लाइव टीवी

अब दलित समाज ने उठाई इंडियन आर्मी में वाल्मीकि रेजिमेंट बनाने की मांग!

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 3:20 PM IST
अब दलित समाज ने उठाई इंडियन आर्मी में वाल्मीकि रेजिमेंट बनाने की मांग!
शोभायात्रा के दौरान रेजिमेट की मांग वाली तख्तियां होथों में लिए हुए युवा. (Photo News18 hindi)

बीजेपी के सांसद रहे राजकुमार सैनी (Rajkumar Saini) का कहना है मैं बीते कई वर्ष से सेना (Army) में दलितों (Dalit) के लिए रेजिमेंट (Regiment) बनाए जाने की मांग कर रहा हूं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 3:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अहीर रेजीमेंट (Ahir Regiment) के बाद अब भारतीय सेना (Indian army) में वाल्मीकि रेजिमेंट (Valmiki Regiment) बनाने की मांग उठी है. रविवार को वाल्मीकि जयंती (Valmiki Jayanti) के मौके पर दिल्ली (Delhi) में एक बड़ा समारोह आयोजित किया गया था. शोभायात्रा निकाली गई. इस दौरान यह मांग उठाई गई. इससे पहले यादव महासभा अहीर रेजीमेंट और दलित समाज का एक बड़ा वर्ग चमार रेजीमेंट बनाने की मांग उठाता रहा है. वहीं दूसरी ओर बीजेपी (BJP) के पूर्व सांसद रहे राजकुमार सैनी भी हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 (Haryana Assembly Election 2019) में वाल्मीकि रेजिमेंट बनाने की मांग को मुद्दा बनाए हुए हैं.

हालांकि, दलित नेता एवं आरटीआई एक्टिविस्ट ओपी धामा ने प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर जातियों और क्षेत्रों के नाम पर बनी सेना की रेजीमेंट्स को खत्म करने की मांग की है. उनका कहना है कि अगर देश में जातिवाद को खत्म करना है तो सेना में शहीदों के नाम पर रेजीमेंट बनाई जाएं. फिलहाल तो चुनावी मौसम में वाल्मीकि रेजीमेंट की मांग जोर पकड़ रही है.

 Ahir Regiment, अहीर रेजीमेंट, समाजवादी पार्टी, samajwadi party, dinesh lal yadav, दिनेश लाल यादव, nirahua, Ministry of Defence, रक्षा मंत्रालय, chamar regiment, चमार रेजिमेंट, भीम आर्मी, bhim army, Chandrashekhar Azad, चंद्रशेखर आजाद, indian army, भारतीय सेना, dalit community are demands chamar regiment, yadav community are demands ahir regiment, Rajput Regiment, Jat Regiment, राजपूत रेजीमेंट, जाट रेजीमेंट
भारतीय सेना में रेजीमेंट (स्रोत: आरटीआई)


इस समय सेना में 23 रेजीमेंट हैं. जिनमें से कई जातियों और इलाकों के नाम पर भी हैं. इनमें मुख्य तौर पर जाट रेजीमेंट, राजपूत रेजीमेंट, गोरखा रेजीमेंट, सिख रेजीमेंट, डोगरा रेजीमेंट, पंजाब रेजीमेंट, बिहार रेजीमेंट और असम रेजीमेंट आदि शामिल हैं.  लोकसभा चुनाव से ठीक पहले यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव सेना में अहीर रेजिमेंट और गुजरात इंफेंटरी बनाने की बात अपने चुनावी घोषणा पत्र में की थी.

वाल्मीकि रेजिमेंट पर ये बोले पूर्व सांसद सैनी

बीजेपी सांसद रहे राजकुमार सैनी ने न्यूज18 हिन्दी से बात करते हुए कहा, “मैं लंबे समय से सेना में वाल्मीकि रेजीमेंट बनाने जाने की मांग कर रहा हूं. मेरा कहना है कि सेना में और जातियों की तरह से दलितों के लिए भी रेजिमेंट होनी चाहिए. इस जाति की ताकत पर किसी को कोई शक नहीं होना चाहिए. और मैं इस मुद्दे को हरियाणा के विधानसभा चुनावों की जनसभाओं में भी उठा रहा हूं.”

रेजिमेंट की मांग वाली तख्तियां लेकर आए थे युवा  
Loading...

रविवार को दिल्ली में लाल किले के पास एक भव्य वाल्मीकि जयंती समारोह का आयोजन किया गया था. समारोह में अलग-अलग सियासी पार्टियों से भी लोग इकट्ठा हुए थे. कार्यक्रम के बाद शोभायात्रा भी निकाली गई. शोभायात्रा के दौरान बहुत सारे युवा हाथों में तख्तियां लिए हुए थे. जिन पर लिखा था कि वाल्मीकि रेजिमेंट बनाने की सरकार से अपील करते हैं. शोभायात्रा के दौरान एक झांकी ऐसी भी थी जिस पर इंडिया गेट बना हुआ था, तोप बनाई गई थी.

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव अहीद रेजिमेंट बनाने की मांग उठा चुके हैं. (File Photo)


जानकारों की मानें तो सेना में जातिवार रेजिमेंट्स का गठन 1857 की क्रांति के बाद हुआ था. हालांकि आजादी के बाद सरकार ने जाति आधारित रेजिमेंट्स को न जोड़ने का फैसला किया था. 1947 के बाद से अब तक इस नीति में कोई बदलाव नहीं हुआ है.

ये भी पढ़ें-

अयोध्या विवाद पर मौलाना रशीद फिरंगी का बयान- कभी दूसरा पक्ष जमीन देने की बात क्यों नहीं कहता

एक चूहा पकड़ने में 22 हजार रुपये खर्च करता है चेन्नई रेल डिवीजन, 3 साल में खर्च किए 6 करोड़!

नागपुर रेलवे स्टेशन पर चूहे पकड़ने को हर रोज होती है 166 कर्मचारियों की तैनाती, खर्च होते हैं 1.45 लाख रुपये

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 2:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...