लाइव टीवी

Opinion: पीएम मोदी के सही फैसले से कैसे उखड़ रहे हैं आतंकवादियों के पांव

Anil Rai | News18Hindi
Updated: October 21, 2019, 6:22 PM IST
Opinion: पीएम मोदी के सही फैसले से कैसे उखड़ रहे हैं आतंकवादियों के पांव
भारतीय सेना ने पीओके के रास्ते भारत में दाखिल हो रहे आतंकियों की कई खेप को रोक दी है.

भारतीय सेना (Indian Army) और मोदी सरकार (Modi Government) के बीच का तालमेल इतना बढ़िया है कि पाकिस्तान (Pakistan) परस्त आतंकवादियों पर सेना की किसी भी कार्रवाई को लेकर सरकार हमेशा सेना के साथ खड़ी रहती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2019, 6:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के देश के प्रधानमंत्री रहते भारतीय सेना (Indian Army) आठ महीने के अंदर ही दूसरी बार पाक अधिकृत कश्मीर (POK) में दाखिल हुई है. भारतीय सेना ने बीते रविवार को ही पीओके के रास्ते भारत में दाखिल हो रहे आतंकियों के कई समूहों को रोक दिया. सेना ने न सिर्फ आतंकवादियों की घुसपैठ रोकी है, बल्कि पाक अधिकृत कश्मीर में आतंकवादियों के चार कैंप भी तहस नहस कर दिए. इस कार्रवाई में आतंवादियों के साथ पाक सैनिक भी मारे गए. इस बात से यह अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है कि भारतीय सेना का मनोबल सशक्त राजनीतिक इच्छा शक्ति से बहुत ऊंचा हुआ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर मौके पर वो ताकत दिखाई.

पाकिस्तान को मिल रहा है करारा जवाब
भारतीय सेना और सरकार के बीच का तालमेल इतना बढ़िया है कि पाकिस्तानपरस्त आतंकवादियों पर किसी भी कार्रवाई को लेकर सरकार हमेशा सेना के साथ खड़ी रहती है. सरकार और सेना में तालमेल का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जहां पिछली सरकारों में सेना की कार्रवाई के बाद भी सरकार के नेता और सेना के अधिकारी कार्रवाई का श्रेय लेने से घबराते थे, वहीं पीएम मोदी के नेतृत्व में थल सेना अध्यक्ष बिपिन रावत खुद सामने आकर सेना का मनोबल बढ़ाते हैं, जिसका सीधा और सकारात्मक असर सीमा पर तैनात देश के जवानों के मनोबल पर पड़ता है.

हिज्बुल मुजाहिदीन, भारतीय सेना, लश्कर, लेट, नीलम घाटी, पाकिस्तान, पीओके, तंगधार सेक्टर,Hizbul Mujahideen, Indian Army, Lashkar, Let, neelam valley, pakistan, pok, Tangdhar Sector
भारतीय सेना ने पीओके में आतंकी शिविरों पर आर्टिलरी से फायरिंग की. /फाइल फोटो (PTI Photo)


पहले भी होते थे हमले लेकिन जवाबी कार्रवाई का अंदाज बदला
हर साल ठंड की शुरुआत से पहले आतंकवादी पाक अधिकृत कश्मीर के रास्ते भारत में दाखिल होने की कोशिश करते हैं. इस कोशिश में पाकिस्तानी सेना भारतीय चौकियों पर हमला करती है. ऐसे हमलों में अक्सर भारतीय सैनिक शहीद होते रहे हैं. भारत की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तानी सैनिक भी शहीद होते हैं, लेकिन भारतीय सैनिकों के मुकाबले उनकी संख्या न के बराबर रहती थी. लेकिन, भारतीय सेना ने इस बार जिस तरह की जवाबी कार्रवाई की है वैसा पहले कभी नहीं हुआ था. भारतीय सेना ने जिस जज्बे के साथ पाकिस्तानी सेना को सबक सिखाया वो भारतीय सेना के बढ़े हुए मनोबल को बताने के लिए काफी है.

मोदी के प्रधानमंत्री बनते ही पाकिस्तान की टूटी कमर
Loading...

बीते रविवार को पाक अधिकृत कश्मीर में भारतीय सेना ने जिस तरह चार आतंकवादी कैंप उड़ाए और पाकिस्तान के कई सैनिकों समेत लगभग 20 आतंकवादियों को मार गिराया, ये बात पढ़ने और देखने में भले ही आम बात लग रही हो लेकिन सीमा पर रहने वाले लोग जानते हैं कि इस मौसम में इस कार्रवाई से देश को कितना फायदा होने वाला है.

पाकिस्तान के कई सैनिकों सहित लगभग 20 आतंकवादी भी मारे गए हैं.
पाकिस्तान के कई सैनिकों सहित लगभग 20 आतंकवादी भी मारे गए हैं.


दरअसल हर साल ठंड की शुरुआत के पहले पाक प्रशिक्षित आतंकवादी कश्मीर के रास्ते भारत में दाखिल होने की कोशिश करते रहते हैं और कई बार ये सफल भी हो जाते हैं. इस बार भी उनकी यही कोशिश थी लेकिन भारतीय सेना ने इस बार घुसपैठ को रोकने के साथ-साथ चार आतंकवादी शिविरों को खत्म कर दिया. इससे भविष्य में इस रास्ते होने वाले घुसपैठ की संभावनाओं को कम कर दिया गया. प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारतीय सेना हर उस हमले का जबाब देने के लिए तैयार है जो सीधे या फिर परोक्ष रूप से भारत पर किया जाता है.

बता दें कि पहले उरी हमले की जवाबी सर्जिकल स्ट्राइक और फिर पुलवामा हमले पाकिस्तान की सीमा में घुसकर जिस तरह भारतीय सेना ने आतंकवादियों और पाकिस्तान सेना को सबक सिखाया उसके बाद पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. ऐसे में रविवार को हुई इस जवाबी कार्रवाई ने आतंकवाद के साथ-साथ पाकिस्तान के मंसूबों पर पानी फेर दिया है. साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी भारत की मजबूत विदेश नीति के नाते पाकिस्तान को कहीं से भी समर्थन नहीं मिल रहा है. यहां तक की अंतरराष्ट्रीय मदद के अभाव में पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति भी चरमरा गई है.

ये भी पढ़ें: 

कमलेश तिवारी हत्याकांड: पीड़ित परिवार से आज सुबह 11 बजे मुलाकात करेंगे CM योगी, जानें- साथ में कौन होगा?
मुंबई: वोट डालने पहुंची महिला को चुनाव अधिकारी ने लौटाया, बोला-आपकी हो चुकी है मौत!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 5:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...