लाइव टीवी

CAA के विरोध के नाम पर महिलाओं-बच्चों को ‘बहकाया' जा रहा है- BJP
Delhi-Ncr News in Hindi

भाषा
Updated: February 5, 2020, 5:26 PM IST
CAA के विरोध के नाम पर महिलाओं-बच्चों को ‘बहकाया' जा रहा है- BJP
शाहीन बाग पर बीजेपी की सफाई

सीएए (CAA) विरोध प्रदर्शन (Protest) की आड़ में महिलाओं और बच्चों को ‘बहकाया’ जा रहा है और देश अपने तानबाने से छेड़छाड़ करने वालों को कभी माफ नहीं करेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. शाहीनबाग सहित देश के विभिन्न भागों में सीएए (CAA) के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों को ‘स्वत: स्फूर्त’ करार देते हुए विपक्ष ने बुधवार को कहा कि इनके माध्यम से सरकार को आगाह किया जा रहा है कि संविधान खतरे में है तथा कई राज्यों की विधानसभा में पारित किये गये प्रस्ताव भी इसी की ओर संकेत करते हैं.

हालांकि सत्ता पक्ष ने विपक्ष के इन आरोपों से इनकार करते हुए दावा किया कि विरोध प्रदर्शन की आड़ में महिलाओं और बच्चों को ‘बहकाया’ जा रहा है और देश अपने तानबाने से छेड़छाड़ करने वालों को कभी माफ नहीं करेगा.

विपक्ष ने सरकार को CAA पर घेरा
राज्यसभा में राष्ट्रपति अभिभाषण के धन्यावाद प्रस्ताव पर चल रही चर्चा में भाग लेते हुए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के माजिद मेमन ने कहा कि अभिभाषण में देश की जमीनी सच्चाई प्रतिबिंबित होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि यह किसी राजनीतिक दल का चुनावी घोषणापत्र नहीं होना चाहिए तथा इसमें सरकार के कामकाज का लेखाजोखा होना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘आज देश में आए दिन लोग संविधान की उद्देशिका को इसलिए पढ़ रहे हैं ताकि सरकार को इस बात के लिए आगाह किया जा सके’.

सरकार से पूछा सवाल
उन्होंने कहा ‘‘सरकार को इस बात पर विचार करना चाहिए कि आज देश के विभिन्न हिस्सों में इतने आंदोलन क्यों हो रहे हैं? लोग खुले आसमान के नीचे क्यों बैठ रहे हैं? महिलाएं अपने छोटे बच्चों के साथ सर्दी के बावजूद धरने पर बैठी हैं.’

सीएए के विरोध में है एक बड़ी आबादी हैराकांपा नेता ने कहा कि एक बच्चे की ठंड के कारण मौत हो गयी क्योंकि उसकी मां बाहर धरने पर बैठी थी. उन्होंने दावा कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) आदि का जो लोग विरोध कर रहे हैं, उनमें अधिक संख्या गैर मुस्लिमों की है. उन्होंने दावा किया कि देश की एक बहुत बड़ी आबादी इसके विरूद्ध है.

 

आरजेडी के मनोज झा ने लगाए आरोप
राष्ट्रीय जनता दल के मनोज कुमार झा ने आरोप लगाया कि सरकार को जो जनादेश मिला है, उसके कारण वह ‘धमकी की जुबान बोल रही है’ उन्होंने सरकार को आगाह किया उसे चुनाव में मिले बहुमत का गुमान नहीं करना चाहिए क्योंकि ‘जब देश ही हार जाएगा तो आप चुनाव जीतकर क्या कर लेंगे?’

राजद सदस्य ने कहा कि जो सरकार ‘सहकारी संघवाद’ का दावा करती है लेकिन उसके शासनकाल में देश की पांच-छह विधानसभाएं संसद द्वारा पारित कानून के खिलाफ प्रस्ताव पारित करती हैं. उन्होंने दावा किया कि देश ने ऐसे हालात पहले कभी नहीं देखे.

अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने चर्चा में हस्तक्षेप करते हुए दावा किया कि सीएए के विरोध के नाम पर महिलाओं और बच्चों को ‘बहकाया जा रहा है’. उन्होंने विपक्ष पर आरोप लगाया कि उसने नरेन्द्र मोदी सरकार को मिले जनादेश का कभी सम्मान नहीं किया.

ये भी पढ़ें: 

सपना चौधरी ने BJP की चुनावी रैली में पूछा- किसे वोट देंगे? जवाब ने चौंकाया

कपिल गुर्जर के AAP कनेक्शन पर केजरीवाल बोले- दिल्ली पुलिस का यूज कर रही BJP

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 5, 2020, 5:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर