Home /News /delhi-ncr /

कुश्ती में मेडल जीतने वाला कैसे बना क्रिमिनल? पढ़ें एक पहलवान के इनामी बदमाश बनने की कहानी

कुश्ती में मेडल जीतने वाला कैसे बना क्रिमिनल? पढ़ें एक पहलवान के इनामी बदमाश बनने की कहानी

दिल्ली पुलिस ने 1 लाख रुपये के इनामी बदमाश को गिरफ्तार किया है.

दिल्ली पुलिस ने 1 लाख रुपये के इनामी बदमाश को गिरफ्तार किया है.

Delhi Police: स्पेशल सेल के डीसीपी राजीव रंजन के मुताबिक बदमाश के सामने आत्मसमर्पण करने की चेतावनी के बावजूद वह तेजी से मोटरसाइकिल से नीचे उतरा और पुलिस पार्टी की ओर निशाना साधते हुए गोलियां चला दीं और भागते हुए अपनी पिस्तौल से 3/4 राउंड फायर किए. बदमाश गौरव त्यागी द्वारा चलाई गई एक गोली हेड कांस्टेबल दयाल की बीपी जैकेट में भी लगी. क्रॉस फायरिंग में पुलिस द्वारा आत्मरक्षा में चलाई गई एक गोली से उसका दाहिना पैर घायल हो गया. इसके बाद पुलिस ने गौरव को गिरफ्तार कर लिया. बदमाश गौरव ने पुलिस पूछताछ में खुलासा किया कि वो स्कूल के दिनों में कुश्ती से प्रभावित था और छत्रसाल स्टेडियम में अखाड़ा में शामिल हो गया. आरोपी ने जूनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप 2007 में कांस्य पदक भी जीता था, लेकिन कुश्ती में ज्यादा सफल नहीं हो सका. क्योंकि इस दौरान एक सड़क हादसे में उसकी जांघ की हड्डी टूट गई थी.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल (Delhi Police) ने आज यानि बुधवार को एक बड़े और शातिर बदमाश को पकड़ने में सफलता हासिल की. पुलिस ने सुबह 11 बजे के आसपास 1 लाख के इनामी बदमाश गौरव त्यागी (Gaurav Tyagi) को गिरफ्तार कर लिया. इसके पास से एक पिस्टल, कारतूस और बाइक बरामद हुई है. स्पेशल सेल की टीम को इनपुट मिला था कि गौरव त्यागी नाम का बदमाश रोहिणी सेक्टर 28 और 29 के आसपास आएगा, जिसके बाद एक इंस्पेक्टर पूरन पंत और इंस्पेक्टर रवि तुशीर की टीम ने ट्रैप लगाया.

स्पेशल सेल के डीसीपी राजीव रंजन के मुताबिक बदमाश के सामने आत्मसमर्पण करने की चेतावनी के बावजूद वह तेजी से मोटरसाइकिल से नीचे उतरा और पुलिस पार्टी की ओर निशाना साधते हुए गोलियां चला दीं और भागते हुए अपनी पिस्तौल से 3/4 राउंड फायर किए. बदमाश गौरव त्यागी द्वारा चलाई गई एक गोली हेड कांस्टेबल दयाल की बीपी जैकेट में भी लगी और क्रॉस फायरिंग में पुलिस द्वारा आत्मरक्षा में चलाई गई एक गोली से उसका दाहिना पैर घायल हो गया.

स्कूल के दिनों से कुश्ती में थी रुचि 

बदमाश गौरव त्यागी ने पुलिस पूछताछ में खुलासा किया कि वो स्कूल के दिनों में कुश्ती से प्रभावित था और छत्रसाल स्टेडियम में अखाड़ा में शामिल हो गया. आरोपी ने जूनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप 2007 में कांस्य पदक भी जीता था, लेकिन कुश्ती में ज्यादा सफल नहीं हो सका. क्योंकि सड़क दुर्घटना के कारण उसकी जांघ की हड्डी टूट गई थी.

फिर स्वीकर लूथरा गैंग में शामिल हो गया गौरव 

गौरव त्यागी ने शुरू में स्वीकर लूथरा के गिरोह के संपर्क में आया, जो नकली करेंसी के धंधे में शामिल था चूंकि गौरव त्यागी के पास अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त आय नहीं थी. उनके सपने के अनुसार एक शानदार जीवन शैली जीने के लिए वह स्वीकर लूथरा के गिरोह में शामिल हो गया. दिल्ली और एनसीआर में नकली करेंसी के कारोबार में शामिल हो गया और स्वीकर लूथरा गैंग के साथ नेपाल से इन नकली नोटों की तस्करी करने लगा.

बाद में उसने गैंगस्टर परवेश खेरा के साथ हाथ मिलाया, जो उसके स्कूल के साथी थे और जबरन वसूली के इरादे से इलाके में अपराध सिंडिकेट में काम करना शुरू कर दिया. इसकी गिरफ्तारी से कई मामले खुलने की उम्मीद जताई जा रही है.

Tags: Delhi Crime, Delhi news, Delhi police

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर