होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /पीएम मोदी के खिलाफ अरविंद केजरीवाल ने क्यों अपना रखा है नरम रुख?

पीएम मोदी के खिलाफ अरविंद केजरीवाल ने क्यों अपना रखा है नरम रुख?

पिछले कुछ दिनों से दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल केंद्र सरकार के प्रति नरमी दिखा रहे हैं

पिछले कुछ दिनों से दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल केंद्र सरकार के प्रति नरमी दिखा रहे हैं

लोकसभा चुनाव के बाद से ही अरविंद केजरीवाल का केंद्र सरकार के प्रति रुख काफी नरम रहा है. केजरीवाल पीएम मोदी को लेकर भी क ...अधिक पढ़ें

    दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पिछले कुछ दिनों से बदले-बदले से नजर आ रहे हैं. लोकसभा चुनाव के बाद से ही अरविंद केजरीवाल का केंद्र सरकार के प्रति रुख काफी नरम रहा है. केजरीवाल पीएम मोदी को लेकर भी काफी नरमी बरत रहे हैं. हाल के दिनों में केजरीवाल के कुछ फैसलों से भी यह साफ झलकता है. हाल ही में केजरीवाल ने उपराज्यपाल के साथ भ्रष्ट अधिकारियों के रिटायरमेंट प्लान को लेकर एक  बैठक की थी. इस बैठक का नतीजा भी काफी सकारात्मक रहा. साथ ही पिछले कुछ दिनों से दिल्ली के विकास के कामों के लिए भी केंद्र सरकार के साथ मिलकर काम करने की बात केजरीवाल खूब बोल रहे हैं.

    केंद्र सरकार से नहीं लेना चाहते टकराव
    अरविंद केजरीवाल अपने ट्वीट के जरिये लगातार नरमी के संकेत दे रहे हैं. दिल्ली की कानून व्यवस्था में सुधार से लेकर जल संचय समेत विकास कार्यों की कई योजनाओं को पूरा करने के लिए केंद्र के साथ मिलकर काम करने को तैयार हो गए हैं. अरविंद केजरीवाल के ट्वीट और बातों से साफ झलकता है कि दिल्ली की भलाई के लिए वह अब केंद्र सरकार से टकराव मोल नहीं लेंगे.

    जल संचय को लेकर कर रहे काम
    पिछले दिनों जब पीएम मोदी ने जल संचय को लेकर अपील की थी तो अरविंद केजरीवाल ने भी यमुना के किनारे छोटे-छोटे तालाब बनाने की घोषणा कर दी. बुधवार को केंद्र सरकार के सहयोग से दिल्ली के ओखला सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का भी शिलान्यास भी कर दिया गया है. देश के जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और अरविंद केजरीवाल ने मिल कर इस प्रोजेक्ट का शिलान्यास किया. इस प्रोजेक्ट के शिलान्यास से पहले जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने भी ट्वीट कर दिल्ली सरकार की इस संयुक्त योजना की जानकारी दी.




    मोदी को सहयोग का पूरा आश्वासन
    अरविंद केजरीवाल ने बीती 21 जून को पीएम मोदी से मुलाकात की थी. पीएम मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने का बाद यह पहली मुलाकात थी. इससे पहले पीएम मोदी और अरविंद केजरीवाल में सितंबर 2015 में औपचारिक मुलाकात हुई थी. अरविंद केजरीवाल ने इस मुलाकात में पीएम मोदी को मोहल्ला क्लीनिक और दिल्ली के स्कूलों में आने का न्योता दिया था. अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी के साथ मुलाकात के बाद ट्वीट करते हुए कहा था कि दिल्ली सरकार के लिए जरूरी है कि केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार मिलकर काम करें. दिल्ली सरकार की ओर से भी पीएम मोदी को सहयोग का पूरा आश्वासन दिया गया.

    पीएम मोदी से हाल ही में अरविंद केजरीवाल ने मुलाकात की है


    विधानसभा चुनाव को लेकर बदला रुख
    राजनीतिक विश्लेषक इसको अलग-अलग नजरिए से देखते हैं. दिल्ली को करीब से जानने वाले वरिष्ठ पत्रकार संजीव पांडेय न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं, 'अरविंद केजरीवाल का पीएम मोदी या केंद्र सरकार के प्रति दिली लगाव नहीं जागा है. अब अरविंद केजरीवाल जान गए हैं कि सीधे टकराव का कोई लाभ नहीं मिलने वाला है. केजरीवाल दिल्ली की जनता को दिखाना चाह रहे हैं कि वह जनता की भलाई के लिए सहयोग दे रहे हैं. विधानसभा चुनाव के वक्त केजरीवाल जनता को बताएंगे कि राजनीतिक कारणों से केंद्र सरकार ने हमें सहयोग दिया.'

    संजीव पांडेय आगे कहते हैं, 'दिल्ली विधानसभा के चुनाव होने हैं और आम आदमी पार्टी कांग्रेस पर मनोवैज्ञानिक तौर दबाव बनाना चाहेगी कि वह बीजेपी के करीब जा रही है. इससे विधानसभा चुनाव के वक्त कांग्रेस के साथ समझौता करने में आसानी होगी.'

    ये भी पढ़ें: गाड़ियों पर क्यों लिखते हैं लोग अपनी जातियां, क्या कहते हैं मनोवैज्ञानिक?

    दिल्ली पुलिस हाल के वर्षों में अपराध होने के बाद ही हरकत में क्यों आती है?

    आज से FIR के लिए आपको नहीं जाना पड़ेगा थाने, नोएडा पुलिस खुद आएगी आपके पास

    Tags: Aam aadmi party, AAP, Arvind kejriwal, BJP, Congress, Delhi, Narendra modi

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें