विवादित पोस्ट मामला: दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ने पुलिस को सौंपा अपना लैपटॉप
Delhi-Ncr News in Hindi

विवादित पोस्ट मामला: दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ने पुलिस को सौंपा अपना लैपटॉप
खान ने बताया कि मुझे ट्विटर और फेसबुक पोस्ट करने में इस्तेमाल किये गए लैपटॉप को जमा करने के लिए शनिवार को दिल्ली पुलिस का नोटिस मिला था. (फाइल फोटो)

जफर-उल-इस्लाम खान (Zafar-ul-islam khan) ने कहा कि मैंने आज अपना लैपटॉप पुलिस को सौंप दिया. लेकिन, मैंने लिखित रूप से कहा है कि मैं दबाव में यह सब कर रहा हूं.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष जफर-उल-इस्लाम खान (Zafar-ul-islam khan) ने सोशल मीडिया पर उनके 'विवादित' पोस्ट मामले की जांच कर रही पुलिस टीम को रविवार को अपना लैपटॉप (Laptop) सौंप दिया.  धिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि वसंत कुंज (Vasant Kunj) के एक निवासी की शिकायत पर खान के खिलाफ 30 अप्रैल को भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए और 153ए के तहत मामला दर्ज किया गया था. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि खान को 'विवादित' सोशल मीडिया पोस्ट करने में इस्तेमाल किया गया अपना लैपटॉप सौंपने के लिये अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 91 के तहत नोटिस भेजा गया था.

खान ने बताया, 'मुझे ट्विटर और फेसबुक पोस्ट करने में इस्तेमाल किये गए लैपटॉप को जमा करने के लिए शनिवार को दिल्ली पुलिस का नोटिस मिला. मैंने आज अपना लैपटॉप पुलिस को सौंप दिया. लेकिन, मैंने लिखित रूप से कहा है कि मैं दबाव में यह सब कर रहा हूं, क्योंकि लैपटॉप में ट्वीट या सोशल मीडिया पोस्ट का कोई रिकॉर्ड नहीं है और यह केवल ऑनलाइन है. इसके अलावा, मुझे समझ में नहीं आया कि उन्होंने मेरा लैपटॉप क्यों मांगा, क्योंकि मैंने स्वीकार किया है कि मैंने ट्वीट लिखा था और अभी भी उस बात पर कायम हूं.'

लैपटॉप जमा करने को कहा था
दरअसल, दिल्ली पुलिस ने जफर-उल-इस्लाम खान से मोबाइल या लैपटॉप जमा करने को कहा था, जिससे उन्होंने सोशल मीडिया पर कथित आपत्तिजनक पोस्ट शेयर की थी. उन्हें यह डिवाइस 12 मई तक स्पेशल सेल के पास जमा करना  था. इस पोस्ट के शेयर होने के बाद सोशल मीडिया पर काफी हंगामा मचा था. उसके बाद खान को अपने बयान से पीछे भी हटना पड़ा था. उन्होंने अपने एक बयान में कहा था कि इससे अगर किसी को चोट पहुंची हो तो वह माफी मांगते हैं.
इससे पहले जफरल-उल-इस्लाम ने दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की थी. इस याचिका में उन्होंने हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत की मांग की थी. जफरूल खान पर भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 124 ए और 153 ए के तहत एफआईआर (FIR) दर्ज की गई है.



जानिए क्या है आरोप?
दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन जफरूल इस्लाम खान पर आरोप लगा है कि 28 अप्रैल को उन्होंने सोशल मीडिया (Social Media) पर अपने आधिकारिक पेज से कथित राजद्रोह और नफरत फैलाने वाली टिप्पणियों से भरा एक पोस्ट किया था. इस मामले दिल्ली पुलिस ने उनसे पूछताछ भी की थी.

(इनपुट- भाषा)

ये भी पढ़ें- 

Bois Locker Room मामले में खुलासा, अश्लील चैट करने वाला लड़का नहीं, लड़की थी

Delhi Covid-19 Updates: कोरोना वायरस से संक्रमित 381 नए मरीज आए सामने
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज