चीन ने NSG में भारत की एंट्री पर फिर लगाया अड़ंगा, कही ये बात

भारत ने मई, 2016 में NSG की सदस्यता के लिए आवेदन किया था. तब से ही चीन बार-बार अड़ंगा लगा रहा है.

News18Hindi
Updated: June 22, 2019, 7:48 AM IST
चीन ने NSG में भारत की एंट्री पर फिर लगाया अड़ंगा, कही ये बात
चीन भारत के एनएसजी में सदस्यता के लिए आवेदन के समय से ही बार-बार रोड़े अटका रहा है.
News18Hindi
Updated: June 22, 2019, 7:48 AM IST
भारत को लेकर चीन का असली चेहरा एक बार फिर बेनकाब हो गया है. चीन ने न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) में भारत की एंट्री पर एकबार फिर अड़ंगा लगा दिया है. वह न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप में भारत की एंट्री पर राजी नहीं है. चीन ने कहा कि गैर-एनपीटी सदस्यों के लिए विशेष योजना बनाए जाने से पहले भारत को इस एलीट ग्रुप में शामिल करने को लेकर कोई चर्चा नहीं होगी.

स्पष्ट योजना तैयार होने तक चर्चा के सारे दरवाजे बंद
चीन ने कहा कि जब तक समूह में परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) के गैर सदस्य देशों की भागीदारी को लेकर स्पष्ट योजना तैयार नहीं की जाती, तब तक चर्चा के सारे दरवाजे बंद हैं. बता दें कि कजाकिस्तान की राजधानी अस्ताना में 20-21 जून को NSG की पूर्ण बैठक हुई. कहा जा रहा है कि चीन ने इस मसले पर सदस्य देशों के बीच आम सहमति बनाने को लेकर टाइमलाइन देने से भी इनकार कर दिया है.

NSG 48 सदस्य देशों का समूह है

बता दें कि भारत ने मई] 2016 में NSG की सदस्यता के लिए आवेदन किया था. तब से ही चीन अड़ंगा लगा रहा है. चीन लगातार कह रहा है कि परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर करने वाले देशों को ही संगठन में शामिल किया जाए. NSG 48 सदस्य देशों का समूह है, जो वैश्विक तौर पर परमाणु व्यापार को नियंत्रित करता है. भारत और पाकिस्तान एनपीटी पर हस्ताक्षर करने वाले देशों में नहीं हैं. भारत के बाद पाकिस्तान ने भी 2016 में इसका सदस्य बनने के लिए आवेदन किया था.

प्रक्रियाओं का हो पालन
एनएसजी में भारत के प्रवेश के समर्थन को लेकर पूछे गए सवाल पर चीन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने कहा कि इस पर कोई चर्चा नहीं हुई है. लू ने कहा कि हम भारत के प्रवेश को नहीं रोक रहे हैं. बीजिंग ने सिर्फ इतना कहा है कि एनएसजी के नियमों और प्रक्रियाओं का पालन किया जाना चाहिए.
चीन ने 2-स्टेप प्लान की मांग की
भारत को इस विशेष क्लब में शामिल करने के लिए चीन 2-स्टेप प्लान की मांग कर रहा है. इसके तहत वह NSG सदस्यों से गैर-NPT देशों की एंट्री के लिए कुछ नियमों पर प्रतिबद्धता चाहता है और उसके बाद ही चर्चा पर आगे बढ़ना चाहता है.

ये भी पढ़ें- बिहार बीजेपी का हर सांसद चमकी पीड़ितों को देगा 25 लाख की मदद

जब ट्विटर पर सुशील मोदी बन गए मुख्यमंत्री तो RJD ने ली मौ
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...