लाइव टीवी

देश कैसे बनेगा विश्व गुरु, जब केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में प्रोफेसर के 6688 पद हैं खाली

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: February 4, 2020, 10:04 PM IST
देश कैसे बनेगा विश्व गुरु, जब केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में प्रोफेसर के 6688 पद हैं खाली
फाइल फोटो.

सेंट्रल यूनिवर्सिटी (Central University) के अलावा इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (IGNU) में भी प्रोफेसर और कर्मचारियों के पद खाली हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2020, 10:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के एक दर्जन से ज्यादा केन्द्रीय विश्वविद्वालय आजकल सुर्खियों में हैं. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नेशनल सिटीजन रजिस्टर (NRC) के चलते वहां विरोध-प्रदर्शन चल रहा है. जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU), अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU), दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) और जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी (Jamia University) के सैकड़ों छात्र सड़कों पर उतरे हुए हैं.

देश को विश्व गुरु बनाने की बात चल रही है. लेकिन केन्द्रीय विश्वविद्यालयों (Central University) में हजारों की संख्या में प्रोफेसरों के पद खाली चल रहे हैं. इतना ही नहीं यूनिवर्सिटी में काम करने वाले बाबू और लाइब्रेरियन सहित दूसरे कर्मचारियों के भी 12 हजार से अधिक पद खाली पड़े हैं. इतना ही नहीं इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी में भी प्रोफेसर और कर्मचारियों के पद खाली हैं.

AMU, JNU सहित 40 केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में खाली हैं प्रोफेसर के पद

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अनुसार देशभर में 40 केन्द्रीय विश्वविद्यालय हैं. अकेले यूपी में चार और दिल्ली में तीन यूनिवसिर्टी हैं. हाल ही में मंत्रलय की ओर से लोकसभा में बताया गया है कि सभी यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर, सहायक और एसोसिएट प्रोफेसर के 6688 पद खाली हैं. हालांकि इसके लिए मंत्रालय और यूजीसी के माध्यम से सभी यूनिवर्सिटी को प्रोफेसर के खाली पद जल्द से जल्द भरने के लिए चार से पांच पत्र भेजे जा चुके हैं. लेकिन मौजूदा वक्त में अभी तक यूनिवर्सिटी में यह पद खाली चल रहे हैं.

कहां कितने टीचर की कमी है.


लाइब्रेरियन और र्क्लक सहित 12323 कर्मचारियों की भी है कमी

लोकसभा में मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार देश के 40 केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में लाइब्रेरियन और र्क्लक सहित सभी तरह के करीब 12323 कर्मचारियों के पद भी खाली चल रहे हैं.
कहां, कितने कर्मचारियों की कमी है.


इन पदों पर भी कर्मचारियों की भर्ती की जानी है. कर्मचारियों की सबसे ज्यादा कमी बीएचयू और डीयू में है. तीन वर्ग में कर्मचारियों की भर्ती होती है. समूह क में 754, समूह ख में 2533 और समूह ग में 9036 पद कर्मचारियों के खाली हैं.

ये भी पढ़ें- Exclusive:आसमान में जाम हो गए थे बंगाल की खाड़ी में गिरे AN-32 एयरक्राफ्ट के कंट्रोल सिस्टम!

नागपुर रेलवे स्टेशन पर चूहे पकड़ने के लिए हर दिन 166 कर्मचारियों की तैनाती, खर्च होते हैं 1.45 लाख रुपये

सरकार के पास नहीं बाघ-मोर को राष्ट्रीय पशु-पक्षी बताने वाले दस्तावेज, उठाया यह कदम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 3:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर