CAA Protest: पुलिस ने गृह मंत्रालय को बताया, फोर्स की कमी से उत्तर पूर्व दिल्ली में हिंसा बढ़ी

हिंसा के बाद उत्तर पूर्व दिल्ली के मौजपुर इलाके में तैनात फोर्स. (फाइल फोटो)
हिंसा के बाद उत्तर पूर्व दिल्ली के मौजपुर इलाके में तैनात फोर्स. (फाइल फोटो)

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के आयुक्त अमूल्य पटनायक ने गृह मंत्रालय (Home Ministry) के शीर्ष अधिकारियों को अपनी बैठक के दौरान पर्याप्त बलों की अनुपलब्धता के बारे में जानकारी दी थी.

  • भाषा
  • Last Updated: February 26, 2020, 10:57 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने केन्द्रीय गृह मंत्रालय (Home Ministry) को बताया है कि दिल्ली के कुछ हिस्सों में CAA और NRC के विरोध प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा को तुरंत नियंत्रित करने के लिए उसके पास पर्याप्त जवान नहीं थे. यह जानकारी मंगलवार को अधिकारियों ने दी. दिल्ली के विभिन्न हिस्सों में हुई हिंसा में एक पुलिसकर्मी समेत 18 लोगों की मौत हो चुकी है. एक अधिकारी ने अपना नाम न बताने की शर्त पर बताया कि दिल्ली पुलिस के आयुक्त अमूल्य पटनायक ने गृह मंत्रालय के शीर्ष अधिकारियों के साथ अपनी बैठक के दौरान पर्याप्त बलों की अनुपलब्धता के बारे में जानकारी दी.

पीआरओ ने किया खंडन
अधिकारी के अनुसार, दिल्ली पुलिस ने गृह मंत्रालय को बताया कि उसके पास उत्तर पूर्व दिल्ली में हिंसा को तुरंत नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिस जवान नहीं थे, जिसके कारण स्थिति बिगड़ी. हालांकि, कुछ घंटे बाद दिल्ली पुलिस के जनसम्पर्क अधिकारी (पीआरओ) मंदीप सिंह रंधावा ने कहा कि गृह मंत्रालय की किसी भी बैठक में अधिकारियों द्वारा यह नहीं कहा गया कि ‘हमारे पास पर्याप्त पुलिस जवान नहीं हैं.’ उन्होंने कहा, ‘जमीन पर हमारे पर्याप्त बल तैनात हैं और हमें अतिरिक्त बल भी मुहैया कराए गए हैं.’ दिल्ली पुलिस हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में अपने सशस्त्र पुलिस की एक बटालियन (करीब 1000 कर्मी) भी तैनात कर रही है.

पुलिस को मजबूत करने को बुलाई गई आरएएफ
एक अन्य अधिकारी ने बताया कि पुलिस को अर्धसैनिक बलों की कुल 35 कंपनियां उपलब्ध कराई गई थीं, जिनमें से 20 कंपनियां अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान राष्ट्रीय राजधानी की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए पिछले तीन दिन में दी गई थी. हिंसक झड़पों के चलते उत्पन्न हो रही स्थिति से निपटने में दिल्ली पुलिस को मजबूती प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय राजधानी के आसपास के क्षेत्रों से त्वरित कार्रवाई बल (आरएएफ) को बुलाया जा रहा है.



150 अन्य घायल हो गए
उत्तर पूर्व दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून को लेकर हुई हिंसा में एक हेड कांस्टेबल समेत 18 लोगों की मौत हो गई और अर्धसैनिक बलों तथा दिल्ली पुलिस के जवानों समेत कम से कम 150 अन्य घायल हो गए हैं. प्रदर्शनकारियों ने कई मकानों, दुकानों, वाहनों, एक पेट्रोल पंप में आग लगा दी और सुरक्षाकर्मियों पर पथराव भी किया.

ये भी पढे़ं - 

दिल्ली HC ने आधी रात को खोला गेट, पुलिस को घायलों की सुरक्षा का दिया आदेश

DMRC ने दिल्ली मेट्रो के सभी स्टेशनों के एंट्री और एग्जिट गेट खोले
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज