दिल्ली सरकार ने EDMC पर क्यूं लगाया 40 लाख का जुर्माना, चेतावनी दी भविष्य में फिर ना करें ऐसी गलती!

DPCC ने ईस्ट निगम पर प्रदूषण फैलाने पर 40 लाख रूपए का जुर्माना किया है.

DPCC ने ईस्ट निगम पर प्रदूषण फैलाने पर 40 लाख रूपए का जुर्माना किया है.

दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमिटी (DPCC) ने ईस्ट दिल्ली नगर निगम (East MCD) पर प्रदूषण फैलाने और उसकी रोकथाम के लिए सख्त कदम नहीं उठाने पर 40 लाख रूपए का जुर्माना भी किया है. हाल ही में गाज़ीपुर लैंडफिल साइट पर आग लगने की घटना के मामले में कोई कदम नहीं उठाने पर ईडीएमसी पर लापरवाही बरतने के चलते यह जुर्माना किया गया है. ईडीएमसी को चेतावनी दी है कि भविष्य में इस तरह की घटनाएं नहीं हो, इसके लिए ठोस कदम उठाए जाएं.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर अब दिल्ली सरकार सख्त हो गई है. ऐसे में अब दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमिटी (DPCC) ने ईस्ट दिल्ली नगर निगम (East MCD) पर प्रदूषण फैलाने और उसकी रोकथाम के लिए सख्त कदम नहीं उठाने पर 40 लाख रूपए का जुर्माना भी किया है.

हाल ही में गाज़ीपुर लैंडफिल साइट पर आग लगने की घटना के मामले में कोई कदम नहीं उठाने पर ईडीएमसी पर लापरवाही बरतने के चलते यह जुर्माना किया गया है. साथ ही ईडीएमसी को चेतावनी दी है कि भविष्य में इस तरह की घटनाएं नहीं हो, इसके लिए ठोस कदम उठाए जाएं.

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि कुछ दिनों पहले गाजीपुर लैंडफिल साइट में आग लग गई थी. इसके बाद डीपीसीसी को जांच करने का निर्देश दिया गया था.

गोपाल राय ने कहा कि आग का प्रमुख कारण एमसीडी की लापरवाही थी और इससे क्षेत्र में वायु प्रदूषण काफी बढ़ गया. दिल्ली सरकार (Delhi Government) इस मामले पर कड़ी कार्रवाई करेगी.
डीपीसीसी ने कहा कि पहले भी गाजीपुर लैंडफिल (Ghazipur Landfill Site) में आग की घटनाएं होती रही हैं. इससे पता चलता है कि आग की घटनाओं को रोकने के लिए ईडीएमसी द्वारा ठीक उपाय और सतर्कता नहीं बरती गई.

राय ने कहा कि गाजीपुर लैंडफिल साइट में आग लगने का प्रमुख कारण पूर्वी दिल्ली नगर निगम की लापरवाही है. इस घटना से क्षेत्र में प्रदूषण काफी बढ़ गया. इसके बाद मैंने दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति को मामले की जांच करने का निर्देश दिया. डीपीसीसी के निष्कर्ष स्पष्ट रूप से बताते हैं कि ईडीएमसी ने लापरवाही बरती थी. डीपीसीसी की जांच के आधार पर ईडीएमसी के ऊपर 40 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है.

डीपीसीसी ने ईडीएमसी को निर्देश दिया है कि नोटिस के बाद वे क्या आवश्यक कदम उठा रहे हैं, इसको लेकर विस्तृत रिपोर्ट तैयार करें और 15 दिनों के भीतर पेश करें. इसके अलावा डीपीसीसी की रिपोर्ट से पता चलता है कि एमसीडी के पास आग बुझाने के लिए कोई उचित व्यवस्था नहीं थी. एमसीडी के कामकाज में इस तरह की लापरवाही सामने आयी है, यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है.



डीपीसीसी द्वारा ईडीएमसी आयुक्त को दिए गए नोटिस में कहा गया है कि अधिकारियों की सतर्कता की कमी और ईडीएमसी द्वारा ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए किए सही उपाय नहीं किए जाने के कारण गाजीपुर लैंडफिल में आग लगने की घटनाएं हुई हैं. यह भी सामने आया है कि गाजीपुर साइट पर 22 मार्च शाम करीब 4.30 बजे लैंडफिल के पीछे की तरफ आग लगी थी.

डीपीसीसी ने ईडीएमसी आयुक्त को दिए नोटिस में गाजीपुर संयंत्र स्थल पर आग की रोकथाम के लिए तत्काल आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया है.

डीपीसीसी ने ईडीएमसी को सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि लैंडफिल साइट पर भविष्य में इस तरह की आग की घटनाएं न हों. डीपीसीसी ने कहा है कि नोटिस मिलने के बाद ईडीएमसी ने क्या कदम उठाए हैं, इसके बारे में विस्तृत रिपोर्ट दें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज