Home /News /delhi-ncr /

नजीब तुम कहां हो...? 5 साल से बेटे की तलाश में सड़कों पर भटकती मां फातिमा अब बिस्तर पर

नजीब तुम कहां हो...? 5 साल से बेटे की तलाश में सड़कों पर भटकती मां फातिमा अब बिस्तर पर

15 अक्टूबर 2016 को नजीब जेएनयू से गायब हुआ था.

15 अक्टूबर 2016 को नजीब जेएनयू से गायब हुआ था.

JNU Student Najeeb: दिल्ली पुलिस, क्राइम ब्रांच, सीबीआई और एसआईटी बीते 5 साल में नजीब का कोई सुराग नहीं लगा सकी है. वहीं, नजीब को तलाशने में मां फातिमा नफीस शहर-शहर गलियों की खाक छानती रहीं, लेकिन आज तक वो उसको दोबारा नहीं देख सकीं हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. उत्‍तर प्रदेश के बदायूं के वैद्यों का टोला में नजीब समेत 6 लोगों का ये परिवार 5 साल पहले तक हंसी-खुशी रह रहा था. नजीब अहमद के पिता नफीस अहमद फर्नीचर का कारोबार करते थे. यही नहीं, कारोबार की तरह से अपने घर को भी उन्होंने एक गुलदस्ते जैसा सजाया हुआ था. नजीब जेएनयू में बॉयोटेक्नोलॉजी का छात्र था. मंझला बेटा मुजीब एमटेक कर रहा था और सबसे छोटा बेटा हसीब भी पढ़ाई कर रहा था. नजीब डॉक्टर तो मुजीब प्रोफेसर बनना चाहता था. तीन भाइयों, लेकिन अब सिर्फ दो भाइयों की बहन भी कॉलेज जाती थी. जब नजीब जेएनयू (JNU) से घर आता था तो परिवार चहक जाता था, लेकिन 15 अक्टूबर 2016 को नजीब जेएनयू से क्या गायब हुआ कि इस घर की खुशियां ही चली गईं. नजीब को तलाशने में मां फातिमा (Fatima) शहर-शहर गलियों की खाक छानती रहीं, लेकिन आज तक वो उसको दोबारा नहीं देख सकीं.

नजीब की तलाश में सड़क ही उनका दूसरा घर बन चुका था, लेकिन देश की सड़कों पर भटकती फातिमा अब बिस्तर पर हैं. उनके पैर अब उनका साथ नहीं देते हैं. वहीं, नजीब को तलाशने में परिवार की संपत्ति बिकना शुरू हो गई थी. छोटी बहन की शादी के रुपये खर्च हो गए. बेटे की याद में पिता दिल के मरीज हो गए. काम-धंधा बंद हो गया. नजीब की याद में पूरा दिन पलंग पर बीतता है. कान डोर बेल पर लगे रहते हैं. दवा का भी कोई भरोसा नहीं रहता है. थोड़ी बहुत तबीयत ठीक होती है तो दुकान पर चले जाते हैं, नहीं तो बस घर पर ऐसे ही पड़े रहते हैं.

पीएचडी करने का टूट गया सपना

Tags: Delhi police, Former JNU student, Najeeb Ahmed

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर