सीबीआई से आलोक वर्मा को हटाना अनुचित: अरविंद केजरीवाल

पीएम नरेंद्र मोदी और जस्टिस एके सीकरी ने उन्‍हें हटाने पर मुहर लगाई जबकि मल्लिकार्जुन खड़गे ने आलोक वर्मा को हटाने का कड़ा विरोध किया.

भाषा
Updated: January 11, 2019, 11:52 PM IST
सीबीआई से आलोक वर्मा को हटाना अनुचित: अरविंद केजरीवाल
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: January 11, 2019, 11:52 PM IST
आम आदमी पार्टी (आप) संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सीबीआई के निदेशक पद से आलोक वर्मा को हटाए जाने के मोदी सरकार के फैसले को अनुचित बताया. केजरीवाल ने कहा कि अगर राफेल खरीद मामले में सरकार पाक-साफ है तो उसे वर्मा को इस मामले की जांच करने देना चाहिए था.

केजरीवाल ने इस मामले में प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये शुक्रवार को कहा ‘‘वर्मा राफेल मामले की जांच करना चाहते थे. लेकिन पिछले दो महीने से प्रधानमंत्री ने उन्हें हटाने के लिये पूरा जोर लगा रखा था. ये ठीक नहीं है.’’ उन्होंने कहा ‘‘अगर प्रधानमंत्री ने कोई गड़बड़ नहीं कर रखी थी तो उन्हें वर्मा को जांच करने देना चाहिए था. उससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाता.’’

बताते चलें कि गुरुवार को सीबीआई के प्रमुख आलोक वर्मा को पद से हटा दिया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और जस्टिस एके सीकरी की सदस्‍यता वाली उच्चाधिकार प्राप्त सलेक्‍शन कमिटी में यह फैसला लिया गया. यह बैठक पीएम मोदी के आवास पर करीब ढाई घंटे तक चली. सूत्रों ने बताया कि आलोक वर्मा को हटाने का फैसला 2-1 से लिया गया. पीएम मोदी और जस्टिस सीकरी ने उन्‍हें हटाने पर मुहर लगाई जबकि खड़गे ने आलोक वर्मा को हटाने का कड़ा विरोध किया.



आलोक वर्मा की गैरमौजूदगी में एम नागेश्‍वर राव सीबीआई की जिम्‍मेदारी संभालेंगे. इसके साथ ही आलोक वर्मा के खिलाफ सीवीसी की जांच भी जारी रहेगी.

इस बीच, सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा ने फायर एंड सेफ्टी के डीजी के तौर पर नई जिम्मेदारी लेने से इनकार कर दिया है. आलोक वर्मा ने अपने त्यागपत्र में लिखा, 'मेरा कार्यकाल 31 दिसंबर 2017 तक ही था जिसे सीबीआई निदेशक के तौर पर 31 दिसंबर 2019 तक बढ़ाया गया था. तो अब जब मैं सीबीआई के निदेशक के तौर पर काम नहीं कर रहा हूं और अग्निशमन सेवा, सिविल डिफेंस एंड होमगार्ड के डीजी के पद पर बने की उम्र पहले ही पूरा कर चुका हूं, इसलिए मुझे आज से ही रिटायर्ड माना जाए.'
(एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें-
Loading...

पिछड़ापन दूर करने के लिए सबसे पहले बिहार ने बनाया था सवर्ण आयोग

विशेषज्ञों की नजर में आसान नहीं है सवर्ण आरक्षण की राह, ये हैं कमियां

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...