होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /गाजियाबाद के 3 बस अड्डों में मिलेंगी एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं, 2 वर्षों में इतना बदल जाएगा शहर!

गाजियाबाद के 3 बस अड्डों में मिलेंगी एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं, 2 वर्षों में इतना बदल जाएगा शहर!

जनवरी में निर्माण कंपनी को टेंडर दिया जाएगा.

जनवरी में निर्माण कंपनी को टेंडर दिया जाएगा.

उत्‍तर प्रदेश परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक एके सिंह के अनुसार कौशांबी, गाजियाबाद और साहिबाबाद बस अड्डों को एयरपोर्ट ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

30000 से 40000 यात्रियों का रोजाना है आवागमन
रेलवे स्‍टेशन भी विकसित किया जा रहा है
अगले वर्ष रैपिड रेल चालू हो जाएगी

गाजियाबाद. एनसीआर के गाजियाबाद शहर में अगले दो वर्षों में कई बदलाव होने जा रहे हैं. यह शहर सुविधाओं के मामले में पीछे नहीं रहेगा. शहर के तीनों बस अड्डों का कायाकल्‍प होने जा रहा है. इन बस अड्डों में एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं मिलेंगी. पूरे प्रोजेक्‍ट में 484 करोड़ खर्च होने का अनुमान है. उत्‍तर प्रदेश में 23 बस अड्डों को पीपीपी मॉडल के तहत विकसित किया जा रहा है, टेंडर निकाल दिए गए हैं. इसके साथ ही, दो वर्षों में रेलवे स्‍टेशन विकसित हो जाएगा और देश की पहली रैपिड रेल भी चालू हो जाएगी.

उत्‍तर प्रदेश परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक एके सिंह के अनुसार कौशांबी, गाजियाबाद और साहिबाबाद बस अड्डों को एयरपोर्ट जैसी सुविधाओं के लिए चिहिन्‍त किया गया है. यहां होटल. शॉपिंग मॉल्स, अंडर ग्राउंड पार्किंग, रेस्टोरेंट, कैफेटेरिया समेत कई तरह की सुविधाएं मिलेंगी.

261 करोड़ रुपये से कौशांबी बस अड्डा विकसित होगा
कौशांबी बस अड्डा आनंद विहार रेलवे स्‍टेशन दिल्‍ली के करीब है. इसलिए यहां ज्यादा यात्रियों को जोड़ने के लिए आनंद विहार स्‍टेशन से सब-वे तैयार किया जाएगा, जिसके बाद स्‍टेशन से कौशांबी बस अड्डा आने के लिए यात्रियों को फुटओवर ब्रिज और सड़क पार नहीं करनी पड़ेगी.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

दिल्ली-एनसीआर
दिल्ली-एनसीआर

साहिबाबाद बस अड्डा होगा खास
क्षेत्रीय प्रबंधक के अनुसार गाजियाबाद में सबसे बड़ा बस अड्डा साहिबाबाद में बनेगा. साहिबाबाद बस अड्डा 17 एकड़ में फैला है. यह बस अड्डा रैपिड रेल स्टेशन से भी कनेक्ट होगा. इससे वसुंधरा, साहिबाबाद, मोहन नगर, कड़कड़ मॉडल, झंडापुर, सौर ऊर्जा मार्ग, महाराजपुर और औद्योगिक क्षेत्र के लोगों को फायदा मिलेगा. अगले दो वर्षो में यह ट्रांसपोर्ट का बड़ा हब होगा. इसे 161 करोड़ रुपये की लागत से विकसित किया जाएगा.

सबसे छोटा होगा गाजियाबाद बस अड्डा
गाजियाबाद बस अड्डे का क्षेत्रफल सबसे कम है, इसलिए यह शहर का सबसे छोटा बस अड्डा होगा. इसे 62 करोड़ रुपये की लागत से विकसित किया जा रहा है.

वर्ष 2025 तक तैयार हो जाएंगे बस अड्डे
गाजियाबाद के तीनों बस अड्डे अगले दो वर्ष में बनकर तैयार होंगे. लखनऊ मुख्यालय के प्रधान प्रबंधक निगम यजुवेंद्र कुमार के अनुसार 30 जनवरी को टेंडर के लिए बोली होगी, जो कंपनी सक्षम होगी, उसे यह जिम्मेदारी दी जाएगी. बस अड्डे को विकसित करने में दो वर्ष का समय लगेगा.

30 हजार से 40 हजार यात्रियों का रोजाना आवागमन
गाजियाबाद के तीनों बस अड्डों से रोजाना 30 हजार से 40 हजार यात्रियों का अवागमन होता है. यहां से करीब 878 बसों का रोजाना संचालन होता है. बस अड्डे विकसित होने से यात्रियों की संख्‍या में और इजाफा होगा.

रेलवे स्‍टेशन पर भी एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं
रेल मंत्रालय (Rail Ministry) राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे यूपी के गाजियाबाद रेलवे स्टेशन (Ghaziabad Railway Station) का भी अब कायाकल्प करने जा रही है. दिल्ली-एनसीआर का गाजियाबाद रेलवे स्टेशन भी अब एयरपोर्ट (Airport) की तरह चमकने लगेगा. इस स्टेशन को 350 करोड़ रुपये की लागत से बनाया जाएगा. यह रेलवे स्टेशन आने वाले दिनों में आधुनिक सुविधाओं से लैस होगा.

रैपिड रेल होगी शुरू
अगले वर्ष मार्च में गाजियाबाद में देश की पहली रैपिड रेल शुरू हो जाएगी. साहिबाबाद से दुहाई तक 17 किमी में ट्रेन का संचालन चालू होगा. वर्ष 2025 तक यह सराय कालेखां से मेरठ तक 82 किमी. में ट्रेन दौड़ने लगेगी. इस तरह अगले दो वर्ष में गाजियाबाद ट्रांसपोर्ट का हब बन जाएगा.

Tags: Ghaziabad News

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें