होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए क्या करें और क्या नहीं, जानें डॉक्टरों के बताए सुझाव

बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए क्या करें और क्या नहीं, जानें डॉक्टरों के बताए सुझाव

बच्चों को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाने के लिए पढ़ें डॉक्टर की सलाह.

बच्चों को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाने के लिए पढ़ें डॉक्टर की सलाह.

Protect Children from Corona: देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर के कारण संक्रमण की बढ़ती खबरों के बीच बच्चों ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. देशभर में कोविड के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं. कोरोना ने पिछले साल का आंकड़ा भी पार कर लिया है. यह महामारी जिस रफ्तार से बढ़ रही है, उससे लोगों में डर बढ़ता जा रहा है. खासकर इस बार कोरोना की चपेट में बच्चों के भी आने की खबरों ने चिंताएं बढ़ा दी हैं. परेशानी वाली बात यह है कि बच्चों को लेकर अभी तक कोई वैक्सिनेशन शुरू नहीं हुआ है. बच्चों के लिए वैक्सीन आई भी नहीं है. ऐसे में अगर बच्चों को कोविड-19 होता है, तो उनके लिए खतरा ज्यादा है. डॉक्टरों के मुताबिक इस बार कोविड-19 नया स्ट्रेन है, जिसका असर बच्चों पर भी देखा जा रहा है. एक रिपोर्ट के मुताबिक 2 साल से लेकर 10 साल तक के बच्चों में कोविड-19 का असर हो रहा है. 18 साल तक के बच्चों में भी इसके लक्षण देखे गए हैं.

बच्चों को कोविड से कैसे बचाया जा सकता है इस बारे में दिल्ली के मशहूर गंगाराम अस्पताल के चाइल्ड स्पेशलिस्ट का कहना है कि बच्चों को कोविड-19 इस बार जरूर हो रहा है, लेकिन मृत्युदर कम है, यह हमारे लिए अच्छी बात है. डॉक्टर ने कहा कि बच्चों को कोविड हो तो रहा है, लेकिन उनके ठीक होने का प्रतिशत ज्यादा है. बावजूद इसके हमें बच्चों का खास ख्याल रखने की जरूरत है, क्योंकि बच्चों के लिए अभी किसी भी तरीके की कोई वैक्सीनेशन शुरू नहीं हुई है.

बच्चों के लिए डॉक्टरों की सलाह

बच्चों को जितना ज्यादा से ज्यादा हो सके विटामिन सी टैबलेट दें. इससे उनके शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की मात्रा कम नहीं होगी.
रात में सोने से पहले हल्दी वाला दूध भी बच्चों को इन दिनों पीने को दें. इससे उनके शरीर की इम्युनिटी बढ़ेगी.
इन दिनों गर्मी ज्यादा पड़ रही है, जिसमें बच्चों को रसदार फल खाना अच्छा लगता है. कोविड-19 से बचाव के लिए ऐसे फलों का खूब सेवन कराएं.
जो बच्चे फल न खाते हों, उन्हें जूस पिला सकते हैं. इससे उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी.
अगर बहुत जरूरी हो तभी बच्चों को घर से बाहर ले जाएं. बिना कारण बच्चों को घर से बिल्कुल भी ना निकलने दें. पार्क या खेल के मैदानों में भी भेजने से परहेज करें.
आमतौर पर यह भी लोगों में मिथ है कि ज्यादा सैनेटाइजर यूज करने से स्क्रीन खराब हो जाती है. बच्चों की स्किन वैसे ही बहुत ज्यादा नाज़ुक होती है, ऐसे में बच्चों के लिए सैनेटाइजर की जगह नहाने वाला साबुन यूज कर सकते हैं.
बच्चों को जब भी नहलाएं तो पानी में एक ढक्कन डेटॉल डाल दें. नहाने में कोताही न बरतें, ताकि संक्रमण का खतरा न रहे.
बच्चों की हाइजीन का विशेष ध्यान रखना है, इसलिए उनके कपड़े रोज बदलने हैं. एक दिन से ज्यादा पहना हुआ कपड़े इस्तेमाल ना करें.

Tags: Child Care, COVID 19, Delhi corona cases, Delhi corona update, Gangaram Hospital

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें