केजरीवाल के एक फैसले से नौकरशाहों की हुई 'छुट्टी', अब कार्यकर्ता संभालेंगे कमान!

डीएमआरसी बोर्ड में 17 सदस्य होते हैं, जिनमें केंद्र और दिल्ली सरकार के पांच-पांच सदस्य और डीएमआरसी के 7 सदस्य होते हैं.

News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 7:37 PM IST
केजरीवाल के एक फैसले से नौकरशाहों की हुई 'छुट्टी', अब कार्यकर्ता संभालेंगे कमान!
डीएमआरसी बोर्ड में 17 सदस्य होते हैं, जिनमें केंद्र और दिल्ली सरकार के पांच-पांच सदस्य और डीएमआरसी के 7 सदस्य होते हैं.
News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 7:37 PM IST
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) बोर्ड के इतिहास में पहली बार 4 राजनीतिक नियुक्तियां की हैं. दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार ने डीएमआरसी बोर्ड से नौकरशाहों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है. डीएमआरसी बोर्ड में 17 सदस्य होते हैं, जिनमें केंद्र और दिल्ली सरकार के पांच-पांच सदस्य और डीएमआरसी के 7 सदस्य होते हैं. आप की सरकार ने अब नौकरशाहों के स्थान पर राघव चड्डा, आतिशी, जस्मीन शाह और पार्टी के राज्यसभा सांसद एनडी गुप्ता के बेटे नवीन गुप्ता को बोर्ड में जगह दी है.

डीएमआरसी ने नियुक्तियों की नहीं दी है मंजूरी

हालांकि, डीएमआरसी बोर्ड ने अभी तक इन नियुक्तियों की मंजूरी नहीं दी है. वहीं आप का कहना है कि मेट्रो में महिलाओं के लिए फ्री यात्रा को लेकर सरकार का पक्ष दमदार तरीके से रखने के लिए इन लोगों की नियुक्तियों का फैसला लिया गया है.

बता दें कि हाल ही में दिल्ली सरकार ने मेट्रो में महिलाओं के लिए मुफ्त सफर योजना का प्रस्ताव लाया था. ऐसा कहा जा रहा है कि इस प्रस्ताव को लाने से पहले ही बोर्ड के पुराने सदस्यों को बदलने का फैसला कर लिया गया था. डीएमआरसी बोर्ड में दिल्ली सरकार की तरफ से चार नए प्रतिनिधि नियुक्त किए जाते हैं. दिल्ली के राजनीतिक इतिहास में पहली बार गैर-नौकरशाहों को बोर्ड में जगह दी गई है.

दिल्ली सरकार ने मेट्रो में महिलाओं के लिए मुफ्त सफर योजना का प्रस्ताव लाया था.


दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत इन नियुक्तियों पर कहते हैं, 'यह परिवर्तन कुछ नई चीजों को करने के लिए किया गया है. इस पर विवाद नहीं होना चाहिए क्योंकि उन्हें मनोनीत करने का अधिकार सरकार के पास ही होता है.'

महिलाओं को मेट्रो में मुफ्त यात्रा के लिए तरकीब
Loading...

अरविंद केजरीवाल के इस फैसले से साफ झलकता है कि वह महिलाओं को मेट्रो में मुफ्त यात्रा के लिए लगातार प्रयासरत हैं. बीते लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद केजरीवाल विधानसभा चुनाव में किसी भी तरह का रिस्क लेना नहीं चाहते.

जानकारों का मानना है कि अरविंद केजरीवाल महिलाओं को मेट्रो में मुफ्त यात्रा के लिए तरकीब पर तरकीब तलाश रहे हैं. इसके बावजूद नहीं लगता है कि मेट्रो में महिलाओं के लिए उनका महत्वाकांक्षी योजना परवान चढ़ेगा. हां, अरविंद केजरीवाल इस फैसले के बाद विपक्षियों और अधिकारियों के निशाने पर जरूर आ जाएंगे क्योंकि, डीएमआरसी बोर्ड में जिन चार लोगों की नियुक्ति हुई हैं उनमें राज्यसभा सांसद एनडी गुप्ता के बेटे नवीन गुप्ता का नाम चौंकाने वाला है.

ये भी पढ़ें:

खत्म हुई मुलायम-चंद्रशेखर की दोस्ती की विरासत, BJP के साथ नया अध्याय लिखेंगे नीरज शेखर

पीएम मोदी के खिलाफ अरविंद केजरीवाल ने क्यों अपना रखा है नरम रुख?

गाड़ियों पर क्यों लिखते हैं लोग अपनी जातियां, क्या कहते हैं मनोवैज्ञानिक?

दिल्ली पुलिस हाल के वर्षों में अपराध होने के बाद ही हरकत में क्यों आती है?

आज से FIR के लिए आपको नहीं जाना पड़ेगा थाने, नोएडा पुलिस खुद आएगी आपके पास

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 7:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...