लाइव टीवी

अयोध्या विवाद : बाबरी विध्वंस केस में क्या है 197-198 नंबर का संबंध?

News18Hindi
Updated: November 7, 2019, 4:46 PM IST
अयोध्या विवाद : बाबरी विध्वंस केस में क्या है 197-198 नंबर का संबंध?
बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में 49 केस दर्ज हुए थे, जिनमें से 47 मामले पत्रकारों से मारपीट के थे

Ram Mandir-Babri Masjid dispute: बाबरी ढांचा गिराने की सिर्फ 2 FIR दर्ज हुई थीे, बाकी 47 मामले पत्रकारों से मारपीट और फोटोग्राफरों के कैमरा तोड़ने-छीनने के थे. केस नंबर 198 में नामजद थे आडवाणी, जोशी, कटियार, उमा भारती और साध्वी ऋतंभरा सहित आठ हिंदूवादी नेता.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2019, 4:46 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अयोध्या (Ayodhya) में 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद का ढांचा गिराने (Babri Masjid Demolition) के बाद कुल 49 मामले दर्ज किए गए थे. लेकिन क्या आपको यह पता है कि इनमें से ढांचा गिराने के सिर्फ 2 मामले थे, बाकी सब पत्रकारों से मारपीट और फोटोग्राफरों से कैमरा तोड़ने-छीनने के थे. ढांचा गिराने के एक मामले में अज्ञात के खिलाफ एफआईआर (FIR) थी तो दूसरे में आठ लोग नामजद थे. ये सभी केस थाना राम जन्मभूमि, अयोध्या (Ram Janmabhumi, Ayodhya) में दर्ज किए गए थे.

केस नंबर 197: 6 दिसंबर 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद शाम सवा पांच बजे थाना राम जन्मभूमि, अयोध्या में अज्ञात कार सेवकों के खिलाफ बाबरी मस्जिद गिराने का षड्यंत्र, मारपीट और अन्य मामलों में केस दर्ज किया गया. यह केस थाना प्रभारी पीएन शुक्ल ने दर्ज किया था.


केस नंबर 198: पहली एफआईआर के करीब 10 मिनट बाद केस नंबर 198 दर्ज हुआ. इसमें नामजद हुए अशोक सिंघल, गिरिराज किशोर, लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, विष्णु हरि डालमिया, विनय कटियार, उमा भारती और साध्वी ऋतंभरा. आठ लोगों के खिलाफ राम कथा कुंज सभा मंच से मुस्लिम समुदाय के खिलाफ धार्मिक उन्माद भड़काने वाला भाषण देकर बाबरी मस्जिद गिरवाने का मुकदमा दर्ज हुआ. इसे थाने के दूसरे पुलिस अधिकारी गंगा प्रसाद तिवारी ने रजिस्टर किया.

Ayodhya countdown begins, Supreme Court verdict on Ayodhya dispute case, Ram Mandir-Babri Masjid dispute, babri masjid case history, Ram Mandir, Babri Masjid, राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद, अयोध्या, अयोध्या विवाद मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला, राम मंदिर, बाबरी मस्जिद विवाद, बाबरी मस्जिद मामला इतिहास
अयोध्या: राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले में सुनवाई पूरी हो चुकी है


पहले ललितपुर में हो रही थी केस की सुनवाई
मुकदमे के ट्रायल के लिए पहले ललितपुर में विशेष अदालत स्थापित की गई. बाद में यह रायबरेली ट्रांसफर कर दी गई. सरकार ने बाद में सभी केस सीबीआई को जांच के लिए दे दिए. उत्तर प्रदेश सरकार ने 9 सितंबर 1993 को 48 मुकदमों के ट्रायल के लिए लखनऊ में स्पेशल कोर्ट के गठन की अधिसूचना जारी की. लेकिन इस अधिसूचना में केस नंबर 198 शामिल नहीं था, जिसका ट्रायल रायबरेली की स्पेशल कोर्ट में चल रहा था. फिर सीबीआई ने सभी 49 मामलों में चालीस अभियुक्तों के खिलाफ संयुक्त चार्जशीट फाइल की.
Loading...

ये भी पढ़ें:

अयोध्या में इस दलित ने किया था राम मंदिर का शिलान्यास, अब कही ये बड़ी बात!
अयोध्या की विवादित जमीन पर बौद्ध क्यों कर रहे हैं दावा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 3:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...