खुली दिल्‍ली पुलिस की पोल, राष्ट्रपति भवन के पास से उड़ा लिए लाखों के पाइप
Delhi-Ncr News in Hindi

खुली दिल्‍ली पुलिस की पोल, राष्ट्रपति भवन के पास से उड़ा लिए लाखों के पाइप
राष्ट्रपति भवन (File Photo)

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की मानें तो पाइप चोरी की यह घटना मंगलवार की है. जोरबाग से राष्ट्रपति भवन (President House) के पास तक पानी की पाइप लाइन डालने का कम चल रहा है, जहां चोरों ने चोरी की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 11:35 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रपति भवन (President House) के पास वीवीआईपी इलाके में दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की चौकसी कितनी सख्त है, इसकी पोल चोरी की एक घटना ने कर दिया है. पुलिस की परवाह न करते हुए बेखौफ चोर राष्ट्रपति भवन के पास से लाखों रुपये के पाइप चुरा ले गए. चोरी के पाइप को मेरठ ले जाकर बेच दिया. पाइप मालिक द्वारा एफआईआर दर्ज कराने के बाद मामले का खुलासा हुआ. पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

राष्ट्रपति भवन के पास इसलिए रखे गए थे पाइप
दिल्ली पुलिस की मानें तो पाइप चोरी की यह घटना मंगलवार की है. जोरबाग से राष्ट्रपति भवन के पास तक पानी की पाइप लाइन डालने का कम चल रहा है. पाइप डालने का यह काम बिहेस कंपनी कर रही है. मदर टेरेसा क्रेसेंट रोड पर राष्ट्रपति भवन के गेट नंबर 23 और 24 के पास पानी की 21 पाइप रखी हुई थी, जो रात के किसी वक्त चोरी हो गईं. चोरी पाइपों की कीमत लाखों में बताई जा रही है.

गेट के पास से चोरों ने ऐसे उठाए पाइप



पाइप चोरी की रिपोर्ट कंपनी के मालिक अरुण जैन ने चाणक्यपुरी थाने में दर्ज कराई. अतिसुरक्षित क्षेत्र में चोरी की जानकारी मिलते ही पुलिस सक्रिय हो गई. पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी. वीआईपी इलाका होने के कारण उक्त स्थान पर उच्च गुणवत्ता (एचडी) वाले सीसीटीवी कैमरे लगे हैं. छानबीन में पता चला कि घटना के वक्त तीन लोग स्विफ्ट डिजायर कैब से गेट के पास आए थे. उनके साथ एक कंटेनर भी भी था. सीसीटीवी फुटेज में आरोपियों को सड़क किनारे कंटेनर रोक कर उसमें पाइप रखते और फिर जाते हुए देखा जा सकता है..



सीसीटीवी में चोरी करते हुए ये चेहरे आए सामने

चाणक्यपुरी थाना पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे की मदद से बदमाशों की पहचान की और वारदात में शामिल चार आरोपियों को दबोच लिया. उनकी पहचान आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश) निवासी अजय, बिहार निवासी मिथिलेश, अमेठी (उत्तर प्रदेश) निवासी राकेश कुमार तिवारी और कैब चालक करावल नगर निवासी गुड्डू खान के रूप में हुई है. अजय गिरोह का सरगना बताया जा रहा है. आरोपितों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने पाइप मेरठ के कबाड़ी बाजार में बेची हैं.

ये भी पढ़ें-

दुश्मन की गोली नहीं ये 7 बातें तनावग्रस्त बना रही हैं सेना के जवानों को, रिपोर्ट से हुआ खुलासा

यहां लगेगी शराब की सेल, 25 प्रतिशत सस्ती मिलेगी अंग्रेजी शराब और बीयर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading