कोरोना की थर्ड वेव से निपटने की क्या है दिल्ली सरकार की रणनीति, किस पर होगा ज्यादा फोकस? जानिए पूरा Action Plan

थर्ड वेब की संभावना को लेकर दिल्ली सरकार की ओर से बड़ी रणनीति तैयार की जा रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

थर्ड वेव की संभावना को लेकर दिल्ली सरकार की ओर से बड़ी रणनीति तैयार की जा रही है. कोरोना को मात देने के लिए और लोगों की जान बचाने के लिए कई अहम मामलों पर फोकस करते हुए चिकित्सा सेवाओं को और दुरुस्त बनाने का एक्शन प्लान (Action Plan) तैयार किया जा रहा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) के लिए यह एक बड़ी राहत वाली बात है कि अब हर रोज कोरोना (Corona) संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार घट रही है. एक दिन में आने वाले 28,000 केस अब घटकर 1600 तक आ गए हैं. संक्रमित मरीजों की दैनिक आधार पर संक्रमित दर भी अब 2.5 फीसदी रिकॉर्ड की जा रही है. लेकिर कोरोना थर्ड वेव (Third Wave of Corona) की संभावना को लेकर दिल्ली सरकार (Delhi Government) अभी से चिंतित है.

    थर्ड वेव की संभावना को लेकर दिल्ली सरकार की ओर से बड़ी रणनीति तैयार की जा रही है. कोरोना को मात देने के लिए और लोगों की जान बचाने के लिए कई अहम मामलों पर फोकस करते हुए चिकित्सा सेवाओं को और दुरुस्त बनाने का एक्शन प्लान (Action Plan) तैयार किया जा रहा है.

    दिल्ली सरकार की ओर से कोरोना की थर्ड वेव से लड़ने के लिए सबसे पहले रणनीति में दिल्ली की आबादी को कोरोना वैक्सीन डोज देने की योजना बनाई जा रही है. सरकार की कोशिश है कि कोरोना थर्ड वेब आने से पहले दिल्ली की आबादी को  वैक्सीनेट कर दिया जाए.



    इस बीच देखा जाए तो कोरोना की थर्ड वेव को ज्यादा खतरनाक बच्चों के लिए बताया जा रहा है. इसलिए सरकार दिल्ली की पूरी आबादी को वैक्सीनेट करने की कोशिश में जुटी है.

    दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) भी दिल्ली की दो करोड़ आबादी को जल्द से जल्द वैक्सीन (Vaccine) लगाने की बात कह रहे हैं. और इसको थर्ड वेव से निपटने के लिए सबसे बड़ी प्राथमिकता भी बता रहे हैं. लेकिन इस आबादी को किस तरीके से जल्द से जल्द वैक्सीनेट किया जा सके. इसकी भी पूरी व्यवस्था सरकार ने बना रही है.

    बताया जाता है कि अगले 3 माह के भीतर सभी लोगों को वैक्सीन डोज दे दी जाएगी. लेकिन पूरे देश के भीतर वैक्सीन की भी भारी कमी है. दिल्ली सरकार इस कमी को दूर करने की भी पूरी तैयारी में जुटी हुई है. सभी को पूरी तरीके से वैक्सीन लग जाने को लेकर यह भी माना जा रहा है कि ऐसा होने की स्थिति में शायद कोरोना की तीसरी लहर ना आए.

    दिल्ली सरकार ने वैक्सीन की कमी को पूरा करने के लिए भी योजना तैयार की है. दिल्ली सरकार केंद्र सरकार (Central Government) और वैक्सीन निर्माता कंपनियों (Vaccine Manufacturers Companies) से जहां से भी व्यवस्था हो सके, वैक्सीन अरेंज करने में जुटी है. इसके अलावा दिल्ली सरकार वैक्सीन बनाने वाली विदेशी कंपनियों और भारत की वैक्सीन निर्माता कंपनियों के संपर्क में लगातार है. उन सभी से वार्ता की जा रही है.

    दिल्ली के बजट में 50 करोड का पहले से ही  है वैक्सीन के लिए प्रावधान
    दूसरी तरफ दिल्ली सरकार ने वैक्सीन के लिए खर्च होने वाली राशि में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं पड़ने देने की बात भी कही है. इसके लिए पूरा बजट तैयार है. इतना ही नहीं दिल्ली सरकार इसके लिए भी पूरी तरीके से तैयारी कर चुकी है कि कोई कंपनी चाहे कितने भी रुपए में वैक्सीन उपलब्ध कराएं. उसकी खरीद के लिए भी पूरी तरीके से बजट (Budget) तैयार किया जा चुका है.

    दिल्ली वालों के लिए कहीं से भी वैक्सीन उपलब्ध होगी, वह खरीदने में देरी नहीं करेगी.  बताते चलें कि चालू वित्त वर्ष में दिल्ली सरकार की ओर से बजट में 50 करोड रुपए कोरोना वैक्सीन के लिए आवंटित भी किए गए थे.

    इन सभी बड़ी तैयारियों पर है पूरा फोकस
    इसके अलावा वैक्सीन के साथ-साथ थर्ड वेव से निपटने के लिए और क्या तैयारियां की जाएं? इस पर भी पूरी तरीके से मंथन कर एक्शन प्लान तैयार किया जा रहा है. इस सब के लिए दिल्ली में कितने बेड्स की जरूरत पड़ेगी, कितने आईसीयू बेड और बनाने की जरूरत पड़ेगी?

    इसके अलावा ऑक्सीजन (Oxygen) की कितनी जरूरत पड़ सकती है? उसके लिए ऑक्सीजन के कितने टैंकर खरीदने की जरूरत होगी? ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक कितने बनाने होंगे? इस सभी को लेकर पूरी तैयारियां चल रही हैं.

    दिल्ली में कोरोना अब तक 23,200 लोगों की मौत
    बताते चलें कि कोरोना की दूसरी लहर के चलते दिल्ली में बेड की किल्लत के साथ-साथ ऑक्सीजन की भारी कमी से बड़ी संख्या में लोगों की जान चली गई है. दिल्ली में अब तक कोरोना से 23,202 लोगों की जान जा चुकी है.

    इस तरह के एक्शन प्लान को क‍िया जा रहा है तैयार
    -दिल्ली की दो करोड़ आबादी का जल्द से जल्द वैक्सीनेशन कराना.

    -अगले 3 माह में सभी को वैक्सीन की डोज मुहैया कराना.

    -स्वदेशी और विदेशी कोरोना वैक्सीन निर्माताओं से वैक्सीन खरीदना.

    -कोरोना वैक्सीन खरीद के लिए फंड की पर्याप्त व्यवस्था.

    -अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में बेड की व्यवस्था करना.

    -अस्पतालों में ऑक्सीजन बेड और आईसीयू बेड की कमी नहीं होने देना.

    -ऑक्सीजन टैंकरों की खरीद पर बल.

    -ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक की समुचित व्यवस्था करना.

    -12 कक्षा के सभी छात्रों को भी जल्द से जल्द की वैक्‍सीनेशन कराने पर भी बल