Assembly Banner 2021

अब आंगनबाड़ी में महिलाओं और बच्‍चों को मिलेंगे ताजे फल-सब्जियां, वाटिकाएं बनना हुई शुरू

आगंनवाड़ी में सरकार उगा रही फल और सब्जियों के पौधे. (सांकेतिक तस्वीर)

आगंनवाड़ी में सरकार उगा रही फल और सब्जियों के पौधे. (सांकेतिक तस्वीर)

देश के आंगनबाड़ी केंद्रो में फल और सब्जियां उगाने के लिए केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने कार्यक्रम शुरू किया है. इसके लिए केंद्रों को बीच भी मुहैया करवा दिए गए हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. अभी तक आंगनबाड़ी केंद्रों में मिलने वाले गर्भवती महिलाओं और बच्‍चों को पैकेटबंद आहार मिलता था लेकिन अब इन्‍हें ताजे फल और सब्जियां भी खाने को मिलेंगे. केंद्र सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की ओर से देश के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषण वाटिकाएं बनाने की तैयारी चल रही है.

जानकारी के मुताबिक देश में महिलाओं को पोषणयुक्‍त आहार देने के लिए चलाए जा रहे आंगनबाड़ी केंद्रों में ही अब फल और सब्जियां उगाए जाएंगे. इतना ही नहीं इन केंद्रों में जरूरी औषधीय तत्‍वों वाले पौधे और जड़ी-बूटियों को भी उगाया जाएगा. ऐसा करके यहां पैदा होने वाले इन खाद्यानों को आंगनबाड़ी के अंतर्गत आने वाली महिलाओं और बच्‍चों के लिए इस्‍तेमाल किया जाएगा.

मंत्रालय से मिली जानकारी में कहा गया कि देश के आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषण वाटिकाओं को लेकर कार्यक्रम शुरू कर दिया गया है. कई केंद्रों में मौसमी फलों और सब्जियों के बीज भी उगाने के लिए दे दिए गए हैं. आने वाले एक साल में इसका असर दिखाई देने लगेगा.



fruits देश के आंगनबाड़ी केंद्रों में फल और सब्जियां उगाने की तैयारी हो रही हैैै.
देश के आंगनबाड़ी केंद्रों में फल और सब्जियां उगाने की तैयारी हो रही है.

बता दें कि देश में कुल 13.77 लाख आंगनबाड़ी केंद्र हैं. सरकारी डाटा के अनुसार, इन केंद्रों में 12.8 लाख वर्कर और 11.6 लाख हेल्‍पर काम कर रहे हैं जो अब पोषण वाटिका का काम भी देखेंगे. हालांकि कई जगहों पर एक कमरे में बने आंगनबाड़ी भी हैं जहां खेती करना या पौधे उगाना संभव नहीं है. ऐसे में उनको भी अपग्रेड करने के लिए विचार विमर्श चल रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज