लाइव टीवी

'कोपनहेगन में मेयरों के सम्मेलन में दिल्ली के सीएम केजरीवाल का क्या काम?'

News18Hindi
Updated: October 2, 2019, 6:24 PM IST
'कोपनहेगन में मेयरों के सम्मेलन में दिल्ली के सीएम केजरीवाल का क्या काम?'
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल एक सम्मलेन में भाग लेने डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगन जाने वाले हैं

दिल्ली (Delhi) से जाने वाले एक प्रतिनिधिमंडल के लिए कई द्विपक्षीय बैठकों की योजना बनाई जा रही है. सीएम केजरीवाल (CM Kejriwal) से प्रदूषण (Pollution) को रोकने और जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए दिल्ली के प्रयासों की चुनौतियों और सफलताओं को साझा करने की उम्मीद है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2019, 6:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) 11 अक्टूबर को यूरोपीय देश डेनमार्क (Denmark) की राजधानी कोपनहेगन (Copenhagen) के लिए रवाना हो रहे हैं. केजरीवाल दुनिया के उन 20 नेताओं में शामिल हैं, जो इस बात का प्रण लेंगे कि लघु और दीर्घकालिक प्रतिबद्धताओं से अपने शहर को कैसे प्रदूषण मुक्त किया जाएगा. केजरीवाल दुनिया के बड़े शहरों जैसे पेरिस, लॉस एंजिल्स, कोपनहेगन, पोर्टलैंड, जकार्ता और बार्सिलोना के मेयरों के साथ एक संवाददाता सम्मेलन में भी हिस्सा लेंगे, लेकिन विपक्ष इसे दिल्ली की जनता के पैसों की बर्बादी करार दे रही है. बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने अरविंद केजरीवाल के विदेश जाने को राजनीतिक ड्रामा करार दिया है.

मेयरों का सम्मेलन है, लेकिन दिल्ली की तरफ से CM जाएंगे

दिल्ली सरकार ने गांघी जयंती (Gandhi Jayanti) के दिन एक प्रेस रिलीज जारी कर इस बात की जानकारी दी है. प्रेस रिलीज में सीएम केजरीवाल के पूरे कार्यक्रम के बारे में बताया गया है. इसके मुताबिक, 'दिल्ली से जाने वाले एक प्रतिनिधिमंडल के लिए कई द्विपक्षीय बैठकों की योजना बनाई जा रही है. सीएम केजरीवाल से प्रदूषण को रोकने और जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए दिल्ली के प्रयास के साथ-साथ चुनौतियों और सफलताओं को साझा करने की उम्मीद है. केजरीवाल जलवायु संकट पर विचार-विमर्श करने के लिए शहरी बिजली घरों की उच्च मेज पर न्यूयॉर्क, लंदन, पेरिस, लॉस एंजिल्स और बर्लिन जैसे शहरों के नेताओं की सूची में शामिल होंगे.

odd even scheme success rate in delhi its impact on air pollution pm 2 5 study
केजरीवाल सरकार द्वारा वर्ष 2016 में दिल्ली में चलाया गया ऑड-ईवन स्कीम फेल रहा था


दिल्ली सरकार के मुताबिक, 'C-40 शिखर सम्मेलन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) मार्क वाट्स भी सीएम केरीवाल के साथ बैठक करेंगे. इस मीटिंग में जलवायु नेतृत्व समूह में दिल्ली की निरंतर भागीदारी और दिल्ली में जलवायु परिवर्तन से लड़ने में बड़ी भूमिका पर चर्चा होगी. केजरीवाल दिल्ली में वायु प्रदूषण को कम करने के लिए दिल्ली सरकार की ओर से किए गए प्रयास की विस्तृत जानकारी देंगे.

दिल्ली सरकार का दावा पोल्यूशन कम हुआ है

केजरीवाल ने हाल ही में दावा किया था कि उनकी सरकार दिल्ली के प्रदूषण को 25 प्रतिशत तक कम करने में कामयाब रही है. चार साल पहले तक दिल्ली दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल थी, लेकिन आप सरकार के अथक प्रयासों से इसे कम करने में सफलता मिली है.
Loading...

odd even scheme success rate in delhi its impact on air pollution pm 2 5 study
केजरीवाल सरकार दिल्ली में फिर से ऑड-ईवन लागू करने पर विचार कर रहा है


इस बैठक में मुख्यमंत्री बेहतर बिजली आपूर्ति के लिए सरकार की ओर से किए गए प्रयास पर भी प्रकाश डालेंगे, जिससे जनरेटर सेट का चलन दिल्ली में लगभग बंद हो गया. केजरीवाल सरकार का कहना है कि उनके अथक प्रयासों से दिल्ली में 95 फीसदी इंडस्ट्री को सीएनजी में शिफ्ट कर दिया गया है. इससे औद्योगिक प्रदूषण में भी गिरावट आई है. साथ ही दो थर्मल पावर प्लांट को बंद किया गया है. सरकार के प्रयास से निर्माण स्थलों से होने वाले प्रदूषण में कमी देखने को मिली है. दिल्ली में हरियाली का दायरा बढ़ा है. दिल्ली के पर्यावरण मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि यह भारत के लिए गर्व का विषय है कि देश का एक नेता दुनिया के सामने दिल्ली की सफलता की कहानी पेश करेगा.

कपिल मिश्रा ने कहा है कि अरविंद केजरीवाल अपनी नाकामयाबियों को छुपाने के लिए विदेश जा रहे हैं


वहीं, केजरीवाल सरकार में पूर्व मंत्री रह चुके और अब बीजेपी नेता कपिल मिश्रा न्यूज़ 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं, 'देखिए जहां पर नगर निगम के मेयर को जाना चाहिए वहां हमारे सीएम केजरीवाल खुद जा रहे हैं. दिल्ली विधानसभा चुनाव नजदीक होने के कारण उनका ड्रामा शुरू हो गया है. यह सिर्फ और सिर्फ दिल्ली की जनता को बरगला रहे हैं. दिल्ली को लेकर वो कोपेनहेगन जाने की बात बाद में बताएं, पहले दिल्ली की जनता को बताएं कि उन्होंने प्रदूषण कम करने के लिए क्या किया है? मुझे यह डर है कि वो देश में अपनी भद्द पिटवा ही रहे हैं, विदेश जाकर भी कहीं भारत की भद्द न पिटवा दें. जिस औद्योगिक प्रदूषण को कम करने का वो दावा कर रहे हैं, उसका श्रेय शीला दीक्षित को जाता है. ईस्टर्न और वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे बना है. उसका क्रेडिट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जाता है. केजरीवाल सिर्फ दिल्ली की जनता के पैसों को बर्बाद करने विदेश जा रहे हैं.'

यह भी पढ़ें:

जानें कहां और किस हाल में है गांधीजी की हत्या में इस्तेमाल हुई 'KILLER' कार

सुरक्षा एजेंसियों ने तरनतारन की घटना से लिया सबक, ड्रोन को लेकर बनाया ये प्लान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 2, 2019, 6:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...