NCB की ड्रग्स रैकेट पर अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई, 400 करोड़ की ड्रग्स बरामद

एनसीबी की छापेमारी में एक चौंकाने वाला खुलासा भी हुआ है. घर में ही बने लैब में ड्रग्स की खेप तैयार की जा रही थी. इन्हें वाद्य यंत्रों में छुपाकर देश और विदेश भेजा था.

News18Hindi
Updated: May 11, 2019, 4:31 PM IST
News18Hindi
Updated: May 11, 2019, 4:31 PM IST
नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) देशभर में ड्रग्स की धरपकड़ और नेशनल-इंटरनेशनल ड्रग्स सिंडिकेट पर काम करने के लिए जानी जाती है. उसी एनसीबी को हाल में एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी. दरअसल, अफ्रीकी मूल की एक महिला लगेज में 24 किलो ड्रग्स लेकर साउथ अफ्रीका जाने की तैयारी में थी. तभी दिल्ली एयरपोर्ट पर तैनात CISF ने एनसीबी को कॉल कर इस बात की जानकारी दी. उसी वक्त एनसीबी ने उस महिला को गिरफ्तार कर जब पूछताछ शुरू की तो देश के सबसे बड़े ड्रग्स नेटवर्क की एक अहम कड़ी सामने आ गई. घटना 8-9 मई की है.

महिला ने पूछताछ में बताया कि ग्रेटर नोएडा के एक घर में 1800 किलो स्यूडोएफईड्रीन छुपाकर रखी हुई है. जिसे दिल्ली एनसीआर और दूसरे मुल्कों में सप्लाई होना था. उस घर में रेड कर न केवल भारी तादात में यह ड्रग्स बरामद की गई बल्कि दो और नाइजीरिया मूल के लोगो को गिरफ्तार किया गया.



आपको बता दें कि स्यूडोएफईड्रीन एक फार्मा केमिकल है, जिसका कई महत्वपूर्ण दवाओं को बनाने में इस्तेमाल होता है. लेकिन फार्मा कंपनियों से गैर कानूनी तरीके से यह केमिकल ड्रग्स सप्लायरों तक पहुच जाता है. जिसके बाद स्यूडोएफईड्रीन केमिकल से देश-विदेशों में एम फेंटामाइन ड्रग्स तैयार किया जाता था. इसे आइस, याबा, क्रिस्टल मैच, YW, नाम से जाना जाता है.

यह एक पार्टी ड्रग्स है और अफ्रीकन देशों में इसकी सबसे ज्यादा खपत है. स्यूडोएफईड्रीन कानूनी तरीके से देश में केवल दो बड़ी फैक्टरी में बनाता है, जिसकी एक फेक्ट्री महाराष्ट्र और एक साउथ इंडिया में है. पर ड्रग्स के कारोबारी इन्हीं फैक्टरी में साठगांठ कर इन केमिकल से ड्रग्स तैयार कर देश की जड़े कमजोर कर रहे है. पकड़े गए तीनो लोगो के पास से कोकीन और नकली हेरोइन भी बरामद की गई है.

पकड़े गए लोग महिला आभूषणों में छुपाकर ड्रग्स की सप्लाई करते थे. ये डिस्ट्रिब्यूटर और सप्लायर के तौर पर लंबे वक्त से दिल्ली में सक्रिय थे.

वहीं नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने बेंगलुरु और हैदराबाद में भी दो अलग-अलग घरों में रेड कर करीब 480 किलो केटामाइन बरामद की है. बता दें कि ड्रग्स की यह खेप घर में एक लैब में तैयार की जा रही थी. इन्हें वाद्य यंत्रों में छुपाकर देश के अलग-अलग शहरों के अलावा ऑस्ट्रेलिया और दूसरे देशो में सप्लाई होना था. ड्रग्स की इस खेप का सरगना देश का एक बहुत बड़ा ड्रग्स सप्लायर बताया जाता है. जिसे ब्यूरो ने उस वक्त गिरफ्तार किया जब वह हुलिया बदलकर भागने की फिराक में था. पकड़ा गया शख्स ड्रग्स कारोबार से करोड़ों रुपए कमा चुका है. यही वजह है की रेड के वक्त उसके घर से नोट गिनने की मशीन भी बरामद की गई है.

बताया जाता है कि तबला ढोलक में छुपाकर ड्रग्स देश के बाहर जाता था. पकड़ा गया शख्स शिवराज उर्ज है जो साउथ इंडिया का एक बड़ा ड्रग्स कारोबारी है. यह शख्स कई देशो में ड्रग्स सप्लाई कर करोड़ो की प्रोपर्टी बना चुका है.
Loading...

ये भी पढ़ें-

अखिलेश यादव ने कहा- ‘रेड कार्ड’ से चुनाव जीतना चाहती है बीजेपी

मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी समीर कुलकर्णी ने CM फडणवीस से मांगी सुरक्षा

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...