लाइव टीवी

BJP सांसद निशिकांत दुबे ने झारखंड में अपनी ही सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

अमिताभ सिन्हा | News18 Jharkhand
Updated: October 17, 2019, 1:30 PM IST
BJP सांसद निशिकांत दुबे ने झारखंड में अपनी ही सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा
लोकसभा चुनावों के ठीक पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने फरवरी, 2019 में इस लाइन की आधारशिला भी रखी थी. (फाइल फोटो)

गोड्डा लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे (BJP MP Nishikant Dubey) इन दिनों आहत हैं.

  • Share this:

दिल्ली. झारखंड (Jharkhand) के गोड्डा लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे (BJP MP Nishikant Dubey) इन दिनों आहत हैं. आहत भी हैं तो अपनी बीजेपी की ही झारखंड सरकार से और केंद्र के कोयला मंत्रालय से. निशिकांत दुबे ने अपने लोकसभा क्षेत्र गोड्डा में देवघर से गोड्डा होते हुए पीरपैंती के लिए एक रेलवे लाइन के निर्माण को लेकर जमकर बवाल काटा था. मनमोहन सरकार के दौरान वर्ष 2014 फरवरी में 127 किलोमीटर लंबी इस रेल लाइन के लिए अनुमति दे दी गई थी, लेकन कोयला मंत्रालय ने वर्ष 2017 में इसमें रोड़ा अटका दिया. ढाई साल तक दिल्ली से झारखंड में हर दरवाजे पर दस्तक देकर हताश हो चुके सांसद निशिकांत दुबे ने झारखंड सरकार (Jharkhand Government) और कोयला मंत्रालय (Ministry of Coal) के खिलाफ रांची उच्च न्यायालय (Ranchi High Court) में पीआईएल (PIL) दायर कर दिया है, ताकि गोड्डा की जनता को न्याय मिल सके.


कोयला मंत्रालय के इस कदम से लगा था बड़ा झटका


दरअसल, झारखंड सरकार और रेल मंत्रालय के बीच इसकी लागत का 50-50 फीसदी हिस्सा वहन करने के लिए करार हुआ था, लेकिन कोयला मंत्रालय ने वर्ष 2017 में आपत्ति जता दी कि गोड्डा-पीरपैंती रेलवे लाइन पर उन्होंने कोल व्लॉक आवंटित कर दिया है. कोयला मंत्रालय के इस कदम से निशिकांत दुबे समेत पूरे इलाके में लोगों को बड़ा झटका लगा. आखिर आजादी के बाद पहली बार इस पिछड़े इलाके में रेलवे लाइन की शुरुआत होने जा रही थी. लोकसभा चुनावों के ठीक पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने फरवरी, 2019 में इस लाइन की आधारशिला भी रखी थी.


नई रेलवे लाइन में पैसा लगाने को तैयार नहीं है झारखंड सरकार



अब मुश्किल ये है कि नई रेलवे लाइन को बिहार (Bihar) होकर जाना पड़ेगा और इस कारण झारखंड सरकार भी इस प्रोजेक्ट पर पैसा लगाने को तैयार नहीं है. निशिकांत दुबे ने रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) को पत्र लिखकर हस्तक्षेप करने की मांग की है, ताकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के चुने गए आकांक्षापूर्ण (Aspirational) जिलों में से एक गोड्डा के साथ नाइंसाफी नहीं हो.


2019 में लगातार तीसरी बार गोड्डा से जीतकर लोकसभा पहुंचे बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने इस इलाके के लिए दिल्ली में खूब लड़ाई लड़ी. एम्स देवघर लेकर गए, हवाई अड्डा बनवाया, कई बड़े उद्योग धंधे वहां लगवाए, लेकिन आजादी के 72 साल बाद ये रेलवे लाइन का झटका उन्हें हिलाकर रख दिया है.


गोड्डा में विधानसभा की कुल 6 सीटें हैं और चुनावों के ऐलान के ठीक पहले अपने ही सांसद का सरकार के खिलाफ मोर्च खोलना इस इलाके में बीजेपी के लिए मुश्किलें पैदा कर सकता है.


Loading...

ये भी पढ़ें:- झारखंड की छात्रा Canada Embassy में बनीं एक दिन की Ambassador, लौटने पर हुआ भव्‍य स्‍वागत


रिश्ते के मामा ने 6 महीने तक किया नाबालिग का यौन शोषण, मोबाइल मैसेज से हुआ खुलासा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 17, 2019, 1:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...