चाको की दो टूक: दिल्ली कांग्रेस की कमान ना तो सिद्धू को मिलेगी ना ही शत्रुघ्न को

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) में चुनाव से ठीक छह महीने पहले कांग्रेस (Congress) को झटका देते हुए पार्टी की दिल्ली इकाई के प्रभारी पीसी चाको ने राज्य के शीर्ष नेताओं को कर्तव्यों से मुक्त करने के लिए कहा है.

News18Hindi
Updated: August 29, 2019, 6:09 PM IST
चाको की दो टूक: दिल्ली कांग्रेस की कमान ना तो सिद्धू को मिलेगी ना ही शत्रुघ्न को
विधानसभा चुनाव से पहले पीसी चाको ने कहा, प्रमुख नेताओं को जिम्मेदारियों से करो मुक्त.
News18Hindi
Updated: August 29, 2019, 6:09 PM IST
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) में चुनाव से ठीक छह महीने पहले कांग्रेस (Congress) को झटका देते हुए, पार्टी की दिल्ली इकाई के प्रभारी पीसी चाको ने राज्य के शीर्ष नेताओं को कर्तव्यों से मुक्त करने के लिए कहा है. राज्य इकाई के नए प्रमुख के चयन पर चर्चा करने के लिए चाको और जिला अध्यक्षों के साथ अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के बैठक करने के दो दिन बाद उन्होंने यह बड़ी बात कही है. पिछले महीने शीला दीक्षित के निधन के बाद से राज्य इकाई के अध्यक्ष का पद खाली पड़ा है.

ये नेता नहीं है प्रदेश अध्यक्ष पद के दावेदार
चाको ने उन मीडिया रिपोर्टों को खारिज कर दिया, जिसमें नवजोत सिंह सिद्धू और शत्रुघ्न सिन्हा को प्रदेश अध्यक्ष पद का दावेदार बताया गया था. उन्होंने कहा कि, ऐसी खबरें केवल अनुमान हैं. दिल्ली कांग्रेस का अगला अध्यक्ष दिल्ली से ही होगा.

दिल्ली की 5 लोकसभा सीटों पर आप को तीसरे स्थान पर धकेल चुकी है कांग्रेस

इस महीने की शुरुआत में, अंतरिम पार्टी अध्यक्ष का पदभार संभालने के बाद सोनिया गांधी ने दिल्ली कांग्रेस के नेताओं से मुलाकात की थी. दिल्ली कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि शीला दीक्षित का विकल्प ढ़ूढ़ना बहुत चुनौतीपूर्ण काम होगा जिन्होंने अपनी अधिक उम्र के बावजूद 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का नेतृत्व किया था. पीसी चाको ने कहा कि कांग्रेस सात लोकसभा क्षेत्रों में से पांच पर आप को तीसरे स्थान पर धकेलने में कामयाब रही. इसके अलावा दिल्ली में सत्तारूढ़ पार्टी आप से कांग्रेस को अधिक वोट मिले. तीन बार की दिल्ली की मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शीला दीक्षित का 20 जुलाई को निधन हो गया.

इन नामों पर भी किया जा रहा है विचार
एक कांग्रेस नेता ने कहा, दिल्ली अध्यक्ष पद के लिए कई नामों पर चर्चा चल रही है. तीन कार्यकारी अध्यक्ष- राजेश लिलोथिया, हारुन यूसुफ और देवेंद्र यादव भी हैं. इसके अलावा, दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्षों जैसे जेपी अग्रवाल और सुभाष चोपड़ा में से भी किसी को अध्यक्ष बनाया जा सकता है. हालांकि, अग्रवाल के करीबी सूत्रों ने कहा कि वह अपनी उम्र के कारण प्रभार लेने के लिए अनिच्छुक है. पार्टी नेताओं ने बताया कि दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित और शीला दीक्षित सरकार में पूर्व मंत्री योगानंद शास्त्री के नाम पर भी विचार किया जा रहा है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 29, 2019, 5:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...