UPSC Result 2019: दिल्ली पुलिस का परचम, बेटियां बनीं टॉपर तो कांस्टेबल बना अफसर

दिल्ली पुलिस में काम करने वाले दो इंसपेक्टरों की बेटियां ने भी परचम लहराया है.
दिल्ली पुलिस में काम करने वाले दो इंसपेक्टरों की बेटियां ने भी परचम लहराया है.

सिविल सेवा परीक्षा 2019 का रिजल्ट (Civil Services Examination 2019 result) दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण है. इस बार के नतीजे में दिल्ली पुलिस के एक कांस्टेबल ने 645वीं रैंक हासिल की है तो वहीं दिल्ली पुलिस के दो कर्मियों की बेटियों ने भी परचम लहराया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 8:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने मंगलवार को सिविल सेवा परीक्षा 2019 का रिजल्ट (Civil Services Examination 2019 result) जारी कर दिया है. इस बार का रिजल्ट दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण रहा है. इस बार के नतीजों में दिल्ली पुलिस के एक कांस्टेबल ने 645वीं रैंक हासिल की है तो वहीं दिल्ली पुलिस में काम करने वाले दो कर्मियों की बेटियों ने भी परचम लहराया है. दिल्ली पुलिस के द्वारका डीसीपी दफ्तर में तैनात एक ASI राजकुमार की बेटी विशाखा यादव (Vishakha Yadav) ने छठी रैंक हासिल की है. वहीं एक अन्य पुलिसकर्मी की बेटी ने 33वीं रैंक हासिल की है. आपको बता दें कि इस बार कुल 829 उम्मीदवारों का चयन किया गया है.

कांस्टेबल बना आईएएस
दिल्ली पुलिस की पीसीआर यूनिट में तैनात कांस्टेबल फिरोज आलम (Firoz Alam) ने 645वां रैंक हासिल किया है. दिल्ली पुलिस के द्वारका डीसीपी दफ्तर में तैनात ASI की बेटी विशाखा यादव ने छठी रैंक हासिल की है. विशाखा यादव का यह तीसरा प्रयास था. इससे दो प्रयासों में विशाखा ने प्रारंभिक परीक्षा भी नहीं पास की थी. वहीं दिल्ली पुलिस के विजिलेंस विभाग में कार्यरत सुखदेव सिंह की बेटी नवनीत मान (Navneet Mann) ने 33वीं रैंक हासिल कर दिल्ली पुलिस का नाम ऊंचा किया है. दिल्ली पुलिस के आलाधिकारियों ने इनकी कामयाबी पर मुबारकबाद दी है.





बता दें कि विशाखा यादव उत्तर प्रदेश की मथुरा की रहने वाली हैं. विशाखा ने बीटेक दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनिरिंग से की है. बेंगलुरु में दो साल की इंजीनियरिंग की नौकरी करने के बाद विशाखा ने यूपीएससी की परीक्षा देने का फैसला किया. पिछले तीन-चार से विशाखा यूपीएससी एग्जाम की तैयारी कर रही थीं. विशाखा ने तीसरे प्रयास में छठी रैंक हासिल की है. इससे पहले दो प्रयास में विशाखा ने यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा भी पास नहीं कर सकी थीं. विशाखा ने अपने इंटरव्यू में कहा है कि उनके पिता दिल्ली पुलिस में काम करते हैं. यही वजह है कि मैंने यूपीएससी के लिए मन बनाया. मैं फाइनेंशियल स्वतंत्रता हासिल करना चाहती थी.

ये भी पढ़ें: UPSC Result 2019: मीलिए विशाखा यादव से, पहले दो प्रयासों में प्रीमिम्स भी पास नहीं की तीसरे प्रयास में हासिल की छठी रैंक

यूपीएससी ने 4 अगस्त 2020 को परिणामों को लेकर जो नोटिस जारी किया है उसमें हरियाणा के प्रदीप सिंह (Pradeep Singh) ने पहला स्थान हासिल किया है. वहीं दूसरे स्थान पर जतिन किशोर (Jatin Kishore) और तीसरे स्थान पर प्रतिभा वर्मा (Pratibha Verma) रही हैं. इस बार के सिविल सेवा परिणामों में कुल 829 उम्मीदवारों ने सफलता हासिल की है. इनमें से 304 उम्मीदवार सामान्य वर्ग से हैं. पहली बार ईडब्ल्यूएस वर्ग में 78 उम्मीदवारों ने परचम लहराया है. वहीं 251 ओबीसी, 129 एससी और 67 उम्मीदवार एसटी वर्गों से पास हुए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज