लाइव टीवी

EXCLUSIVE: अमित शाह बोले- 2024 से पहले लागू करेंगे NRC, सभी मुसलमान घुसपैठिए नहीं

News18Hindi
Updated: October 17, 2019, 4:34 PM IST
EXCLUSIVE: अमित शाह बोले- 2024 से पहले लागू करेंगे NRC, सभी मुसलमान घुसपैठिए नहीं
अमित शाह ने कहा कि यूनिफॉर्म सिविल कोड निश्चित रूप से हमारे ऐजेंडे में शामिल है.

न्यूज़18 नेटवर्क (News18 Network) ग्रुप के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी (Rahul Joshi) को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में अमित शाह ने कहा कि एनआरसी को हम 2024 से पहले लागू कर देंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2019, 4:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय गृहमंत्री (Union Home Minister) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने नेशनल रजिस्टर फॉर सिटिजन (National Register of Citizens- NRC) को लेकर बड़ा बयान दिया है. न्यूज़18 नेटवर्क (News18 Network) ग्रुप के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी (Rahul Joshi) को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में अमित शाह ने कहा कि एनआरसी को हम 2024 से पहले लागू कर देंगे. एडिटर इन चीफ राहुल जोशी ने देश के गृह मंत्री से पूछा कि एनआरसी कब तक इम्प्लीमेंट हो पाएगा, इसका कोई रोड मैप है? इस पर अमित शाह ने कहा कि यह निश्चित रूप से 2024 से पहले लागू कर दिया जाएगा.

सम्मान बचाने के लिए आने वाले घुसपैठिए नहीं
हाल ही में एक स्पीच में अमित शाह ने कहा था कि जितने भी हिंदू हैं, ईसाई हैं, बौद्ध धर्म के लोग हैं और जैन हैं. वे सब हमारे देश में सुरक्षित हैं. लेकिन उन्होंने मुसलमानों का जिक्र नहीं किया था. इस पर जब गृह मंत्री की राय जाननी चाही गई तो उन्होंने कहा, 'सुरक्षित हैं, ऐसा नहीं कहा. इन लोगों को नागरिकता देंगे यह कहा था. इसके पीछे भी एक कारण है. अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश के माइनॉरिटी अगर अपना धर्म बचाने के लिए इस देश की शरण में आते हैं और प्रताड़ित होकर आते हैं. अपनी माताओं, बहनों और बच्चियों का सम्मान बचाने के लिए यहां आते हैं तो वे शरणार्थी हैं, घुसपैठिए नहीं.'



सभी मुसलमान घुसपैठिए, ऐसा मेरा कहना नहीं
गृह मंत्री ने आगे कहा, 'अगर कोई रोजी रोटी के लिए आता है या कानून व्यवस्था बिगाड़ने के लिए आता है तो वह घुसपैठिया होता है. सभी मुसलमान घुसपैठिए हैं ऐसा मेरा कहना नहीं है. उनपर धार्मिक प्रताड़ना होने की संभावनाएं नहीं हैं.' इसके साथ ही उन्होंने सवाल पूछा, 'बंटवारे के वक्त दोनों पाकिस्तान मिलाकर 30 प्रतिशत मुसलमान थे. अब 6.5 प्रतिशत हो गए. बाकी के कहां गए?'

बीजेपी के अगले एजेंडे और यूनिफॉर्म सिविल कोड पर पूछे गए सवाल के जवाब में अमित शाह ने कहा कि यह हमारे घोषणापत्र का हिस्सा है. उचित समय पर इस मामले पर पार्टी और सरकार दोनों चर्चा करेंगे. अभी इस बारे में कोई तिथि देना संभव नहीं है. हमारे घोषणा पत्र में है तो हमारा एजेंडा तो ऑटोमेटिक बनता है.
Loading...

ये भी पढ़ें-

Exclusive: अमित शाह का बड़ा बयान, मॉब लिंचिंग गरीब के साथ होती है, किसी खास जाति के खिलाफ नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 17, 2019, 1:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...