लाइव टीवी

गोयल ने केजरीवाल पर साधा निशाना, बोले-अपनी नाकामी का ठीकरा पूर्वांचलियों पर फोड़ रहे हैं
Delhi-Ncr News in Hindi

Rachna Upadhyay | News18Hindi
Updated: September 30, 2019, 11:31 PM IST
गोयल ने केजरीवाल पर साधा निशाना, बोले-अपनी नाकामी का ठीकरा पूर्वांचलियों पर फोड़ रहे हैं
बिहार से दिल्ली में आकर रह रहे लोग दिल्ली के विकास में अपना योगदान दे रहे हैं-विजय गोयल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Chief Minister Arvind Kejriwal) की पूर्वांचलियों (Purvanchalis) के खिलाफ बिगड़े बोल के बाद सियासत तेज हो गई है. भाजपा के दिग्‍गज नेता विजय गोयल (Vijay Goel) का कहना है कि पिछले कुछ दिनों में दिल्ली के मुख्यमंत्री ने जिस तरह के बयान दिए उससे बिहार, उत्तर प्रदेश, पूर्वांचलियों व परप्रांतियों के आत्मसम्मान को ठेस पहुंची है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2019, 11:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. केजरीवाल सरकार अपनी अकर्मण्यता का ठीकरा बिहार से आए लोगों पर फोड़ रही है. यह कहना है बीजेपी के वरिष्ठ नेता विजय गोयल (Vijay Goel) का. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Chief Minister Arvind Kejriwal) के पूर्वांचलियों (Purvanchalis) के खिलाफ बिगड़े बोल के बाद सियासत तेज हो गई है. विजय गोयल का कहना है कि पिछले कुछ दिनों में दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जिस तरह के बयान दिये उससे बिहार, उत्तर प्रदेश, पूर्वांचलियों व परप्रांतियों के आत्मसम्मान को ठेस पहुंची है. यह बयान अपमानजनक है और ऐसे गैर जिम्मेदाराना बयान की हम आलोचना करते हैं. दिल्ली भाजपा पूर्वांचलियों व परप्रांतियों के अपमान को बर्दाश्त नहीं करेगी. जब तक केजरीवाल जनता से माफी नहीं मांग लेते, हमारा संघर्ष जारी रहेगा. बिहार से दिल्ली में आकर रह रहे लोग दिल्ली के विकास में अपना योगदान दे रहे हैं, लेकिन केजरीवाल जानबूझ कर राजनीतिक स्वार्थ पूर्ति के लिए ऐसा बयान दे रहे हैं. केजरीवाल आईआरएस के अधिकारी रह चुके हैं, उनसे इतनी उम्मीद की जा सकती है कि वो एनआरसी का सही मतलब जानते होंगे. एनआरसी विदेशी घुसपैठियों को निकालने के लिए है, फिर वो पूर्वांचलियों को क्यों अपमानित कर रहे हैं.

गोयल ने केजरीवाल पर साधा निशाना
विजय गोयल का कहना है कि मैं दिल्ली के मुख्यमंत्री से पूछना चाहता हूं कि वो दिल्ली में बांग्लादेशी व रोहिंग्या घुसपैठियों को एनआरसी के अन्तर्गत दिल्ली से बाहर करने के पक्ष में क्यों नहीं हैं. अपनी स्थिति स्पष्ट करें. संवैधानिक पद पर बैठा कोई मुख्यमंत्री ऐसा बयान कैसे दे सकता है कि बिहार से लोग 500 रुपये का टिकट कटवाकर आते हैं और दिल्ली में 5 लाख रुपये का मुफ्त ईलाज कराकर चले जाते हैं. केजरीवाल को दिल्ली में आए पूरे पांच साल भी नहीं हुए और यह पूर्वांचली कई सालों से दिल्ली के विकास में अपना अहम योगदान दे रहे हैं. आम आदमी पार्टी की सरकार में एक भी नया अस्पताल नहीं बना, जो इन्फ्रास्ट्रक्चर दिल्ली का है वो पहले का है और जब आपने कुछ किया ही नहीं तो ऐसा बयान जानबूझकर क्यों दिया जा रहा है. केजरीवाल बिहार से आने वाले ऐसे लोगों की सूची जारी करें, जिन्होनें 5 लाख रुपये का मुफ्त ईलाज दिल्ली सरकार के अस्पतालों में करवाया हो.

केजरीवाल झूठे प्रचार के लिए खर्च रहे करदाताओं की कमाई



विजय गोयल ने कहा कि केजरीवाल स्वंय के झूठ का प्रचार करने के लिए दिल्ली के करदाताओं से होने वाली कमाई का बड़ा हिस्सा खर्च करते हैं और बिहार व उत्तर प्रदेश से आये लोगों को यह कह कर अपमानित करते हैं कि वह दिल्ली पर बोझ बन रहे हैं. इससे पहले दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने भी बिहार के लोगों को बोझ बताया था, लेकिन उन्हें अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्होंने दूसरे दिन ही माफी मांग ली थी. आज केजरीवाल बोल रहे हैं जब वह स्वंय बैंगलोर जाकर इलाज करवाते हैं, तब वो बोझ नहीं होते. हमें केजरीवाल की समझ पर संदेह होता है. कुछ दिन पहले उन्होंने बांग्लादेशी व रोहिंग्या घुसपैठियों की तुलना दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी से कर दी थी, जो कि पूरे पूर्वांचल समाज का अपमान है. क्यों पूर्वांचली केजरीवाल की आंखों में खटक रहे हैं ? क्यों केजरीवाल को उनका इलाज चुभ रहा है? केजरीवाल जवाब दें दिल्ली की जनता जानना चाहती है.

दिल्ली में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमराई
विजय गोयल ने एक आरटीआई का हवाला देते हुए कहा कि दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाओं ने दम तोड़ दिया है, वे दिल्ली में चरमर्रा गई है. दिल्ली में कुल 2629 डॉक्टर्स के पद हैं, जिसमें से 737 पद खाली पड़े हैं. इसी तरह से पैरा मेडिकल स्टाफ के 4557 पद हैं, जिसमें से 2121 पद खाली पड़े हैं. अपने घोषणा पत्र में केजरीवाल ने 30,000 बेड बढ़ाने का वादा किया था,लेकिन 294 बेड ही बढ़े. केजरीवाल की मुफ्त घोषणाओं का मतलब ही है कि उन्होंने 55 महीनों के कार्यकाल में कुछ किया ही नहीं और न आगे करेंगे. हताश व निराश केजरीवाल दिल्ली की बिगड़ती स्वास्थ्य सेवाओं को संभालने में नाकाम हुए हैं और इसके लिए पूर्वांचलियों को जिम्मेदार बताकर अपनी नाकामी का ठीकरा फोड़ रहे हैं. इन्हीं पूर्वांचलियों व परप्रांतियों ने 1982 में एशियाड गेम्स के बाद से दिल्ली को बनाने में अपनी अहम भूमिका निभाई थी. उन्हें पक्के मकान दिये जाने चाहिए थे, लेकिन दिल्ली में केन्द्र सरकार की दो महत्वकांक्षी योजना आयुष्मान भारत और प्रधानमंत्री आवास योजना को रोक कर केजरीवाल दिल्ली के लोगों के दुश्मन बन गये हैं. दिल्ली के लोग अपने इस अपमान का बदला आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में मतदान करके लेंगे.

ये भी पढ़ें-चिन्मयानंद के मामले से भटकाने के लिए केजरीवाल को निशाना बना रही BJP: संजय सिंह

नवरात्रि के दौरान जब CM योगी ने तोड़ी थी 'नाथ संप्रदाय' की परंपरा, ये रही वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 30, 2019, 10:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर