लाइव टीवी

अयोध्या मामला: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा- क्या ज्योतिष में श्रीराम के जन्म के वक़्त को लेकर भी कुछ कहा गया है?

News18Hindi
Updated: October 1, 2019, 9:42 PM IST
अयोध्या मामला: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा- क्या ज्योतिष में श्रीराम के जन्म के वक़्त को लेकर भी कुछ कहा गया है?
मामले की सुनवाई के दौरान के परासरन ने भगवत गीता के कुछ श्लोकों को पढ़ा और एक न्यायिक व्यक्ति के रूप में माना जाने वाला स्थान पर जोर दिया. (File Photo)

अयोध्या मामले की सुनवाई के दौरान (Ayodhya Land Dispute case) मुस्लिम पक्ष (Muslim side) के वकील राजीव धवन ने बीच बहस में दखल देते हुए कहा- 'मेरे सारे ग्रह राहु और केतु के बीच हैं. मेरा बुरा वक़्त चल रहा है. शनि भी मुझ पर भारी है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2019, 9:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अयोध्या मामले (Ayodhya Case) की मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में 35वें दिन सुनवाई हुई. सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या (Ayodhya) की विवादित ज़मीन पर बहस के दौरान एक दिलचस्प बात हुई. जस्टिस एस ए बोबड़े ने हिन्दू पक्षकारों के वकील के. परासरन से पूछा- 'क्या ज्योतिष में श्रीराम के जन्म के वक़्त को लेकर भी कुछ कहा गया है?'

परासरन ने कुछ इतिहासकारों का हवाला देते हुए कहा कि ऐसे कुछ साक्ष्य हैं. श्रीराम के जन्म के वक़्त को लेकर कई जगह टिप्पणी की गई हैं. तभी मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने बीच बहस में दखल देते हुए कहा- 'मेरे सारे ग्रह राहु और केतु के बीच हैं. मेरा बुरा वक़्त चल रहा है. शनि भी मुझ पर भारी है. भारत में ज्योतिष विज्ञान सूर्य और चंद्र और जन्म के सही वक्त पर आधारित है. हम ग्रहों की गति के मुताबिक हर रोज की घटनाओं को लेकर भविष्यवाणी करते हैं. लेकिन क्या भगवान राम के केस में ऐसा है? क्या हमें उनके जन्मस्थान और जन्म की तारीख के बारे में पुख्ता तौर पर कुछ पता है. नहीं ना?'​

परासरन ने भगवत गीता के कुछ श्लोकों को पढ़ा 
मामले की सुनवाई के दौरान के. परासरन ने भगवत गीता के कुछ श्लोकों को पढ़ा और एक न्यायिक व्यक्ति के रूप में माना जाने वाले स्थान पर जोर दिया. परासरन ने कहा कि अगर लोगों को विश्वास है कि किसी जगह पर दैव्य शक्ति है तो इसमें न्यायिक व्यक्ति माना जा सकता है. जिसका दिव्य अभिव्यक्ति से कोई अंतर न हो. परासरन ने कुड्डालोर मंदिर का उदाहरण देते हुए कहा कि कुड्डालोर मंदिर में भी कोई मूर्ति नहीं है और केवल एक दिया जलता है, जिसकी पूजा की जाती है.

धवन और मीनाक्षी अरोड़ा के दखल देने पर सीजेआई ने जताई नाराजगी
इससे पहले रामलला विराजमान के वकील वैद्यनाथन की दलील के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील धवन और मीनाक्षी अरोड़ा की टीका टिप्पणी और दखल देने पर सीजेआई ने नाराजगी जताई. सीजेआई ने कहा- 'आपलोगों को क्या लगता है कि हमारे पास दिमाग नहीं है. ऐसे सुनवाई नहीं होगी.' इसके बाद धवन ने खेद जताया.

ये भी पढ़ें-
Loading...

अयोध्या केस: मुस्लिम पक्ष ने कहा- बाबर के काम को इस्लामिक कानून की कसौटी पर नहीं परख सकते

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 1, 2019, 8:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...