दिल्ली हाईकोर्ट: तय मानकों का पालन नहीं करने वाले कोचिंग सेंटर होंगे सील

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा है कि जो कोचिंग सेंटर तय मानकों और नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं, उनको सील किया जाए. इन कोचिंग सेंटरों में अग्निशमन यंत्र तक नहीं लगाया जा सका है.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 9:59 PM IST
दिल्ली हाईकोर्ट: तय मानकों का पालन नहीं करने वाले कोचिंग सेंटर होंगे सील
दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा है कि जो कोचिंग सेंटर तय मानकों और नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं उनको सील किया जाए.
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 9:59 PM IST
दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा है कि जो कोचिंग सेंटर तय मानकों और नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं, उनको सील किया जाए. दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली के सभी सरकारी एजेंसियों को कोचिंग संस्थानों में जाकर निरीक्षण करने के लिए कहा है. हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार, दिल्ली जल बोर्ड, फायर सर्विस और बिजली कंपनियों को कोचिंग संस्थानों में निरीक्षण करने का निर्देश देते हुए जल्द कार्रवाई करने को कहा है. दिल्ली हाईकोर्ट ने सोमवार को एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए यह निर्देश जारी किया है.

ताकि गुजरात जैसी घटना दिल्ली में न हो

बता दें कि इसी साल 24 मई को गुजरात के सूरत के सरथाना इलाके में तक्षशिला कॉम्प्लेक्स नाम की एक बिल्डिंग की चौथी मंजिल पर चल रहे एक कोचिंग सेंटर में आग लग गई थी. इस हादसे में 22 छात्रों की दर्दनाक मौत हो गई थी. इस हादसे के बाद से ही देश के दूसरे राज्यों में भी अवैध तरीके से चल रहे कोचिंग सेंटर को बंद करने की मांग उठने लगी थी. इसी को ध्यान में रखते हुए दिल्ली हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई थी.

सूरत के सरथाना इलाके में तक्षशिला कॉम्प्लेक्स नाम की एक बिल्डिंग की चौथी मंजिल पर चल रहे एक कोचिंग सेंटर में आग लग गई थी
सूरत के सरथाना इलाके में तक्षशिला कॉम्प्लेक्स नाम की एक बिल्डिंग की चौथी मंजिल पर चल रहे एक कोचिंग सेंटर में आग लग गई थी


बता दें कि दिल्ली सहित देश के दूसरे हिस्सों में कोचिंग उद्योग धड़ल्ले से फल-फूल रहे हैं. देश के तमाम छोटे-बड़े शहरों और कस्बों में तरह-तरह के कोचिंग संस्थान चल रहे हैं. इन संस्थानों में आईआईटी, मेडिकल में प्रवेश के अलावा संघ लोक सेवा आयोग की प्रतियोगी परीक्षाओं और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कोचिंग होते हैं.

देश के कई हिस्सों में कोचिंग उद्योग का जाल

हाल के वर्षों में देश के कई हिस्सों में कोचिंग उद्योग काफी खुल रहे हैं. जानकारों का मानना है कि भारतीय स्कूली शिक्षा प्रणाली छात्रों की जरूरतों के लिहाज से पुरानी पड़ गई है. इसी का नतीजा है कि देश में कोचिंग उद्योग काफी तेजी से उभर रहे हैं, जो तय मानकों का ठेंगा दिखाते हुए क्षमता से अधिक बच्चों को पढ़ा रहे हैं.
Loading...

छात्रों को उच्च अंक दिलाने, इंजीनियर और डाक्टर बनाने का प्रलोभन देकर भारी भरकम धनराशि ऐंठी जा रही
छात्रों को उच्च अंक दिलाने, इंजीनियर और डाक्टर बनाने का प्रलोभन देकर भारी भरकम धनराशि ऐंठी जा रही


इन कोचिंग संस्थानों में छात्रों को उच्च अंक दिलाने, इंजीनियर और डाक्टर बनाने का प्रलोभन देकर भारी भरकम धनराशि ऐंठी जा रही है और व्यवस्था के नाम पर कुछ नहीं होता है. इन कोचिंग सेंटरों में अग्निशमन यंत्र तक नहीं लगाया जा सका है. इसी की नतीजा है गुजरात जैसी घटना.

ये भी पढ़ें:

दिल्ली के इस नेता का दावा, डल झील के किनारे मनेगा बिहार का सबसे बड़ा त्योहार!

क्या स्पीकर के फैसले ने येडियुरप्‍पा सरकार को संकट से निकाल दिया है?

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 9:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...