हैदराबाद गैंगरेप: संसद के बाहर धरने पर बैठी युवती ने कहा- मैं अपने भारत में सुरक्षित क्यों नहीं महसूस करती
Delhi-Ncr News in Hindi

हैदराबाद गैंगरेप: संसद के बाहर धरने पर बैठी युवती ने कहा- मैं अपने भारत में सुरक्षित क्यों नहीं महसूस करती
महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा का मुद्दा उठाकर अनु दुबे संसद के बाहर धरने पर बैठी थीं

टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक अनु ने आरोप लगाया कि उसे पुलिस द्वारा जबरन हटाया गया. इस दौरान एक महिला कॉन्स्टेबल ने उसे नाखून मारा. अनु ने ये भी आरोप लगाया कि उसे थाने लाने के बाद उसके साथ तीन महिला कॉन्स्टेबलों ने मारपीट की. यहां उससे लिखवाया गया कि वो दोबारा धरना पर नहीं बैठेगी इसके बाद ही उसे जाने दिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 1, 2019, 10:36 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नयी दिल्ली. देश भर में लड़कियों और महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध (Crime Against Women) के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है. शनिवार को राजधानी दिल्ली (Delhi) में अनु दुबे (Anu Dubey) नाम की एक युवती ने संसद (Parliament) के बाहर फुटपाथ पर बैठकर धरना (Protest) दिया. इस दौरान उसके हाथ में एक तख्ती थी, जिस पर लिखा था, ‘मैं अपने भारत में सुरक्षित क्यों नहीं महसूस करती.’ दरअसल अनु के धरने पर बैठने का मकसद देश की बेटियों और महिलाओं की सुरक्षा को लेकर गुहार लगाना था.

अनु दुबे चंद घंटों तक हाई सिक्युरिटी जोन संसद के बाहर धरने पर बैठी रही, जिससे हड़कंप मच गया. हालांकि बाद में पुलिस (Delhi Police) उसे थाने ले गई. पुलिस ने बताया कि युवती को संसद मार्ग थाने ले जाया गया. इसकी जानकारी मिलने पर दिल्ली महिला आयोग की टीम थाने पहुंची. जिसके बाद कुछ अधिकारियों ने अनु के साथ बात की और उसे दोबारा धरने पर नहीं बैठने की हिदायत देते हुए रिहा कर दिया.

इस मामले पर दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता ने कहा कि ये संवेदनशील इलाका है, लड़की को कहा कि यहां धरने की इजाजत नहीं है. उसको समझाया गया कि आपको प्रोटेस्ट करना है तो जंतर मंतर पर करें, लड़की नहीं मानी तो उसके बाद महिला पुलिस की मदद से लड़की को शिफ्ट किया गया. थाने लाया गया और पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया. लड़की थाने में बदसुलूकी के जो भी आरोप लगा रही है, उसकी जांच की जा रही है.

अनु दुबे ने पुलिस पर मारपीट का लगाया आरोप

टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक, अनु ने आरोप लगाया कि उसे पुलिस द्वारा जबरन हटाया गया. इस दौरान एक महिला कॉन्स्टेबल ने उसे नाखून मारा. अनु ने ये भी आरोप लगाया कि उसे थाने लाने के बाद उसके साथ तीन महिला कॉन्स्टेबलों ने मारपीट की. यहां उससे लिखवाया गया कि वो दोबारा धरना पर नहीं बैठेगी इसके बाद ही उसे जाने दिया गया.

दरअसल अनु दुबे तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में एक वेटनरी महिला डॉक्टर के साथ हुए गैंगरेप और उसे जला कर मार डालने के खिलाफ धरने पर बैठी थी. गुरुवार को युवती का जला हुआ शव एक पुलिया के नीचे मिला था. उसे जलाने से पहले उसके साथ गैंगरेप किया गया था. इसके अलावा झारखंड की राजधानी रांची में भी 25 साल की एक लॉ स्टूटेंड को बस स्टॉप से अगवा कर बारह लोगों ने गैंगरेप किया था. पुलिस ने पीड़िता की शिकायत के बाद कार्रवाई करते हुए सभी बारह आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. आधी आबादी के खिलाफ हुए इन जघन्य वारदातों से पूरा देश हिल गया है.

ये भी पढ़ें: 

हैदराबाद गैंगरप: आरोपी की मां बोलीं- मेरे बेटे को भी ज़िंदा जला दो

हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केस: घटनास्थल पर वापस आए थे 2 आरोपी, जानें वजह
First published: December 1, 2019, 10:33 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading