Home /News /delhi-ncr /

what will we eat if we will not work say labourers working under scorching heat in delhi

'कमाएंगे नहीं तो खाएंगे क्या'; दिल्ली की चिलचिलाती गर्मी में समझें 'मजबूर' मजदूरों का दर्द


'कमाएंगे नहीं तो खाएंगे क्या'; दिल्ली की चिलचिलाती गर्मी में समझें मजदूरों का दर्द

'कमाएंगे नहीं तो खाएंगे क्या'; दिल्ली की चिलचिलाती गर्मी में समझें मजदूरों का दर्द

भीषण गर्मी से तपति दिल्ली में कंस्ट्रक्शन वर्कर्स को अपनी आजीविका के लिए ऐसी विषम परिस्थिति में काम करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है. दिल्ली के पटेल नगर में एक निर्माण स्थल पर काम करने वाले एक निर्माण श्रमिक जे-उल-रहमान ने कहा कि उनके पास आजीविका के लिए काम करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: दिल्ली में प्रचंड गर्मी है और मजदूरों के पास इस चिलचिलाती गर्मी में काम करने के आलावा कोई विकल्प नहीं है. भीषण गर्मी से तपति दिल्ली में कंस्ट्रक्शन वर्कर्स को अपनी आजीविका के लिए ऐसी विषम परिस्थिति में काम करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है. दिल्ली के पटेल नगर में एक निर्माण स्थल पर काम करने वाले एक निर्माण श्रमिक जे-उल-रहमान ने कहा कि उनके पास आजीविका के लिए काम करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है.

    जे-उल-रहमान ने कहा कि अगर तापमान इतना अधिक हो रहा है तो हम क्या कर सकते हैं? पैसे की दरकार है. मुझे अपने घर पर पैसे भेजने की जरूरत है. हम असहाय हैं. उन्होंने आगे कहा कि अगर मैं एक दिन की छुट्टी लेता हूं तो घर के लोग भूखे मरेंगे. हमारे पास काम के अलावा और कोई विकल्प नहीं है. मुझे अपने बच्चों और उनकी पढ़ाई की देखभाल करनी है जो पश्चिम बंगाल में रहते हैं.

    मध्य प्रदेश के गुड्डू ठाकुर ने सवाल किया कि अगर हम काम नहीं करेंगे तो हम अपनी पत्नी और बच्चों को क्या खिलाएंगे. गरीबी है और हम असहाय हैं. चाहे अधिक तापमान हो या बारिश हो, हमें सभी परिस्थितियों में काम करना होगा. एक अन्य निर्माण श्रमिक मोहम्मद अब्बास, जो 20 वर्षों से अधिक समय से दिल्ली में है, ने कहा कि अगर वह पैसा नहीं कमाता है तो जीवित रहना मुश्किल हो जाता है.

    उन्होंने आगे कहा कि मैं यहां पिछले 20-30 सालों से दिल्ली में हूं. कोई भी मौसम हो, मुझे काम करना है. मेरे लिए कोई छुट्टी का दिन नहीं है. अगर मैं कोई छुट्टी लेता हूं, तो मुझे एक पैसा भी नहीं मिलेगा. हमारे परिवारों के लिए हमारे घर में पैसे भेजने की जिम्मेदारी हम पर ही है.

    एक अन्य निर्माण श्रमिक जाकिर हुसैन ने कहा कि हर जगह लू चल रही है और आजीविका हमें दूसरे शहरों में जाने के लिए प्रेरित करती है. अब हम इस गर्मी के अभ्यस्त हैं. अगर हम काम नहीं करेंगे तो हम अपने परिवारों की देखभाल कैसे करेंगे?.

    Tags: Delhi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर