बीवी को ब्लॉक प्रमुख और खुद प्रधान बनने के लिए Delhi-NCR में चुरा रहे थे कार

गैंग नई कार को बेच देता था और पुरानी कार के पॉर्टस निकालकर अलग-अलग बेचते थे. (Demo Pic)

गैंग नई कार को बेच देता था और पुरानी कार के पॉर्टस निकालकर अलग-अलग बेचते थे. (Demo Pic)

चुनाव लड़न के लिए मोटी रकम की जरूरत होगी, यह सोचकर दोनों शातिर दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में कार चुरा रहे थे. पुलिस ने इनके पास से कुछ कारें भी बरामद की हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 2, 2021, 11:25 AM IST
  • Share this:
नोएडा. सेक्टर-24 की पुलिस (Noida Police) ने एक ऐसे गैंग को पकड़ा है जो दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में कार चुराता था. गैंग के शातिरों से हुई पूछताछ में बड़ा खुलासा हुआ है. शातिरों में से एक अपनी बीवी को बुलंदशहर (Bulandshahr) के एक ब्लॉक का प्रमुख बनवाना चाहता था. इसके लिए उसने दावेदारी भी कर दी थी. दूसरा शातिर खुद प्रधान बनना चाहता है, लेकिन इसके लिए मोटी रकम की जरूरत होगी. यह सोचकर दोनों शातिर दिल्ली-एनसीआर में कार चुरा रहे थे. पुलिस ने गैंग के पास से कुछ कारें भी बरामद की हैं.

पुलिस के अनुसार, सभी शातिर आरोपी बीते 20 साल से दिल्ली-एनसीआर में कार चुरा रहे हैं. कई बार पुलिस के हत्थे भी चढ़ चुके हैं. यह बड़े पैमाने पर कार चुराकर उन्हें बेच चुके हैं, लेकिन पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए यह सियासी रसूख हासिल करना चाहते थे.

इसके लिए गैंग का सरगना अपनी बीवी को ब्लॉक प्रमुख बनवाना चाहता था. इसी के चलते उसने कुछ महीने पहले ही अपनी बीवी के नाम से ब्लॉक प्रमुख पद की दावेदारी कर दी थी. साथ ही दूसरे सदस्य ने ग्राम प्रधान पद का चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया था.

नई कार बेचते थे और पुरानी के पार्ट्स
आरोपियों ने पुलिस को बताया कि उनका निशाना सबसे पहले नए मॉडल की कार होती थी. नई कार चुराते ही उसके इंजन और चेसिस नंबर को घिसकर दूसरा नंबर लगा देते थे. इसके बाद फर्जी कागज बनवाकर कार को बेच दिया जाता था. इस तरह की कार के अच्छे दाम मिल जाते थे, लेकिन पुरानी कार के सिर्फ पार्ट्स बिकते थे. बाकी का सामान कबाड़ के भाव जाता था. पुलिस की मानें तो यह गिरोह अब तक सैकड़ों कार चुराकर बेच चुका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज