चांदनी चौक बवालः आप मंत्री का दावा, हिंदू-मुस्लिम भाइयों ने गले मिल दूर कर लिए थे शिकवे

इमरान हुसैन ने कहा कि रविवार की रात को ही बवाल के बाद हमारे हिंदू और मुसलमान भाई एक साथ थाने में वार्ता करने पहुंचे. इस दौरान एक दूसरे को गले लगाया गया और मामला वहीं खत्म कर दिया गया.

News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 4:14 PM IST
चांदनी चौक बवालः आप मंत्री का दावा, हिंदू-मुस्लिम भाइयों ने गले मिल दूर कर लिए थे शिकवे
आप मंत्री ने कहा कि हम किसी भी प्रकार का दंगा अपने क्षेत्र में नहीं चाहते हैं.
News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 4:14 PM IST
दिल्ली के चांदनी चौक इलाके में रविवार को हुए बवाल के बाद जहां एक ओर गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को बुधवार को तलब कर फटकार लगाई. वहीं दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी के विधायक और दिल्ली के मंत्री इमरान हुसैन ने संकेत दिए कि यह मामला उसी दिन सुलझ गया था. चांदनी चौक के हौज काजी इलाके में एक स्कूटर पार्किंग को लेकर उपजे इस विवाद ने सांप्रदायिक रूप ले लिया था.

हम नहीं चाहते कोई बवाल
इस मसले पर इमरान हुसैन ने कहा कि रविवार की रात को ही बवाल के बाद हमारे हिंदू और मुसलमान भाई एक साथ थाने में वार्ता करने पहुंचे. इस दौरान एक दूसरे को गले लगाया गया और मामला वहीं खत्म कर दिया गया. मैं भी वहीं मौजूद था. उन्होंने कहा कि न हिंदू और न ही मुसलमान, किसी भी तरह का दंगा हमारे इलाके में चाहते हैं.


Loading...

क्या था मामला
प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, यह घटना रविवार देर रात उस समय हुई जब आस मोहम्मद नाम का युवक एक इमारत के बाहर अपना स्कूटर खड़ा कर रहा था. इसे लेकर वहां रहने वाले संजीव गुप्ता ने आपत्ति जताई. संजीव की पत्नी बबीता ने बताया कि जब उनके पति ने स्टॉल के पास स्कूटर खड़ा करने पर आपत्ति की तो उस वक्त आस मोहम्मद वहां से चला गया. लेकिन बाद में वो कुछ और लोगों के साथ आया और उसने तोड़फोड़ और मारपीट की. बताया जा रहा है कि जो लोग उसके आए थे, उन सबने शराब पी रखी थी.

दोनों तरफ से लगे आरोप
इस मामले में दोनों पक्ष अलग-अलग दावे कर रहे थे. 27 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर साकिब ने कहा कि जब मोहम्मद की पिटाई कर दी गई, तो उसने और उसके परिवार के अन्य सदस्यों ने थाने पहुंचकर मामला दर्ज कराया. इस घटना से जुड़े एक वीडियो में पार्किंग विवाद को लेकर कुछ लोग एक युवक की कथित रूप से पिटाई करते दिख रहे हैं.

इलाके में रहने वाले आकिब हसन ने कहा, ‘जब मोहम्मद ने अपना स्कूटर खड़ा किया तो संजीव गुप्ता ने उससे कहा कि वो अपना स्कूटर कहीं और ले जाए, नहीं तो वो उसे आग लगा देंगे. इसके बाद दोनों का झगड़ा हो गया, जिसमें गुप्ता और कुछ अन्य लोगों ने मोहम्मद को इमारत के अंदर खींचकर उसकी पिटाई कर दी.'

पुलिस दोनों पक्षों को ले गई थी थाने
झगड़ा बढ़ने पर स्थानीय लोगों ने पुलिस कंट्रोल रूम को फोन कर दिया. इसके बाद वहां पहुंची पुलिस मोहम्मद और संजीव गुप्ता दोनों को थाने ले गई थी. साकिब ने दावा किया, ‘जब मोहम्मद और गुप्ता पुलिस थाने में थे, कुछ अज्ञात व्यक्ति मंदिर के बाहर एकत्रित हो गए और उसमें तोड़फोड़ की. इससे क्षेत्र में तनाव पैदा हो गया था.’

ये भी पढ़ें-दफनाने की हो रही थी तैयारी, लेकिन जिंदा हो उठा मुर्दा, परिजन लेकर भागे अस्पताल

पिता की हत्या के वक्त उम्र थी एक माह, अब 29 साल बाद लिया बदला
First published: July 3, 2019, 2:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...