Home /News /delhi-ncr /

क्‍या 'गोवर्धन मॉडल' से रुकेगा द‍िल्‍ली में वायु प्रदूषण? पढ़ें सुप्रीम कोर्ट में द‍िल्‍ली और केंद्र सरकार ने क्‍या दीं दलीलें

क्‍या 'गोवर्धन मॉडल' से रुकेगा द‍िल्‍ली में वायु प्रदूषण? पढ़ें सुप्रीम कोर्ट में द‍िल्‍ली और केंद्र सरकार ने क्‍या दीं दलीलें


राष्ट्रीय राजधानी द‍िल्‍ली में बुधवार को धीमी हवा और कम तापमान के चलते सुबह के वक्‍त वायु गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ श्रेणी में दर्ज की गई.

राष्ट्रीय राजधानी द‍िल्‍ली में बुधवार को धीमी हवा और कम तापमान के चलते सुबह के वक्‍त वायु गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ श्रेणी में दर्ज की गई.

सुप्रीम कोर्ट द‍िल्‍ली में वायु प्रदूषण को लेकर मामले की अगली सुनवाई 29 नवंबर को करेगा. कोर्ट ने केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को दिहाड़ी मजदूर को फंड देने के लिए कहा है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार समेत दिल्ली सरकार, हरियाणा सरकार और पंजाब सरकार को प्रदूषण को कम करने के लिए उचित कदम उठाने के भी निर्देश दिए हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी द‍िल्‍ली में बुधवार को धीमी हवा और कम तापमान के चलते सुबह के वक्‍त वायु गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ श्रेणी में दर्ज की गई. शहर में सुबह नौ बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 357 रहा. वहीं सुप्रीम कोर्ट ने द‍िल्‍ली में प्रदूषण को लेकर हो रही सुनवाई के दौरान जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि अगर ‘गोवर्धन मॉडल’ अपनाया जाता है तो यूपी, हरियाणा और पंजाब से पराली को उन राज्यों में भेजा जा सकता है, जहां गाय के चारे की कमी है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा क‍ि केंद्र को हर साल अलग-अलग मौसमों में औसत वायु प्रदूषण के स्तर को निर्धारित करने के लिए पिछले पांच साल के आंकड़ों के आधार पर एक वैज्ञानिक मॉडल तैयार करना चाहिए और परिवेशी वायु गुणवत्ता को बिगड़ने से रोकने के लिए ‘गंभीर वायु प्रदूषण’ दिनों के अनुमानित दिनों से पहले कदम उठाना चाहिए. इतना ही नहीं कोर्ट ने पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश सरकार ने पराली की समस्या का निस्तारण करने के लिए क्या किया है इसकी जानकारी भी तलब की है. सुप्रीम कोर्ट 29 नवंबर को मामले की अगली सुनवाई करेगा.

केंद्र की ओर से एक लिखित जवाब दिया गया, ज‍िसे पढ़ते हुए अटॉर्नी जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट को बताया क‍ि 1007 पानी के छींटे वाली मशीनें लगाए गयी हैं. 33 प्रदूषण फैलाने वाले उद्योग बंद कर दिए गए हैं. इस पर CJI ने कहा क‍ि आप जो विशेष बसें चला रहे हैं, कितने लोग यात्रा कर रहे हैं? एसजी ने कहा क‍ि हम इस पर आपको आंकड़ा दे सकते है. उन्‍होंने कहा क‍ि केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए सार्वजनिक परिवहन के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए 22 तारीख से विशेष बस सेवाएं चालू की गई है. 15 साल से पुराने वाहनों को चलने की अनुमति नहीं है. प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. एसजी तुषार ने कहा क‍ि हवा में तेजी के कारण प्रदूषण कम होगा और हम तीन दिन बाद फिर से रिव्यू करेंगे. एसजी ने सुप्रीम कोर्ट को बताया क‍ि औद्योगिक प्रदूषण 6 थर्मल पावर संयंत्र 30 नवंबर तक बंद है. निर्माण गतिविधि एनसीआर में 21 तक बंद की गई थी और जरूरत पड़ने पर यह बढ़ाया जाएगा.

द‍िल्‍ली सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया क्‍या कदम उठाए

प्रदूषण पर दिल्ली सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया. प्रदूषण को रोकने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी दी.

1. सभी शैक्षणिक संस्थान अगले आदेश तक केवल ऑनलाइन मोड की अनुमति के साथ बंद किए गए

2. पूरे एनसीआर में कम से कम 50% सरकारी कर्मचारी घर से काम करेंगे, निजी प्रतिष्ठानों को 21 नवंबर तक ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित किया गया.

3. गैर-जरूरी सामान ले जाने वाले ट्रकों को 26 नवंबर तक प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा.

4. दिल्ली/एनसीआर में डीजल जेनरेटर पर प्रतिबंध

5. रेलवे, मेट्रो एयरपोर्ट या राष्ट्रीय सुरक्षा/रक्षा संबंधी कार्यों को छोड़कर निर्माण गतिविधियों पर रोक लगाई गई थी

Tags: Air pollution, Air pollution in Delhi, Delhi news, Supreme Court

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर