Home /News /delhi-ncr /

गुरुग्राम में पानी पर हाहाकार, दर्जनों कॉलोनियों में किल्लत

गुरुग्राम में पानी पर हाहाकार, दर्जनों कॉलोनियों में किल्लत

पानी का टैंकर बुक करवाने के लिए लाइन में लगे लोग

पानी का टैंकर बुक करवाने के लिए लाइन में लगे लोग

कई दिनों से पानी नहीं मिलने के कारण लोगों घर से बाहर आकर बुस्टर पर ही धरना दे दिया और ​सभी का आरोप है कि पिछले एक हफ्ते से पीने का पानी नहीं आ रहा और यह किल्लत मदनपुरी, ज्योतिपार्क, बलदेव नगर, कृष्णा कॉलोनी, शिवपुरी, रतन गार्डन, दयानंद कॉलोनी आदि कॉलोनियों में आ रही है.

अधिक पढ़ें ...
    गुरुग्राम में भले ही हुडा और नगर निगम के साथ ही अब जीएमडीए पर पानी की किल्लत दूर करने का भार आ गया हो लेकिन इसके बावजूद शहर में पानी की किल्लत बढ़ती जा रही है. सैंकड़ों लोगों की लगी लंबी लाइन इस बात की गवाही दे रही हैं कि पानी कि किल्लत से लोग कितने परेशान हैं.

    ज्योति पार्क के निवासियों की मानें तो पानी की कमी नहीं है लेकिन जिला प्रशासन के अधिकारियों की मिलीभगत से पानी टैंकर माफियाओं के माध्यम से बेचा जा रहा है और इस कालाबाजारी का हिस्सा अधिकारियों तक भी पहुंचता है.

    लोगों ने किया हंगामा

    कई दिनों से पानी नहीं मिलने के कारण लोगों घर से बाहर आकर बुस्टर पर ही धरना दे दिया और ​सभी का आरोप है कि पिछले एक हफ्ते से पीने का पानी नहीं आ रहा और यह किल्लत मदनपुरी, ज्योतिपार्क, बलदेव नगर, कृष्णा कॉलोनी, शिवपुरी, रतन गार्डन, दयानंद कॉलोनी आदि कॉलोनियों में आ रही है. हालात यह है कि लोग सुबह 6​ बजे टैंकर बुक करवाने की लाइन में लग जाते हैं.

    अधिकारियों ने दिया आश्वासन

    वहीं घंटों हंगामे के बाद मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने इस बात का आश्वासन दिया है कि समस्या का समाधान किया जायेगा ​जबकि लोगों ने इन अधिकारियों को बताया कि पिछले एक महीने से पानी के किल्लत से परेशानी उठानी पड़ रही है. घरों में पीने तक पानी नहीं है जिससे कोई काम नहीं हो पा रहा है.

    30 लाख की आबादी को महज 82 एमजीडी पानी पर रहना पड़ रहा निर्भर

    गुरुग्राम  की लगभग 30  लाख की आबादी को महज 82 एमजीडी पानी पर निर्भर रहना पड़ रहा है जबकि जरूरत 125 एमजीडी पानी की है. इस वर्ष के अंत तक100 एमजीडी पानी की आपूर्ति के लक्ष्य की पूर्ति की उम्मीद की जा रही थी, लेकिन यह लक्ष्य अभी तक पूरा नहीं हुआ है. एनसीआर चैनल से गुरुग्राम  स्थित हुडा के बसई प्लांट से प्रति दिन 55 एमजीडी पानी की आपूर्ति होती है. इस प्लांट की क्षमता महज 60 एमजीडी है. उसमें से 43 एमजीडी पानी की आपूर्ति शहर में ही हो पाती है. ऐसे में पानी की किल्लत से जूझ रहे लोगों को चोरी से ट्यूबवेल लगा कार अपनी प्यास बुझानी पड़ रही है.

    पानी की किल्लत खत्म करने के लिए एनजीओ का सहारा

    अब पानी की किल्लत को खत्म करने के लिए एनजीओ का सहारा लिया जा रहा है जो लोगों को जागरूक कर सके. वही दूसरी तरफ चंदू बुढेडा और बसई वाटर प्लांट  से भी करीब 22 एमजीडी पानी की सप्लाई होती है जबकि इस प्लांट की क्षमता करीब 66 एमजीडी की है. वहीं इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि पानी की किल्लत वास्तव में ही गुरुग्राम में कितनी ज्यादा है.

    Tags: Gurugram

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर