• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • दिल्ली मेट्रो: सोमवार को 17.5 लाख लोगों ने किया सफर, मेट्रो स्‍टेशनों पर लगी रही भीड़

दिल्ली मेट्रो: सोमवार को 17.5 लाख लोगों ने किया सफर, मेट्रो स्‍टेशनों पर लगी रही भीड़

यात्रियों को खड़े होकर सफर करने की अनुमति नहीं दी गयी है. (सांकेतिक फोटो)

यात्रियों को खड़े होकर सफर करने की अनुमति नहीं दी गयी है. (सांकेतिक फोटो)

Delhi Metro News: डीएमआरसी (DMRC) ने सोमवार रात 8 बजे के आंकड़ों के साथ यात्रियों की संख्‍या बताई है. 26 जुलाई से ही मेट्रो ट्रेनें पूरी क्षमता के साथ चलनी शुरू हुई हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोविड-19 (COVID-19) संक्रमण की स्थिति में सुधार को देखते हुए सोमवार से दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) की ट्रेनें पूरी क्षमता के साथ चलनी शुरू कर दी हैं. यानी अब सभी सीटों पर बैठकर लोग यात्रा कर सकते हैं, लेकिन खड़े होकर यात्रा करने पर अभी भी पाबंदी है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. दिल्ली मेट्रो रेल निगम (DMRC) ने बताया कि लॉकडाउन के बाद 7 जून को बहाल की गई मेट्रो ट्रेन सेवा 50 प्रतिशत क्षमता के साथ चल रही थी. इस बीच, डीएमआरसी ने सोमवार रात को एक बयान जारी कर बताया कि रात 8 बजे तक करीब 17.5 लाख यात्री मेट्रो से सफर कर चुके थे.

    यात्रा या किसी मार्ग पर क्षमता की गणना यात्रियों द्वारा अपने गंतव्यों पर पहुंचने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले मार्गों के आधार पर की जाती है. डीएमआरसी ने कहा, 'सोमवार को औसतन यात्रियों की संख्या 7 जून को सेवा 50 प्रतिशत क्षमता के साथ बहाल करने के बाद 25 जुलाई तक 16 लाख थी.' बयान में कहा गया कि मेट्रो रेल में 9 उड़न दस्तों को कोविड-19 नियमों का अनुपालन कराने के लिए तैनात किया था और रात आठ बजे तक 432 यात्रियों को ट्रेनों से उतारा गया, जबकि 159 यात्रियों पर जुर्माना लगाया गया. वहीं, यात्रियों की संख्या बढ़ने के मद्देनजर 16 मेट्रो स्टेशन पर 16 अतिरिक्त द्वार भी खोल दिए गए हैं, ताकि यात्रियों की आवाजाही को सुलभ बनाया जा सके. डीएमआरसी ने कहा कि जिन स्टेशनों पर अतिरिक्त द्वार खोले गए हैं, उनमें जनकपुरी पश्चिम, करोल बाग, वैशाली, कश्मीरी गेट, केन्द्रीय सचिवालय और एमजी रोड शामिल हैं.

    खड़े होकर सफर की अनुमति नहीं
    दिल्ली में अप्रैल और मई महीने में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान संक्रमण के मामलों और मौत की संख्या में वृद्धि देखी गई थी. हालांकि, पिछले कुछ हफ्तों में स्थिति में सुधार आया है, जिसके बाद सरकार चरणबद्ध तरीके से शहर को दोबारा खोल रही है. नवीनतम अनलॉक दिशानिर्देश के तहत दिल्ली मेट्रो का परिचालन सोमवार से शत प्रतिशत सीट क्षमता के साथ करने की घोषणा की गई है, लेकिन यात्रियों को खड़े होकर सफर करने की अनुमति नहीं दी गई है.

    ज्यादा संख्या में लोग कोच के भीतर चले गए
    ट्विटर पर साझा किए गए एक वीडियो में दिखा कि कोच के भीतर कई यात्री खड़े होकर सफर कर रहे थे. इसके अलावा राजीव चौक, केंद्रीय सचिवालय, कश्मीरी गेट जैसे स्टेशनों पर अब भी भीड़ लग रही है. डीएमआरसी के अधिकारियों ने कहा कि कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए भीड़ घटाने के प्रयास किए जा रहे हैं. डीएमआरसी ने एक बयान में कहा, 'कुछ ट्वीट, फोटो और वीडियो में दिखा है कि लोग ट्रेन के भीतर खड़े होकर यात्रा कर रहे थे, लेकिन संशोधित दिशा-निर्देशों के तहत खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति नहीं है.' डीएमआरसी के एक प्रवक्ता ने कहा कि कई लोगों को ऐसा लगा कि सीटों की पूरी क्षमता से परिचालन का मतलब मेट्रो को पूरी तरह खोल दिया गया है. इस कारण से सीटों से ज्यादा संख्या में लोग कोच के भीतर चले गए.

    रैपिड मेट्रो सहित कुल 264 स्टेशन
    डीएमआरसी ने सुबह व्यस्त समय में भीड़ भाड़ की स्थिति का संज्ञान लिया और कहा कि दोबारा ऐसी स्थिति न हो इसके लिए यात्रियों के प्रवेश को नियंत्रित किया जाएगा. एक बयान में कहा गया कि फ्लाइंग स्‍क्‍वॉड की टीम भी लाइनों पर निगरानी करेगी और लोगों को ऐसा न करने के लिए समझाएगी. डीएमआरसी के अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली मेट्रो सेवाओं में सोमवार तड़के कुछ झटके महसूस किए जाने के बाद मामूली विलंब हुआ. डीएमआरसी के तहत 10 लाइन में 242 स्टेशन हैं और गुड़गांव में रैपिड मेट्रो सहित कुल 264 स्टेशन हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज