100 रुपये का सूट खरीदने पर भाई ने फोड़ दी बहन की आंखें, बंधक बनाकर रखा

दिल्‍ली महिला आयोग (Delhi Commission for Women) ने बंधक लड़की को उसके ही घर से छुड़ाया, जहां भाई द्वारा उसके साथ बड़ी बेरहमी से साथ मारपीट की गयी और उसकी दोनों आंखें भी फोड़ दी गयीं.

Niranjan Singh | News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 8:06 AM IST
100 रुपये का सूट खरीदने पर भाई ने फोड़ दी बहन की आंखें, बंधक बनाकर रखा
लड़की द्वारा 100 रुपए का सूट खरीदने पर उसके भाई ने गुस्से में आकर मारपीट की. (सांकेतिक फोटो)
Niranjan Singh | News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 8:06 AM IST
बिहार की रहने वाली एक लड़की पर उसके नाबालिग भाई ने बेरहमी से हमला किया और दिल्ली के द्वारका स्थित उसकी झुग्गी में कैद कर के रखा. 20 साल की शर्मिला (बदला हुआ नाम) ने हाल ही में 100 रुपये का एक सूट खरीदा, जिससे उसके छोटे भाई को बहुत गुस्सा आया. गुस्से में वो क्रूरता की हद पार कर गया और उसने लड़की की दोनों आंखें फोड़ दी. इसके अलावा उसने उसे झुग्गी के अंदर तड़पता बंद कर के रखा. मामला सामने आने पर दिल्‍ली महिला आयोग (Delhi Commission for Women) की टीम ने पीड़ित लड़की को उसके चंगुल से बचाया.

इस अभियान से चला पता
दिल्‍ली महिला आयोग द्वारा चलाये जा रहे महिला पंचायत प्रोग्राम की महिलाओं ने लड़की के चीखने-चिल्लाने की आवाज डोर टू डोर विजिट पर सुनी. जब उन्होंने पड़ोसियों से पूछताछ की, तो उन्हें बताया गया कि लड़की का भाई आमतौर पर उसकी पिटाई करता था. तत्काल कार्रवाई करते हुए आयोग की टीम उस घर के पास पहुंची, जहां लड़की को बंद कर दिया गया था. जब उन्होंने घर में घुसने की कोशिश की, तो भाई ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया और उन पर हमला करने की धमकी दी. किसी तरह टीम झुग्गी में घुसने में कामयाब रही और शर्मिला को फर्श पर खून से लथपथ पाया. उसकी आंखें बुरी तरह घायल थीं तथा चोट के कारण चेहरे पर सूजन थी और वे लहूलुहान थींं.

दिल्ली महिला आयोग ने लिया ये एक्‍शन

उन्होंने तुरंत दिल्ली महिला आयोग से संपर्क किया और लड़की को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया. लड़की घायल और सदमे में है. डॉक्टर उसकी आंखों की क्षति का सही आकलन करने के लिए उसके चेहरे की सूजन कम होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं. जबकि दिल्ली महिला आयोग की चीफ स्वाति मालीवाल के साथ सदस्य फिरदौस और किरण नेगी ने सफदरजंग अस्पताल में दौरा किया और लड़की की स्थिति का जायजा लिया.

बहरहाल, मारपीट के समय लड़की के माता-पिता अपने पैतृक गांव में थे. लिहाजा उनसे बड़ी मुश्किल से संपर्क किया गया. सूचना मिलते ही वे लोग लड़की की देखभाल के लिए घर वापस आ गए. DCW चीफ ने संबंधित एसएचओ को लड़के के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए समन किया है.

ये भी पढ़ें-
Loading...

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लॉन्‍च होगा RPF का पहला कमांडो दस्ता, करेगा ये खास काम

'आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद जम्‍मू-कश्मीर में कोई राजनीतिक कैदी नहीं'
First published: August 13, 2019, 9:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...