लाइव टीवी

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: दिल्ली की साकेत कोर्ट में सुनवाई टली, अब 20 जनवरी को फैसला

News18Hindi
Updated: January 14, 2020, 10:51 AM IST
मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: दिल्ली की साकेत कोर्ट में सुनवाई टली, अब 20 जनवरी को फैसला
मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में 40 नाबालिग बच्चियों और लड़कियों से रेप और यौन शोषण होने की बात सामने आई थी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले (Muzaffarpur Shelter Home Case) में साकेत कोर्ट (Saket Court) में सभी आरोपियों के जमानती न होने के कारण सुनवाई टल गई. कोर्ट ने मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर (Brajesh Thakur) की अर्जी पर सीबीआई को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. सीबीआई को दो दिन में सीबीआई को जवाब दाखिल करना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2020, 10:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेप मामले (Muzaffarpur Shelter Home Case) में दिल्ली (Bihar) के साकेत कोर्ट (Saket Court) में सुनवाई टल गई है. अब इस मामले में अदालत सोमवार 20 जनवरी को दोपहर ढाई बजे के करीब अपना फैसला सुनाएगा. कोर्ट में सभी आरोपियों के जमानती न होने के कारण मामले की सुनवाई टली है. मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर की तरफ से कोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा गया है कि सीबीआई (CBI) ने हलफनामे में कहा कि जिन लड़कियों ने यह बयान दिया कि 31 लड़कियों की हत्या की गई वो बात बाद में झूठी निकली. कोर्ट में ब्रजेश ठाकुर की तरफ से दाखिल याचिका में कहा गया कि पीड़ित लड़कियों द्वारा दर्ज किए गए बयान पर विश्वास ना किया जाए और उनके बयान को आधार ना माना जाए. साकेत कोर्ट ने ब्रजेश ठाकुर की अर्जी पर सीबीआई को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. सीबीआई को दो दिन में सीबीआई को जवाब दाखिल करना है.



ये मामला मुंबई (Mumbai) की टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंस (TISS) की रिपोर्ट के बाद सामने आया था. इस मामले में साकेत कोर्ट ने ब्रजेश ठाकुर समेत 21 आरोपियों के खिलाफ पॉक्सो, बलात्कार, आपराधिक साजिश और अन्य धाराओं में आरोप तय किया था. सीबीआई ने इस मामले में ब्रजेश ठाकुर को मुख्य आरोपी बनाया है.क्या है पूरा मामला
बता दें कि मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में 40 नाबालिग बच्चियों और लड़कियों से रेप और यौन शोषण होने की बात सामने आई थी. इस मामले में आरोप है कि जिस शेल्टर होम में बच्चियों के साथ रेप हुआ था, वो ब्रजेश ठाकुर का है. इस मामले में ब्रजेश ठाकुर के अलावा शेल्टर होम के कर्मचारी और बिहार सरकार के समाज कल्याण विभाग के अधिकारी भी आरोपी हैं.

SC ने बिहार से केस दिल्ली ट्रांसफर किया था
मामला सुर्खियों में आने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इसे बिहार से दिल्ली ट्रांसफर कर दिया था, जिसके बाद साकेत कोर्ट में इसकी सुनवाई चल रही है. कोर्ट ने 20 मार्च, 2018 को मामले में आरोप तय किए थे. आरोपियों में आठ महिलाएं और 12 पुरुष शामिल हैं. कोर्ट ने ब्रजेश ठाकुर समेत 21 आरोपियों के खिलाफ पॉक्सो, रेप, आपराधिक साजिश और अन्य धाराओं के तहत आरोप तय किए थे.

ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट से बोली CBI- शेल्टर होम में नहीं हुई थी किसी लड़की की हत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मुजफ्फरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 10:23 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर