लाइव टीवी

दिल्ली: छात्रों के लिए सीएम केजरीवाल का ऐलान, ऐसे देंगे एडमिशन और नौकरी की गारंटी

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 9:59 PM IST
दिल्ली: छात्रों के लिए सीएम केजरीवाल का ऐलान, ऐसे देंगे एडमिशन और नौकरी की गारंटी
सीएम अरविंद केजरीवाल ने युवाओं को पढ़ाई की गारंटी के साथ नौकरी की गारंटी देने वाली पढ़ाई का वादा किया है. (फाइल फोटो)

सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) का कहना है कि नौकरी (Job) की गारंटी के लिए हम इंटर्नशिप (Internship) और दूसरी चीजों के लिए बड़ी कंपनियों के साथ समझौते करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 9:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने आज हुई कैबिनेट (Cabinet) की बैठक में एक बड़ा फैसला लिया है. सरकार ने एंटरप्रिन्योरशिप यूनिवर्सिटी (Entrepreneurship University) बिल को मंजूरी दे दी है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने दिल्ली के युवाओं को उद्योगों की जरूरत और नौकरी के हिसाब से तैयार करेगी. इसमें डिप्लोमा से लेकर रिसर्च तक की पढ़ाई होगी. छह माह से 2 वर्ष तक के कोर्स होंगे. बताया जा रहा है कि पहले वर्ष 50 हजार छात्रों को एडमिशन दिया जाएगा. इस बिल (Bill) को मंजूरी के लिए उपराज्यपाल के पास भेजा जाएगा. मंजूरी के बाद इसे विधानसभा (Assembly) के शीतकालीन सत्र में पास कराया जाएगा.

ये होंगी एंटरप्रिन्योरशिप यूनिवर्सिटी की खासियत
सीएम अरविंद केजरीवाल ने बताया इस यूनिवर्सिटी मे 85 प्रतिशत सीटें दिल्ली के बच्चों के लिए होंगी. यह देश में अपनी तरह का पहला विश्वविद्यालय होगा. यूनिवर्सिटी में दिल्ली के सभी ITI और पॉलिटेक्निक सेंटर को मर्ज किया जाएगा. बच्चे स्कूल लेवल से स्किल्ड बेस्ड कोर्स करने को प्रेरित होंगे. छात्रों को नौकरी के हिसाब से तैयार किया जाएगा. यूनिवर्सिटी का विदेशों से गठजोड़ होगा. इंडस्ट्री संघ व इंडस्ट्री से गठजोड़ होगा. यूनिवर्सिटी में कोर्स को जरूरत के हिसाब से बदला जाएगा. इसके लिए मार्केट का लगातार रिसर्च होगा. नौकरी के हिसाब से रिसर्च होगा. उसी हिसाब से कोर्स को समय-समय पर बदला जाएगा.

ओखला में बनेगा मुख्यालय

यूनिवर्सिटी का मुख्यालय ओखला स्थित टेली टूल इंजीनियरिंग कालेज में बनेगा. इसके कोर्स और फीस को डिजाइन करने के लिए विशेषज्ञों की टीम बनेगी.

दुनिया में रिसर्च तक तैयार हुआ मॉडल
डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बताया कि यूनिवर्सिटी की रूपरेखा के लिए तमाम देशों का दौरा किया गया.  फिनलैंड, ब्राजील, अस्ट्रेलिया, सिंगापुर जाकर टीम ने बहुत से मॉडल देखे. वहां के मॉडल को आधार बनाकर यूनिवर्सिटी की परिकल्पना तैयार हुई. अभी तक यूनिवर्सिटी न होने के कारण बच्चे स्किल्ड कोर्स करने से बचते थें.
Loading...

यूनिवर्सिटी में चलाए जाएंगे ये कोर्स

  • कौशल विकास मॉड्यूलर कार्यक्रम, व्यापार के आधार पर तीन महीने से बारह महीने तक.

  • दो से तीन वर्षों के विभिन्न विषयों में व्यावसायिक डिप्लोमा कार्यक्रम.

  • वोकेशनल एजुकेशन में बैचलर डिग्री प्रोग्राम.

  • पोस्ट ग्रेजुएट, एम.फिल और पीएचडी प्रोग्राम इन वोकेशनल एजुकेशन.

  • संस्कृति, व्यवसाय, स्वास्थ्य देखभाल और सामाजिक विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बैचलर डिग्री प्रोग्राम और मास्टर डिग्री प्रोग्राम.


ये भी पढ़ें-

दिल्ली पुलिस, SITऔर CBI की जांच पूरी, अब भी लापता है JNU छात्र नजीब

नागपुर रेलवे स्टेशन पर चूहे पकड़ने को हर रोज होती है 166 कर्मचारियों की तैनाती, खर्च होते हैं 1.45 लाख रुपये

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 7:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...