड़े रखने की कवायद है. जनजातीय वर्ग का पूर्वी यूपी में अच्छा खासा वोट बैंक है.

इन्हें भी पढ़ें : CM योगी का किसानों को बड़ा तोहफा, 25 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ा गन्ना मूल्य

पलटूराम एससी वर्ग से आते हैं. जाटब समुदाय की अगर बात करें तो पश्चिम और मध्य उत्तर प्रदेश में खासा असर है. मायावती भी जाटब समुदाय से आती हैं तो ऐसे में पलटूराम को जगह देकर जाटब समुदाय को साधने की कोशिश की गई है. संगीता बिंद निषाद समुदाय से हैं. पहले निषाद पार्टी के साथ गठबंधन और अब संगीता बिंद को मंत्री बनाकर निषादों को साधने की कवायद की गई. तकरीबन प्रदेश की 100 के आसपास सीटें ऐसी हैं, जहां निषादों के वोट हैं.

केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में यूपी का चेहरा

कुछ दिन पूर्व केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में यूपी से 7 चेहरों को जगह दी गई थी, उसमें छोटे-छोटे वर्गों को जगह दी गई. और अब उसी आधार पर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ ने सोशल इंजीनियरिंग करते हुए छोटे-छोटे ऐसे वर्गों के लोगों को मंत्रिमंडल विस्तार में जगह दी है, जिनका राजनीतिक रसूख तो बहुत बड़ा नहीं, लेकिन वे कई विधानसभाओं को प्रभावित करते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज