होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /दिल्ली में पॉल्युशनः ये हैं वो 15 कदम, जिनके जरिये प्रदूषण कम करेगी केजरीवाल सरकार

दिल्ली में पॉल्युशनः ये हैं वो 15 कदम, जिनके जरिये प्रदूषण कम करेगी केजरीवाल सरकार

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने 15 सूत्रीय विंटर एक्शन प्लान का ऐलान किया है.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने 15 सूत्रीय विंटर एक्शन प्लान का ऐलान किया है.

Air Pollution in Delhi: भारत सरकार का क्लीन एयर प्रोग्राम बताता है कि 2021-22 में दिल्ली के वायु प्रदूषण में काफी सुधार ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

दिल्ली. दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने सर्दियों में पॉल्युशन की समस्या से निपटने के लिए 15 सूत्रीय कार्यक्रम का लॉन्च किया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को डिजिटल प्रेस ब्रिफिंग के जरिये कार्यक्रम की जानकारी दी. इस दौरान केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के दो करोड़ लोगों ने मिलकर पिछले 7 साल में प्रदूषण से निजात पाने के लिए बहुत सारे उपाय और मेहनत की. नतीजा यह है कि भारत सरकार का क्लीन एयर प्रोग्राम बताता है कि 2021-22 में दिल्ली के वायु प्रदूषण में काफी सुधार हुआ है. उन्होंने कहा कि पीएम-10 लेवल में 18.6% सुधार हुआ और हमने 10 अहम कदम उठाए, जिसकी वजह से यह सब हुआ है.
क्या है वह दस कदम जिनकी वजह से कम हुआ पॉल्युशन
• दिल्ली में 24 घंटे बिजली सप्लाई की वजह जनरेटर चलने बंद हो गए
• दिल्ली में दोनों थर्मल पावर प्लांट बंद. अब दिल्ली में कोयला आधारित पावर प्लांट नहीं हैं.
• डस्ट पॉल्युशन पर कड़ी कार्रवाई. कंस्ट्रक्शन साइट पर नियमों की अनदेखी पर भारी जुर्माना. रियल टाइम मॉनिटरिंग के लिए वेब पोर्टल बनाया.
• अब सभी रजिस्टर्ड इंडस्ट्री में पाइप्ड नेचुरल गैस इस्तेमाल हो रहा है.
• दिल्ली में ग्रीन कवर बढ़ रहा है. आप सरकार जब बनी थी, तब 20% ग्रीन कवर था, अब 23.6% है.
• इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी लेकर आए. लोग अब इलेक्ट्रिक व्हीकल खरीद रहे हैं.
• पब्लिक ट्रांसपोर्ट मजबूत किया, नई बसें जोड़ी.
• स्मोग टावर पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया. उसका भी अच्छा असर हुआ है.
• GRAP लागू कर रहे हैं.
• केंद्र सरकार ने पेरिफेरल रोड बनाए, जिसकी वजह से ट्रक दिल्ली से कम गुजरते हैं. बाहर से ही निकल जाते हैं, जिसकी वजह से बहुत मदद मिली है.

प्रदूषण पर नियंत्रण रखने के लिए प्लान तैयार 
• पराली मैनेजमेंट के लिए PUSA की ओर से तैयार बायो डी-कंपोजर का छिड़काव. पिछले साल 4,000 एकड़ में किया था, इस बार 5,000 एकड़ में छिड़काव करेंगे.
• डस्ट पॉल्यूशन रोकने के लिए 6 अक्तूबर से एंटी डस्ट अभियान. 500 स्क्वायर मीटर से ज्यादा कंस्ट्रक्शन साइट अब कंपलसरी होगा कि सरकार के वेब पोर्टल पर रजिस्टर करें. डस्ट कंट्रोल की रियल टाइम मॉनिटरिंग, 586 टीमों का गठन, जो कंस्ट्रक्शन साइट पर जाकर मॉनिटरिंग करेंगी.
• 5000 स्क्वायर मीटर से ज्यादा के एरिया वाली कंस्ट्रक्शन साइट पर एंटी स्मोग गन लगाना अनिवार्य. इसके तहत पूरी दिल्ली में 233 एंटी स्मोग गन लगेंगे.
• सड़क पर उड़ने वाली धूल को कंट्रोल करने के लिए 80 डस्ट स्वीपिंग मशीन लगाई. मशीनें पानी का छिड़काव करेंगी.
• 150 मोबाइल एंटी स्मॉग गन लगाई जा रही हैं, ताकि सड़कों से उड़ने वाली धूल को कंट्रोल किया जा सके.वाहनों से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए PUC की जांच और सख्त की जाएगी.
• 10 साल पुरानी डीजल वाहन और 15 साल पुराने पेट्रोल वाहन सड़कों पर ना उतरे, इसका पालन कराने के लिए सख्ती की जाएगी. इसे लागू कराने के लिए 380 टीम बनाई गई.
• 203 ऐसी सड़कें हैं, जहां बहुत भीड़-भाड़ होती है. इसकी वजह से प्रदूषण होता है तो यहां पर भीड़भाड़ कम करने के लिए वैकल्पिक रूट तैयार किए गए हैं.
• खुले में कूड़ा चलाना प्रतिबंधित है और इसको रोकने के लिए 611 टीमों का गठन किया गया है. 33 टीमों का गठन किया गया है, ताकि इंडस्ट्री में कोई पाइप नेचुरल गैस के अलावा दूसरा इंधन इस्तेमाल ना करें.
• पटाखों पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है पटाखों के खरीदने उसके भंडारण बिक्री सब पर प्रतिबंध है. ऑनलाइन डिलीवरी भी नहीं हो सकती है. इसको लागू कराने के लिए 210 टीमों का गठन किया गया है.
• रियल टाइम सोर्स ऑफ पोलूशन स्टडी- आईआईटी कानपुर ने हमारे साथ एक स्टडी की है. इसके लिए राउस एवेन्यू रोड पर एक सुपर साइट बनाई गई है और इसके अलावा एक मोबाइल वैन है, जिसके ऊपर काफी सारे एक इक्विपमेंट लगाए गए हैं. हमको उम्मीद है 20 अक्टूबर से हमें डाटा मिलना शुरू होगा, जिसने पता चलेगा कि किस तरह का पॉल्यूशन है और इसका स्रोत क्या है.
• पर्यावरण मित्र बनाए गए हैं. अभी तक 3500 से ज्यादा वॉलिंटियर्स ने इसके लिए रजिस्टर किया है. यह लोग समाज सेवा करेंगे और लोगों को पर्यावरण के लिए जागरूक करेंगे.
• अगर आप पर्यावरण मित्र बनना चाहते हैं तो 8448441758 पर मिस कॉल दें.
• इलेक्ट्रॉनिक कूड़े के प्रबंधन के लिए एक ई-वेस्ट पार्क बना रहे हैं. उत्तर पश्चिम दिल्ली के होलंबी कला में 20 एकड़ में ई-वेस्ट पार्क बना रहे हैं.पूरी दिल्ली का इलेक्ट्रॉनिक कचरा वहां ले जाया जाएगा और साइंटिफिक तरीके से इसे प्रोसेस किया जाएगा.
• ग्रीन कवर बढ़ाने के लिए हमने 42 लाख पौधे लगाने का टारगेट रखा था, पहले चरण में 33 लाख पेड़ लगा चुके, दूसरे चरण में 9 लाख पेड़ पौधे और लगाएंगे.
• 24×7 एक ग्रीन वार रूम बनाया जाएगा, जो मॉनिटरिंग बेहतर तरीके से करेगा. 3 अक्टूबर से शुरू होगा. इसमें 9 मेंबर्स होंगे जो साइंटिफिक एक्सपर्ट होंगे और वह आंकलन करके अगले दिन का प्लान बनाएंगे.
• हमने ग्रीन दिल्ली ऐप बनाया था, जो बहुत कामयाब रहा अभी तक इस पर 53 हजार कंप्लेंट आ चुकी हैं. 90% शिकायतों का समाधान हो चुका है. आप भी इसको डाउनलोड करें और कहीं कचरा जलते हुए या प्रदूषण होते हुए देखते हैं या किसी वाहन का प्रदूषण देखते हैं तो इस ऐप के जरिए शिकायत करें.
• दिल्ली में 13 प्रदूषण हॉटस्पॉट की पहचान की गई है. इन पर नजर रखी जाएगी और पोलूशन कम करने के उपाय किए जाएंगे.
• संशोधित ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (GRAP) लागू किया. इसके तहत एयर क्वालिटी का 3 दिन का फोरकास्ट किया जाएगा.
• भारत सरकार, वायु गुणवत्ता आयोग, पड़ोसी राज्य सबके साथ मिलकर प्रदूषण कम करने की कोशिश करेंगे. सभी पड़ोसी राज्यों से निवेदन जितने भी वाहन उनके यहां से दिल्ली में आते हैं, कोशिश करें कि वह ज्यादा से ज्यादा या तो सीएनजी हो या फिर इलेक्ट्रिक हो.
• पड़ोसी राज्य भी अपने यहां इंडस्ट्रियल यूनिट में PNG को लागू करें और प्रदूषण करने वाले ईंधन को रोकें. पड़ोसी राज्यों से यह भी निवेदन है कि ईटों के भट्टे को रोके.
• डीजल जनरेटर पर प्रतिबंध लगाया जाए. कम से कम एनसीआर के इलाके में 24 घंटे बिजली का इंतजाम हो, ताकि लोगों को डीजल का उपयोग ना करना पड़े.

Tags: Air pollution, Arvind kejriwal, Delhi

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें