3 महीने में दिखे पॉक्सो एक्ट के बदलाव, वर्ना करुंगी आंदोलन: स्वाति मालिवाल

जब तक देश की आखिरी लड़की तक बलात्कारियों से सुराक्षित नहीं हो जाती हमारी लड़ाई जारी रहेगी.

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: April 23, 2018, 6:11 PM IST
नासिर हुसैन
नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: April 23, 2018, 6:11 PM IST
बीते 10 दिन चला अनशन मेरी तपस्या नहीं थी. ये तो देश के हर कोने से लोगों द्वारा दिया गया साथ था. ये ही वजह है कि विदेश से लौटने के बाद पीएम नरेन्द्र मोदी को कैबिनेट की जरूरी बैठक बुलानी पड़ी. अध्यादेश लाना पड़ा. राष्ट्रपति ने भी उस पर अपनी मुहर लगा दी. लेकिन लड़ाई तो अभी शुरु हुई है. ये कहना है दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल का. न्यूज18 हिन्दी से खास बातचीत में उन्होंने कहा कि जब तक देश की आखिरी लड़की तक बलात्कारियों से सुराक्षित नहीं हो जाती हमारी लड़ाई जारी रहेगी.

पॉक्सो एक्ट में हुए सुधार से क्या स्वाति संतुष्ट हैं. इस सवाल के बारे में उनका कहना है कि ‘जैसा सरकार ने कहा है अगर उसके अनुसार तीन महीने में फॉस्ट ट्रेक कोर्ट और पुलिसकर्मियों की संख्या नहीं बढ़ाई गई तो मैं एक बार फिर से आंदोलन करुंगी. और ये आंदोलन देशभर में चलाया जाएगा. लेकिन कानून में बदलाव के साथ-साथ लोगों को अपनी मानसिकता में भी बदलाव लाना होगा.’

देश में फांसी की सजा पाए 28 लोगों की दया याचिका खारिज की गई है. लेकिन अभी तक उन्हें फांसी नहीं दी गई है? इस पर स्वाति ने कहा कि ‘हमारी सभी प्रमुख मांग मानी गई हैं. अनशन खत्म हुआ है, लेकिन संघर्ष जारी रहेगा. एक एक कर जीत हासिल करनी होगी. कठुआ जैसा केस हरियाणा में भी हुआ है. बहुत ही शर्मनाक है. ऊपर से नीचे तक सिस्टम सुधारना होगा.’

कहा जा रहा है कि आपका अनशन राजनीति के लिए हुआ? इस बारे में स्वाति का कहना है कि ‘ 10 दिन भूखे रहना मुश्किल है. मैं कोई राजनीति नहीं कर रही थी. मैं आम लड़की हूं. मैं निर्भया और बच्चियों की चीख नहीं सुन सकती. पॉक्सो एक्ट में संशोधन होने का मुझे कोई क्रेडिट नहीं चाहिए.’ आईआईटी के पूर्व छात्रों द्वारा पार्टी बनाने के सवाल को स्वाति मालिवाल टाल गईं.
First published: April 23, 2018, 3:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...