बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में निकलेगा SC/ST एक्ट पर सवर्णों की नाराजगी दूर करने का फॉर्मूला!

बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में सवर्णों को मनाने की रणनीति तैयार करते वक्त यह भी ध्यान रखा जाएगा कि कहीं अनुसूचित जाति के लोग फिर से नाराज न हो जाएं!

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: September 8, 2018, 11:23 AM IST
बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में निकलेगा SC/ST एक्ट पर सवर्णों की नाराजगी दूर करने का फॉर्मूला!
क्या बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मिलेगा 2019 की जीत का मंत्र!
ओम प्रकाश
ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: September 8, 2018, 11:23 AM IST
एससी/एसटी एक्ट को लेकर सवर्णों की नाराजगी ने बीजेपी की चिंता बढ़ा दी है. सवर्ण बीजेपी के कोर वोटर माने जाते हैं, इसके बावजूद उन्होंने छह सितंबर के बंद में सत्तारूढ़ दल के खिलाफ नाराजगी दिखाई. राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे चुनावी राज्यों में बंद का काफी असर दिखा था, इसलिए पार्टी की चिंता जायज है.

दिल्ली के अंबेडकर भवन होने वाली पार्टी की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में न सिर्फ लोकसभा और विधानसभा चुनाव को लेकर लेकर रणनीति पर चर्चा होगी, बल्कि एससी/एसटी एक्ट पर पार्टी के स्टैंड को लेकर सवर्णों में पनपी नाराजगी को भी दूर करने का फार्मूला निकाला जा सकता है.

पार्टी के कुछ लोगों की राय ये है कि गृह मंत्रालय इस एक्ट के तहत मामला दर्ज करने से पहले राज्यों को सावधानी बरतने की सलाह दे. ऐसा करने के बाद पार्टी विभिन्न राज्यों के सवर्ण संगठनों से बातचीत करके नाराजगी दूर करने का प्लान बना सकती है. पार्टी के कुछ नेताओं का मानना है कि सवर्णों के गुस्से को लेकर सतर्कता बरतने की जरूरत है.

 SC/ST act, upper castes, BJP, Rajasthan assembly elections, Madhya Pradeshassembly elections, Chhattisgarh assembly elections, BJP National Executive, 2019 loksabha Elections, National Citizen Register, NRC, OBC Commission, Amit Shah, Prime Minister Narendra Modi,एससी/एसटी एक्ट, सवर्ण, बीजेपी, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव, बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी, लोकसभा, राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी), ओबीसी आयोग, अमित शाह, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी         बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की शुरुआत करते अमित शाह

मतलब साफ है कि देश भर में एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के बाद जो हालात बने हैं उस पर इस बैठक में प्रमुखता से चर्चा हो सकती है. हालांकि, सवर्णों को मनाने की रणनीति तैयार करते वक्त यह भी ध्यान रखा जाएगा कि कहीं अनुसूचित जाति के लोग फिर से नाराज न हो जाएं.

20 मार्च सुप्रीम कोर्ट ने एससी/एसटी एक्ट में एक बदलाव कर दिया था. तब अनुसूचित जाति के संगठनों ने कहा कि इसे सरकार ने कमजोर कर दिया. इस वर्ग के सांसदों, मंत्रियों ने सरकार पर दबाव बनाना शुरू किया, क्योंकि अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों में सरकार विरोधी माहौल बनना शुरू हो गया था. इसमें बदलाव के खिलाफ 2 अप्रैल को अनुसूचित जाति के लोगों का देशव्यापी आंदोलन हुआ था.

ये भी पढ़ें: SC/ST एक्‍ट के विरोध पर BJP सांसद पार्टी पर भड़कीं-'संविधान लागू करो वर्ना कुर्सी खाली करो'

इसलिए सरकार एससी/एसटी एक्ट संशोधन बिल ले आई और वह दोनों सदनों में पास हो गया. अब सवर्णों के संगठन इस एक्ट को 20 मार्च से पहले वाली स्थिति में करने का विरोध कर रहे हैं. इसे लेकर उनके निशाने पर सरकार आ गई है. इसलिए सूत्र बता रहे हैं कि इसका किसी न किसी रूप डैमेज कंट्रोल करने की कोशिश हो सकती है.

राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को चुनाव में बड़ा मुद्दा बनाने की रणनीति बन सकती है. बीजेपी देश भर में एनआरसी लागू करने की बात कह सकती है. बांग्लादेशी घुसपैठियों और रोहिंग्या को भारत की धरती से बाहर निकालने का संकल्प लिया जाएगा. इस पर पार्टी को फायदा मिलने की उम्मीद है. एक पूरा सत्र लोकसभा चुनाव की तैयारियों पर चर्चा के लिए रखा गया है. ताकि सवर्णों, पिछड़ों और अनुसूचित जातियों सहित सभी वर्गों को खुश करने वाली रणनीति का खाका खींचा जा सके.

पार्टी ये नहीं चाहती कि उसकी इमेज एससी/एसटी विरोधी बने, क्योंकि 2014 के लोकसभा चुनावों में 24 प्रतिशत दलितों ने बीजेपी के लिए मतदान किया था. ओबीसी का भारी समर्थन मिला था. इसलिए सामाजिक समरसता बीजेपी का 2019 के लिए जीत का नया मंत्र होगा.

इसे भी पढ़ें: वही सवर्ण एक्‍ट का विरोध कर रहे हैं जिनकी मंशा SC/ST के उत्पीड़न की: BJP सांसद

एससी/एसटी कानून को उसके मूल स्वरूप में पहुंचाने और ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा दिलवाने के लिए प्रधानमंत्री का अभिनंदन भी किया जाएगा. बताया जाएगा कि ओबीसी और अनुसूचित जातियों के लिए सरकार ने क्या काम किया है. कार्यकारिणी में राज्यों के अध्यक्षों को अपने-अपने प्रदेश का रिपोर्ट कार्ड पेश करने के लिए कहा गया है.

 SC/ST act, upper castes, BJP, Rajasthan assembly elections, Madhya Pradeshassembly elections, Chhattisgarh assembly elections, BJP National Executive, 2019 loksabha Elections, National Citizen Register, NRC, OBC Commission, Amit Shah, Prime Minister Narendra Modi,एससी/एसटी एक्ट, सवर्ण, बीजेपी, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव, बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी, लोकसभा, राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी), ओबीसी आयोग, अमित शाह, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी        बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी में जुटे पार्टी नेता

शनिवार को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह बोलेंगे. कार्यकारिणी का समापन रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण से होगा. उम्मीद यही कि उनका भाषण सरकार की उपलब्धियों और आने वाले चुनावों की तैयारियों के इर्द-गिर्द रहेगा. वह मई तक चलने वाली चुनावी गहमागहमी में पार्टी पदाधिकारियों को जीत का मंत्र दे सकते हैं.

ये भी पढ़ें: RSS पर इस तरह हमलावर क्यों हैं राहुल गांधी?
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर