डेंगू और चिकनगुनिया को लेकर केजरीवाल का बड़ा एलान, अब भगाएंगे मच्छर

दिल्ली (Delhi) में डेंगू-चिकनगुनिया (Dengue-Chikungunya) से लड़ने के लिए दिल्ली सरकार (Delhi Government) बड़े पैमाने पर मुहीम चलाने जा रही है. एक सिंतबर (1 September 2019) से दिल्ली सरकार स्लोगन (SLOGAN) के जरिए घर-घर लोगों को जागरूक करेगी.

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: August 28, 2019, 4:42 PM IST
डेंगू और चिकनगुनिया को लेकर केजरीवाल का बड़ा एलान, अब भगाएंगे मच्छर
दिल्ली में 7 हजार 800 करोड़ रुपए का बजट सिर्फ हेल्थ और एजुकेशन पर है.
Ravishankar Singh
Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: August 28, 2019, 4:42 PM IST
दिल्ली (Delhi) में डेंगू और चिकनगुनिया (Dengue and Chikungunya) से लड़ने के लिए केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) बड़े पैमाने पर मुहिम चलाने जा रही है. एक सितंबर (1 September 2019) से दिल्ली सरकार स्लोगन (Slogan) के जरिए घर-घर लोगों को जागरूक करेगी. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) भी इस अभियान का हिस्सा होंगे. दिल्ली में मच्छरजनित (मच्छरों की वजह से होने वाली) बीमारियों से बचने के लिए यह अब तक का सबसे बड़ा अभियान है. डेंगू-मलेरिया और चिकनगुनिया से बचाव के लिए '10 हफ्ते, 10 बजे, 10 मिनट' का स्लोगन के जरिए दिल्ली सरकार पूरी दिल्ली में कैंपेन करेगी.

डेंगू और चिकनगुनिया को भगाना है
इस कैंपने की मॉनिटरिंग खुद सीएम अरविंद केजरीवाल करेंगे. इस काम में केजरीवाल के मंत्री और विधायक भी उनका साथ देंगे. इस काम में स्कूली बच्चों को भी शामिल किया जाएगा. इस साल डेंगू-चिकनगुनिया फैलने से रोकने के लिए दिल्ली सरकार विशेष जागरुकता अभियान चला रही है. सरकार ने कहा है कि इस बार पहले से बेहतर तैयारी है. सभी सरकारी अस्पतालों को इसके लिए तैयार किया गया है. जरूरत पड़ने पर 20 फीसदी बेड डेंगू-चिकनगुनिया के लिए रिजर्व किया जाएगा.

arvind kejriwal
इस अभियान में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मंत्री और विधायक भी उनका साथ देंगे (फाइल फोटो)


बुधवार को केजरीवाल ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'भारत उन 100 देशों में एक देश है, जहां डेंगू-चिकनगुनिया जैसी बीमारी सबसे ज्यादा है. पिछले कुछ सालों से देश में बड़े पैमाने पर इसकी संख्या में बढ़ोतरी हुई है. पिछले कुछ सालों में पूरे देश मे सबसे ज्यादा मौत डेंगू-चिकनगुनिया से हुई थी, लेकिन दिल्ली में सरकार की कोशिश से इस पर बहुत हद तक काबू पाया गया. बीते 3 सालों  दिल्ली में 80 फीसदी डेंगू-चिकनगुनिया कम हुआ है. इस साल एक भी मौत नही हुई.आज दिल्ली में 7 हजार 800 करोड़ रुपए का बजट सिर्फ हेल्थ और एजुकेशन पर है. पिछले 4 सालों में दिल्ली में हेल्थ सेक्टर में जितना विकास हुआ उतना पहले नही हुआ.'

दिल्ली सरकार कैंपेन की शुरुआत करेगी
अरविंद केजरीवाल ने कहा कि डेंगू और चिकनगुनिया के खिलाफ हमारी कोशिश के बाद ही इसकी संख्या में काफी कमी आई है. साल 2015 में जहां 15 हजार 867 मामले आए थे वहीं 2018 में घटकर 2 हजार 798 हो गई और साल 2019 में हमलोग जीरो की संख्या लाने के लिए प्रयास करेंगे.
Loading...

dengu
साल 2016 में एडिस मच्छर का असर डेंगू के रूप में कम और चिकनगुनिया के रूप में अधिक नजर आया था


बता दें कि साल 2016 में एडिस मच्छर का असर डेंगू के रूप में कम और चिकनगुनिया के रूप में अधिक नजर आया था. पिछले साल दिल्ली का कोई भी अस्पताल ऐसा नहीं था जहां पर चिकनगुनिया का मरीज भर्ती नहीं था. दिल्ली के अस्पतालों का आलम ये था कि मरीजों को बेड नहीं मिलने के कारण घर लौटना पड़ रहा था. अस्पतालों में बेड न होने के कारण मरीज फर्श पर ही लेट जाते थे.

विपक्षी पार्टियों को लगता है चुनावी हथकंडा
दिल्ली में पिछले कुछ सालों से डेंगू और चिकनगुनिया के कारण लगातार मौतें हो रही हैं. साल 2015 में डेंगू से सबसे ज्यादा 60 लोगों की मौत हुई थी. दिल्ली नगर निगम और दिल्ली सरकार के तरफ से हर साल ठोस पहल की बात की जाती रही है. पर, हर साल यही कहानी दोहराती रहती है.

dengu
साल 2015 में डेंगू से दिल्ली में सबसे ज्यादा 60 लोगों की मौत हुई थी


दिल्ली बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद विजय गोयल मीडिया के साथ बातचीत में कहते हैं, 'चुनाव से पहले केजरीवाल को हताशा दिखाई दे रही है. वो लोगों के टेक्स के पैसे को अनाप-शनाप तरीके से लुटा रहे हैं. कल केजरीवाल जी पानी के बिल लेट भरने पर लगे एरियर को माफ कर दिया था. अब उनको पता चला है कि दिल्ली में डेंगू के मच्छर बढ रहे हैं?'

जानकारों का मानना है कि अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) दिल्ली में आगामी विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) को देखते हुए लगातार जनता से जुड़े फैसले ले रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने एक तरह से अपना चुनावी अभियान भी शुरू कर दिया है. अपनी घोषणाओं से वो लोगों के दिलों में घुसने की कोशिश कर रहे हैं. मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी और महिलाओं को डीटीसी बस में मुफ्त यात्रा कराने के बाद अरविंद केजरीवाल अब डेंगू और चिकनगुनिया के जरिए लोगों को यह जताने की कोशिश करेंगे कि वो दिल्ली वालों का कितना ख्याल रखते हैं. हालांकि, उनके विरोधी कहते हैं कि पिछले कुछ वर्षों में राजधानी में डेंगू और मलेरिया से कई मौतें हुईं थीं और स्थिति काफी भयावह थी तब उन्होंने ऐसे किसी अभियान की शुरुआत नहीं की थी.

ये भी पढ़ें:

देश की पहली प्राइवेट ट्रेन का नया टाइम-टेबल जारी, अब गाजियाबाद में भी रुकेगी

अरुण जेटली को अंतिम विदाई न दे पाने का दुख पीएम मोदी को ताउम्र रहेगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 28, 2019, 4:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...