Home /News /delhi-ncr /

Delhi: शहरी विकास मंत्रालय का शहरों को कूड़ा फ्री बनाने पर फोकस, पेश किया रोड मैप

Delhi: शहरी विकास मंत्रालय का शहरों को कूड़ा फ्री बनाने पर फोकस, पेश किया रोड मैप

अब साउथ दिल्ली नगर निगम ने केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के साथ मिलकर कूड़ा मुक्त शहर (Garbage Free City) बनाने पर कार्यशाला का आयोजन किया गया. (File Photo)

अब साउथ दिल्ली नगर निगम ने केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के साथ मिलकर कूड़ा मुक्त शहर (Garbage Free City) बनाने पर कार्यशाला का आयोजन किया गया. (File Photo)

Garbage Free City: स्वच्छ भारत मिशन के निदेशक बिनय कुमार झा ने नागरिकों के कल्याण के लिए निगम सेवाओं में सुधार एवं ईमानदार प्रयासों में निरंतरता पर बल दिया. उन्होंने शत प्रतिशत कूड़े के स्त्रोत पर निस्तारण से ही हम एक सुदृढ़ कचरे प्रबंधन के परिस्थितिकी तंत्र की स्थापना कर सकते हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. दिल्ली में बढ़ते कूड़े (Garbage) की मात्रा को कम करने और उसके निस्तारण के लिए प्रयास और तेज किए जा रहे हैं. दिल्ली की नगर निकायों की ओर से आए दिन कूड़ा निस्तारण (Garbage Disposal) को लेकर कई नई-नई योजनाओं पर भी काम किया जा रहा है. ऐसे में अब साउथ दिल्ली नगर निगम (SDMC) ने केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के साथ मिलकर कूड़ा मुक्त शहर (Garbage Free City) बनाने पर कार्यशाला का आयोजन किया गया. इस दौरान इस मामले पर विस्तार से चर्चा की गई.

    SDMC ने केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय (Ministry of Urban Development)के साथ मिलकर स्त्रोत पर कूडे के निस्तारण द्वारा शहरों को कचरा मुक्त करने पर संगोष्ठी के साथ-साथ प्रशिक्षण कार्यक्रम का भी आयोजन किया. कार्यक्रम में कचरा मुक्त शहर के स्टार रेटिंग के सभी आयामों पर चर्चा की गई.

    कार्यक्रम में आई क्यू वी आई ए द्वारा स्त्रोत पर कचरे के निस्तारण से कचरा मुक्त शहर (Garbage Free City) के लक्ष्य की प्राप्ति पर विस्तृत प्रस्तुति दी गई. स्वच्छ भारत मिशन के निदेशक बिनय कुमार झा एवं दक्षिणी निगम के आयुक्त ज्ञानेश भारती ने इसकी महत्ता एवं रूपरेखा से अवगत करवाया.

    ये भी पढ़ें: South MCD: ऑनलाइन E-Waste निपटारे में दिलचस्पी दिखा रही जनता, इतने लोगों ने किया पोर्टल पर रजिस्टर्ड

    एसबीएम निदेशक ने नागरिकों के कल्याण के लिए निगम सेवाओं में सुधार एवं ईमानदार प्रयासों में निरंतरता पर बल दिया. उन्होंने शत प्रतिशत कूड़े के स्त्रोत पर निस्तारण पर बल दिया तथा कहा कि इसके द्वारा ही हम एक सुदृढ़ कचरे प्रबंधन के परिस्थितिकी तंत्र की स्थापना कर सकते हैं. उन्होंने दक्षिणी निगम की क्षमता को रेखांकित करते हुए नवाचार की महता पर प्रकाश डाला तथा लक्ष्य की प्राप्ति के लिए स्थानीय समाधान एवं सर्वोत्तम प्रथाएं अपनाने पर बल दिया.

    ये भी पढ़ें: हर वार्ड में घर-घर से उठेगा कूड़ा, MCD ने शुरू की गीला-सूखा कूड़ा उठाने की योजना

    आयुक्त ज्ञानेश भारती ने स्वच्छ भारत की दिशा में कार्य करने वाले निगम कर्मचारियों के प्रयासों की सराहना की जिसके द्वारा दक्षिणी निगम नागरिकों के जीवन को बेहतर बनाने की दिशा में कार्य कर रहा है.

    इसके बाद आई क्यू वी आई ए की टीम ने जीएफसी रेटिंग के विभिन्न आयामों जैसे उसकी व्याख्या, महत्वपूर्ण बिंदु और विशेषताओं पर विस्तृत प्रस्तुति दी एवं इसके आकलन प्रणाली के बारे में भी बताया.इसके वार्ड एवं शहर के स्तर पर विभिन्न मापदंडों जैसे कि हर रोज झाड़ू लगाना, कूड़े दान का प्रयोग, गीला कूड़े के प्रसंस्करण उपकरण, तय जगह पर कूड़ा न डालने पर दंड के प्रावधान, घरेलू हानिकारक कूड़े का वैज्ञानिक तरीके से निस्तारण, गीले सूखे कूड़े का निस्तारण, शिकायतों का स्वच्छता एप के माध्यम से निस्तारण, स्त्रोत पर कूड़े का निपटान जैसे बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा हुई.

    Tags: Delhi MCD, Garbage, MCD, Ministry of Urban Development

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर