लाइव टीवी

विधानसभा चुनाव 2019: राष्ट्रवाद और विकास एक-दूसरे के पूरक-भूपेंद्र यादव

News18Hindi
Updated: October 11, 2019, 11:17 PM IST
विधानसभा चुनाव 2019: राष्ट्रवाद और विकास एक-दूसरे के पूरक-भूपेंद्र यादव
आगामी महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों में विकास एवं स्थानीय मुद्दों को नजरंदाज करने के विरोधी दलों के आरोपों को भाजपा महासचिव भूपेंद्र यादव ने सिरे से खारिज कर दिया है. (फाइल फोटो)

भाजपा महासचिव (BJP General Secretary) भूपेंद्र यादव (Bhupendra Yadav) ने कहा है कि सरकार विकास के एजेंडे पर काम कर रही है और उनकी पार्टी राष्ट्रवाद एवं विकास को विरोधी दलों के नजरिए से नहीं देखती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2019, 11:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आगामी महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव (Maharashtra and Haryana Assembly Election 2019 )  में विकास एवं स्थानीय मुद्दों को नजरंदाज करने के विपक्ष के आरोपों को भाजपा महासचिव भूपेंद्र यादव (Bhupendra Yadav) ने खारिज कर दिया है.

भाजपा महासचिव भूपेंद्र यादव ने कहा, विपक्ष के आरोपों को जनता ने पिछले लोकसभा चुनाव में खारिज कर दिया था साथ ही महाराष्ट्र और हरियाणा के विधानसभा चुनाव में भी जनता उन्हें नकार देगी. उन्होंने कहा, हम राष्ट्रवाद और विकास को अलग-अलग नहीं मानते. ये दोनों एक दूसरे के पूरक हैं.

महाराष्ट्र में तीन चौथाई सीटों पर जीत हासिल करेगा भाजपा-शिवसेना गठबंधन
गौरतलब है कि कांग्रेस सहित विपक्षी दल भाजपा नीत सरकार पर चुनाव में बालाकोट, अनुच्छेद 370 जैसे मुद्दों को उठाकर बेरोजगारी एवं स्थानीय मुद्दे से ध्यान बंटाने का आरोप लगाते रहे हैं. महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन की संभावना के संबंध में भाजपा नेता ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि महाराष्ट्र की जनता भाजपा-शिवसेना गठबंधन को पूरा समर्थन देगी और वह तीन चौथाई सीटों पर जीत हासिल कर सकेगी.

भाजपा 150 और शिवसेना 124 सीटों पर लड़ रही है विधानसभा चुनाव
भूपेंद्र यादव ने कहा कि पिछले पांच वर्षों में प्रदेश में भाजपा ने स्थायी सरकार देते हुए राज्य के विकास के साथ सभी वर्गों के विकास के लिए बेहतरीन काम किया है. गौरतलब है कि महाराष्ट्र विधानसभा की 288 सीटों में से भाजपा 150 और शिवसेना 124 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जबकि छोटे सहयोगी दलों के लिए 14 सीटें छोड़ी गई हैं.

2014 में बहुमत से 20 सीट दूर रह गई थी भाजपा
Loading...

2014 का विधानसभा चुनाव दोनों दलों ने अलग-अलग लड़ा था. 2014 में भाजपा को 122 जबकि शिवसेना को 63 सीटें मिलीं थीं. पूर्ण बहुमत से 20 सीट दूर रहने की वजह से भाजपा ने शिवसेना की मदद से सरकार बनाई थी. महाराष्ट्र में भाजपा के नेतृत्व वाली राजग गठबंधन में भाजपा, शिवसेना, आरपीआई (ए), आरएसपी और रैयत क्रांति पार्टी जैसे दल शामिल हैं.

(एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें - 

लखनऊ: हिंदू धर्म की रक्षा के लिए लोगों को त्रिशूल दीक्षा देगा विहिप

RFL मामला: दिल्ली हाईकोर्ट ने मलविंदर की याचिका पर आदेश सुरक्षित रखा 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 9:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...