सुशांत सिंह राजपूत की मौत का जिम्मेदार कौन? क्या कहते हैं मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक

सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में जांच कर रही है पुलिस
सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में जांच कर रही है पुलिस

पिछले कई महीनों से अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के आस-पास रहने वाले लोगों को लग रहा था कि उनका व्यवहार बदल गया है. ऐसे में वे लोग सुशांत को अकेले कैसे छोड़ दिया? क्या सुशांत के परिवारवाले या फिर उनके करीबी मित्र को डिप्रेशन के बारे में जानकारी नहीं थी या फिर उनलोगों ने जानबूझ कर सुशांत को उसके हाल पर छोड़ दिया?

  • Share this:
नई दिल्ली. बॉलीवुड का उभरता हुआ सितारा सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) सोमवार को पंचतत्व में विलीन हो गए, लेकिन अपने पीछे छोड़ गए हैं कई सुलगते सवाल. सुशांत सिंह राजपूत के बारे में कहा जा रहा है कि वह पिछले कई महीनों से डिप्रेशन (Depression) में थे. सुशांत का इलाज भी चल रहा था. पांच दिन पहले भी उनकी बहन ने सुशांत से बात की थी, तब सुशांत ने अपनी बहन से कहा था कि उसकी तबियत ठीक नहीं है. सुशांत के घर में रहने वाले दोस्त और नौकर ने भी बताया है कि सुशांत का व्यवहार कुछ दिनों से बदला-बदला था. ऐसे में सवाल यह है कि जब सुशांत के आस-पास रहने वाले लोगों को लग रहा था कि सुशांत का व्यवहार बदल गया है तो फिर वे लोग सुशांत को अकेले में कैसे छोड़ा? क्या सुशांत के परिवारवाले या फिर उनके करीबी मित्र को डिप्रेशन के बारे में जानकारी नहीं थी या फिर उनलोगों ने जानबूझ कर सुशांत को उसके हाल पर छोड़ दिया? ऐसे में मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक सुशांत की मौत पर क्या कहते हैं?

करीबी दोस्तों ने सुशांत को समझने में देर क्यों कर दी?
बता दें कि मुंबई पुलिस की जांच में यह भी पता चला है कि सुशांत बीते कुछ दिनों से डिप्रेशन की दवाईयां भी नहीं खा रहे थे. ऐसा भी कहा जा रहा है कि एक फिल्म ‘ड्राइव’ की ऑनलाइन रिलीज को लेकर प्रोड्यूसर से नाराज थे. बॉलीवुड से जुड़े सूत्रों की मानें तो सुशांत सिंह की आखिरी फ़िल्म ड्राइव नेटफलिक्स पर रिलीज हुई पहले यह फ़िल्म पहले 2018 में रिलीज़ होनी थी उसके बाद रिलीज आगे बढ़ाकर जून 2019 की गई, हालांकि फिल्म जून में रिलीज नहीं हुई लेकिन उसके कुछ महीनो में ही प्रोड्यूसर ने फिल्म थिएटर में रिलीज करने के बजाय सीधा Netflix पर रिलीज की. सुशांत सिंह राजपूत इस बात को लेकर काफी नाराज थे कि उन्हें बिना बताए फिल्म सीधा ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर रिलीज की गई. इस फिल्म से सुशांत सिंह राजपूत को काफी उम्मीदें थीं.

Sushant Singh Rajput, suicide, Sushant Singh Rajput servant reveals reason behind sushant suicide, Sushant Singh Rajput servant reveals about his last last, Sushant Singh Rajput was in debt, Sushant Singh unable to pay salary, social media, viral news, viral post, bollywood, news 18 hindi, network 18, सुशांत सिंह राजपूत, आत्महत्या, सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड, सुशांत सिंह राजपूत के नौकर ने खोला राज, सुशांत सिंह राजपूत कर्ज में थे, सोशल मीडिया, वायरल न्यूज, वायरल पोस्ट, बॉलीवुड, मनोरंजन, न्यूज 18 हिंदी, नेटवर्क 18
सुशांत सिंह राजपूत के हाउस हेल्प ने किया खुलासा (Photo Credit- sushantsinghrajput/Instagram)

डिप्रेशन में परिवार के सदस्यों को साथ रहना चाहिए


सुशांत की मौत के बाद मनोचिकित्सक डॉ भाष्कर मुखर्जी न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं, 'डिप्रेशन हमारी सोसायटी में अंडर रिपोर्टेड है. कोरोना वायरस और लॉकडाउन के बाद यह और बढ़ गया है. परिवार में झगड़े बढ़ गए हैं. बीते दो-तीन महीने से डिप्रेशन के पेशेंट पहले से ज़्यादा आ रहे हैं. चार महीने में भारत में जो नॉन कोविड मौतें हुई हैं उनमें आत्महत्या के मामलें में 30 प्रतिशत बढ़ोतरी आई है. पिछले एक महीने में मेरे कई पेशेंट्स जो ठीक हो चुके थे, उन्हें वापस गंभीर दिक्कतें शुरू हो गई हैं. ऐसे 50 प्रतिशत ज़्यादा मामले हमारे पास आ रहे हैं. मेरे खुद के चार पेशेंट्स ने आत्महत्या की कोशिश की है.’

क्या कहते हैं मनोचिकित्सक
देश का सबसे बड़ा अस्पताल एम्स (AIIMS) दिल्ली के डॉक्टर्स लॉकडाउन के दौरान आत्महत्या और आत्महत्या की कोशिश पर एक रिसर्च कर रहे हैं. देश के कुछ और मनोचिकितस्कों की एक टीम भी कोविड-19 के असर को लेकर स्टडी कर रही है. एम्स एक डॉक्टर कहते हैं, ‘प्रथमिक रिपोर्ट कहती है कि लॉकडाउन के दौरान भारत में लोगों पर इसका व्यापक असर हुआ है. डिप्रेशन के मामले बढ़े हैं. यह बीमारी जैनेटिक (Genetic) भी होता है. एक स्टडी के अनुसार भारत में हर 6 में से एक भारतीय को डिप्रेशन है. फिल्मों में काम करने वाले लोग ज़्यादा एक्सप्रेसिव होते हैं. ये लोग क्रियेटिव होते हैं उन्हें सोचते समय दिमाग को ज्यादा चलाना होता है इसलिए वे भा ज्यादा चपेट में हैं. इसी प्रकार जीवनशैली और काम का समय हैक्टिस होने पर भी ऐसा होता है.'

Sushant Singh Rajput Funeral, bollywood stars at Sushant Singh Rajput Funeral, Sushant Singh Rajput last rite, Kriti Sanon, Shraddha kapoor, social media, viral photos, viral news, bollywood, entertainment, news 18 hindi, network 18, सुशांत सिंह राजपूत का अंतिम संस्कार, सुशांत सिंह राजपूत के अंतिम दर्शन को पहुंचे बॉलीवु सितारे, कृति सेनन, श्रद्धा कपूर, सोशल मीडिया, वायरल न्यूज, बॉलीवुड, मनोरंजन, न्यूज 18 हिंदी, नेटवर्क 18
सुशांत सिंह राजपूत के अंतिम दर्शन को पहुंचे बॉलीवुड सितारे


मनोवैज्ञानिक क्या कहते हैं
दिल्ली विश्वविद्यालय के मनोवैज्ञानिक डॉ नवीन कुमार कहते हैं, 'सुशांत सिंह राजपूत की मौत से रील लाइफ और रियल लाइफ का विरोधाभासी चेहरा भी उजागर होता है. वैसे हाल के वर्षों में लोगों के अंदर सकारात्मक सोच का अभाव हो गया है. लोगों में महत्वकांक्षाएं काफी बढ़ गई हैं. लोगों में दिखावा भी काफी बढ़ गया है. लोग एक सीमित दायरे में सिमट कर रहने लगा है. नए दोस्त नहीं बन रहे हैं, पुरानी दोस्ती किसी कारण से टूट जा रही है या फिर उसमें दूरियां पैदा हो जाती है. लोग टेक्नोलॉजी से चिपक कर रहना सीख रहे हैं. व्हाट्सएप और फेसबुक ने लोगों को अंतमुर्खी बना दिया है. लोग गांव, समाज और परिवार से दूर रहने लगे हैं. जबकि, आज-कल जरूरत है बचपन के दोस्तों और परिवार के सदस्यों से बात करें. अगर किसी को डिप्रेशन की शिकायत है और उसके आस-पास रहने वाले लोगों को लगता है कि वह परेशान है तो उसको अकेले नहीं छोड़ना चाहिए. बात करें या किसी दोस्त के साथ घूमने निकल जाएं. हमेशा नई-नई बातों को उसके सामने रखें. पुरानी बातों को भूलने को कहें. डिप्रेशन से ग्रसित लोग अपनी परेशानियां करीबी मित्रों के साथ साझा करें.'

बता दें कि सुशांत का पिछले करीब 6 महीने से डिप्रेशन का इलाज चल रहा था, लेकिन किसी ने उनकी परेशानियों को नहीं समझा. पिछले कुछ दिनो से उन्होंने डिप्रेशन की दवाई खानी भी बंद कर दी थी. सुशांत बहुत मानसिक तनाव में थे. ऐसे में उनके करीबी दोस्तों या परिवार के सदस्यों को उनके साथ रहना चाहिए था.

ये भी पढ़ें: 

कर्ज में डूबा था तो खुद की ही दे दी सुपारी, मौत के बाद हुआ चौंकाने वाला खुलासा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज