PM मोदी की रैली से बजेगा दिल्ली में चुनावी बिगुल, तय होगी आगे की राजनीतिक दिशा
Delhi-Ncr News in Hindi

PM मोदी की रैली से बजेगा दिल्ली में चुनावी बिगुल, तय होगी आगे की राजनीतिक दिशा
रामलीला मैदान में होने वाली पीएम मोदी की इस रैली से बीजेपी के चुनावी शंखनाद का आगाज होगा. (फाइल फोटो)

दिल्ली (New Delhi) की सैकड़ों अनाधिकृत कॉलोनियों को रेग्युलराइज करने के मोदी सरकार के फैसले को दिल्ली भारतीय जनता पार्टी (Delhi BJP) एक बड़ा मुद्दा बनाने की तैयारी में लग गई है. 22 दिसंबर को रामलीला मैदान (Ramlila Maidan) से एक बार फिर पीएम मोदी (PM Modi) चुनावी शंखनाद करेंगे और दिल्ली की राजनीति फिर हरकत में आ जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 13, 2019, 12:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली (New Delhi) की सैकड़ों अनाधिकृत कॉलोनियों को रेग्युलराइज करने के मोदी सरकार के फैसले को दिल्ली भारतीय जनता पार्टी (Delhi BJP) एक बड़ा मुद्दा बनाने की तैयारी में लग गई है. 22 दिसंबर को रामलीला मैदान (Ramlila Maidan) से एक बार फिर पीएम मोदी (PM Modi) चुनावी शंखनाद करेंगे और दिल्ली की राजनीति फिर हरकत में आ जाएगी. इस मौके पर दिल्ली बीजेपी पीएम मोदी का धन्यवाद भी करेगी.

पीएम मोदी के भाषण से साफ हो जाएगा कि दिल्ली चुनाव की लड़ाई किस दिशा में बढने वाली है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह 17 दिसंबर को द्वारका इलाके में एक सौंदर्यीकरण परियोजना का उद्घाटन करेंगे और एक रैली को भी संबोधित करेंगे. चुनावों के ऐलान का समय भी नजदीक आता जा रहा है. संभावना है कि दिसंबर के अंत या फिर जनवरी की शुरुआत में चुनावों का ऐलान हो जाए और फरवरी के दूसरे सप्ताह मे विधानसभा चुनाव हों.

पार्षदों को अधूरे काम पूरा करने के निर्देश
दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल की जीरो बिजली बिल और दूसरे लोकलुभावन काम की काट भी बीजेपी ने खोजनी शुरू कर दी है. अनाधिकृत कॉलोनियों को रेग्युलराइज करने का फैसला इसका सबसे बड़ा कदम है, जिससे लाखों दिल्ली वासियों को फायदा होगा. साथ ही केंद्र सरकार की सफल योजनाओं का बखान भी आम जनता से करना होगा. दिल्ली के पार्षदों को कहा गया है कि टिकट के लिए लाइन लगाने की बजाय वे अपने इलाकों में अधूरे पड़े कामों को पूरा करें. साथ ही प्रदूषण नियंत्रण पर केंद्र सरकार के कामों को भी दिल्ली की जनता को ठीक से बताना होगा ताकि केजरीवाल के ऑड ईवन के फेर से मुक्ति मिल सके.
Manoj Tiwari BJP Delhi
मनोज तिवारी दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष हैं और उत्तर पूर्वी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र से सांसद भी हैं. (फाइल फोटो)




किसी भी लोकसभा सांसद को विधानसभा का टिकट नहीं
सूत्र बताते हैं कि किसी भी नेता को बतौर मुख्यमंत्री उम्मीदवार प्रोजेक्ट नहीं किया जाएगा. इसके साथ ही यह भी साफ कर दिया गया है कि किसी भी लोकसभा सांसद को विधानसभा का टिकट नहीं मिलेगा. पार्टी आलाकमान सभी दावेदारों की जीत की क्षमता को आंकने में लगा है. इसलिए उम्मीद है कि युवा और नए चेहरों को भी तरजीह मिल सकती है.

दिल्ली के विकास के तड़के में लगेगा हिंदुत्व का छौंक
1998 से लगातार बीजेपी दिल्ली की सत्ता से बाहर है. ये अंदरुनी कलह और आला नेताओं की गुटबाजी का नतीजा ही था. 2014 के बाद बीजेपी को केजरीवाल के हाथों मुंह की खानी पड़ी थी. लेकिन इस बार 6 महीने पहले ही दिल्ली में बीजपी ने लोकसभा चुनावों में सातों सीटें जीती थी. इससे केजरीवाल को खासा झटका लगा था. केजरीवाल ने उसके बाद पूरा ध्यान लोक लुभावन कामों में लगा दिया. न तो उनके भाषणों में पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के लिए तल्खी नजर आती है और न ही वो उनका जिक्र करते हैं. इसलिए साफ है कि दिल्ली के विकास के तड़के में हिंदुत्व का छौंक लगेगा ही ताकि नैय्या पार लग सके.

ये भी पढ़ें-

दिल्ली में प्रदूषण से निपटने के लिए मोदी सरकार ने ही शुरू किया अभियान

ANALYSIS: हरियाणा, महाराष्ट्र चुनावों में छोटे झटकों से चौकस होगा BJP नेतृत्व!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज